INDvsBAN: अभी पहला टेस्ट हुआ नहीं और टीम इंडिया जुट गई दूसरे टेस्ट की तैयारी में

 India vs Bangladesh: भारत और बांग्लादेश के बीच पहला टेस्ट 14 नवंबर से इंदौर में होना है. भारतीय टीम इंदौर में पिंक बॉल से ट्रेनिंग करेगी. 

INDvsBAN: अभी पहला टेस्ट हुआ नहीं और टीम इंडिया जुट गई दूसरे टेस्ट की तैयारी में

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम इन दिनों बांग्लादेश के खिलाफ (India vs Bangladesh) टेस्ट सीरीज की तैयारी में जुटी है. दोनों टीमों के बीच 14 नवंबर से इंदौर में पहला टेस्ट (Indore Test) खेला जाना है. इसके बाद कोलकाता में 22 नवंबर से दूसरा टेस्ट (Kolkata Test) मैच होगा. ईडन गार्डन्स स्टेडियम में होने वाला यह मैच डे-नाइट (Day-Night Test) होगा. इस मैच में गुलाबी गेंद इस्तेमाल की जाएगी. भारतीय टीम (Team India) शायद पहले टेस्ट से ज्यादा दूसरे टेस्ट मैच को गंभीरता से ले रही है. वह दूसरे टेस्ट मैच की तैयारी पहले टेस्ट मैच से पहले ही कर लेना चाहती है. 

भारतीय क्रिकेट टीम प्रबंधन ने इंदौर में प्रैक्टिस के लिए मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ (एमपीसीए) से गुलाबी गेंदों (Pink Ball) की मांग की है. इसके अलावा रात में प्रैक्टिस का इंतजाम करने को भी कहा गया है. एमपीसीए के सचिव मिलिंद कानमाडिकर ने इसकी पुष्टि की. उन्होंने बताया कि एमपीसीए खिलाड़ियों की मदद करने के लिए पूरी तरह से तैयार है, ताकि वे पिंक बॉल से खेलने के लिए अभ्यस्त हो जाएं.

यह भी पढ़ें: भारत अगर एक कमी दूर कर ले तो जीत सकता है अगला T20 वर्ल्ड कप: शोएब अख्तर 

मिलिंद कनमाडिकर ने कहा, ‘भारतीय टीम ने हमसे अनुरोध किया कि वह रात में पिंक बॉल के साथ ट्रेनिंग करना चाहती है, ताकि कोलकाता डे-नाइट टेस्ट मैच के लिए पूरी तरह से तैयार हो सके. हम इसका पूरा इंतजाम करेंगे.’ टीम के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने भी माना कि पिंक बॉल के साथ खेलने से पहले ट्रेनिंग बहुत अहम है. 

‘बीसीसीआई डॉट टीवी’ ने रहाणे के हवाले से बताया, ‘मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत उत्साहित हूं. यह एक नई चुनौती है. मुझे नहीं पता कि मैच कैसा होगा, लेकिन हमें ट्रेनिंग सेशन के जरिए इसका आइडिया मिलेगा. ट्रेनिंग के बाद ही हमें अंदाजा होगा कि पिंक बॉल कितनी स्विंग करती है और हर सत्र में गेंद कैसे काम करती है. फैन्स के नजरिए से भी यह दिलचस्प होगा.’

उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा, ‘मुझे लगता है कि बल्लेबाज के रूप में गेंद लेट स्विंग होगी और एक बल्लेबाज के रूप यह अच्छा होगा कि आप लेट खेलें. यह मेरा व्यक्तिगत विचार है. इसके अभ्यस्त होने में ज्यादा तकलीफ नहीं होनी चाहिए.’