IND vs BAN: इंदौर में भारतीय गेंदबाजों ने अपनाई थी खास रणनीति, इशांत ने बताया प्लान

India vs Bangladesh: इंदौर टेस्ट में टीम इंडिया की विशाल जीत में भारतीय गेंदबाजी की सफलता के पीछे एक खास रणनीति थी जिसके बारे इशांत शर्मा ने मैच के बाद बताया. 

IND vs BAN: इंदौर में भारतीय गेंदबाजों ने अपनाई थी खास रणनीति, इशांत ने बताया प्लान
ईशांत शर्मा ने इस मैच में तीन विकेट लिए. ( फोटो: IANS)

इंदौर: टीम इंडिया (Team India) की बांग्लादेश के खिलाफ (India vs Bangladesh) बड़ी जीत के बाद भारत के प्रमुख पेसर इशांत शर्मा (Ishant Sharma) ने टीम इंडिया (Team India) की मैच में रणनीति के बारे में बताया. ईशांत शर्मा का कहना है कि अपनी रणनीतियों को एक-दूसरे के साथ साझा करने से उन्हें काफी फायदा हुआ है. इस मैच में टीम इंडिया के पेसर्स ने 20 में से 14 विकेट लिए थे. 

भारतीय पेसर्स की तिकड़ी छाई
ईशांत, मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) और उमेश यादव (Umesh Yadav) की तिकड़ी के दम पर भारत ने मैच के तीसरे दिन  ही बांग्लादेश को एक पारी और 130 रनों से हरा दिया था. मैच में भारतीय पेसर्स का खास तौर पर योगदान रहा. कहा जा रहा था कि मैच के तीसरे और चोथे दिन गेंदबाजों को टर्न मिलेगा और स्पिनर्स को मदद मिलेगी, लेकिन उससे पहले ही टीम इंडिया ने मैच खत्म कर दिया. 

यह भी पढ़ें: B'day Special: IPL ने पहुंचाया जिस बुलंदी पर, टीम इंडिया में नहीं मिली वह पहचान

क्या खास बात है भारतीय पेसर्स में
ईशांत ने मैच के बाद कहा, "हम हमेशा एक-दूसरे की सफलता का आनंद लेते हैं. एक-दूसरे के साथ बातचीत करने की कोशिश करते हैं और अपनी रणनीतियों को एक-दूसरे के साथ साझा करते हैं. शमी की गेंदबाजी का उल्लेख करना मुश्किल है. मैं थोड़ा कम खेला हूं. मैं 31 का हूं (हंसते हुए). मैं विभिन्न शैली के साथ खेलने की कोशिश कर रहा हूं."

ऐसे होती हैं चीजें आसान
इशांत ने कहा, "शमी गुलाबी गेंद से खेल चुके हैं, इसलिए उनसे कुछ टिप्स लेने की जरूरत है." वहीं शमी ने कहा, "हम कुछ चीजें करने की कोशिश करते हैं. हम एक-दूसरे की सफलता का आनंद लेने की कोशिश करते हैं. मैं ईशांत और उमेश के साथ अच्छी गेंदबाजी करने की कोशिश करता हूं. इससे मेरे लिए चीजें आसान हो जाती है. मैं अपने लेंथ पर ध्यान देता हूं और उसे अच्छे लागू करने की सोचता हूं." 

क्या कहा उमेश ने
दूसरी तरफ मैच में चार विकेट चटकाने वाले उमेश ने कहा कि उन्हें अपनी ताकत के बारे में पता था और इससे एक गेंदबाज के रूप में उन्हें सुधार करने में काफी मदद मिली है. उमेश ने कहा, "मैं अपनी ताकत को कायम रखने की कोशिश करता हूं. पहले, नई गेंदें गेंदबाजों के लिए हुआ करता था, लेकिन अब हमें अपनी ताकत के बारे में पता है. हम नई गेंद से विकेट लेने की कोशिश करते हैं ताकि स्पिनरों के लिए आसान हो. मैं वही करने की कोशिश करता हूं, जो मुझसे उम्मीद की जाती है."
(इनपुट आईएएनएस)