Christchurch Test: टीम इंडिया का वापसी पर जोर, जानिए कैसा है यहां का नया मैदान

India vs New Zealand: टीम इंडिया की क्राइस्टचर्च में वापसी आसान नहीं, लेकिन नामुमिकन भी नहीं होगी.

Christchurch Test: टीम इंडिया का वापसी पर जोर, जानिए कैसा है यहां का नया मैदान
हेगले ओवल मैदान पर न्यूजीलैंड श्रीलंका के साथ दो टेस्ट मैच खेल चुकी है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दो दिन बाद टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के खिलाफ (India vs New Zealand) दूसरे टेस्ट मैच के लिए क्राइस्टचर्च में उतरना है. दो मैचों की सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया को 10 विकेट से करारी हार मिली. ऐसे में उसके लिए वापसी यहां के रिकॉर्ड देखते हुए आसान नहीं दिख रही है. वैसे टीम इंडिया पहली बार यहां के नए मैदान हेगले ओवल पर खेल रही है.  

क्राइस्टचर्च में टीम इंडिया ने अब तक एमआई स्टेडियम में मैच खेले हैं. यहां का रिकॉर्ड टीम इंडिया के लिए अच्छा नहीं हैं. यहां अब तक टीम ने चार टेस्ट मैच खेले हैं और उसे इनमें से एक में भी जीत नसीब नहीं हुई है. हां दो टेस्ट ड्रॉ जरूर हुए हैं, लेकिन इस बार नए मैदान पर टीम का काम ड्रॉ से नहीं चलेगा. 

यह भी पढ़ें: Wellington Test: कीवी पूर्व दिग्गज ने बताई टीम इंडिया की वह गलती, जो उसे ले डूबी

सीरीज में केवल दो ही टेस्ट मैच हैं और पहला टेस्ट वह हार चुकी है. इसका मतलब यह हुआ कि अगर टीम इंडिया यह टेस्ट मैच ड्रॉ भी करवा सकी तो टीम इंडिया को इसका फायदा नहीं मिलेगा और वह 1-0 से सीरीज हार जाएगी.

यह भी पढ़ें: IND vs NZ: जैमिसन ने विलियम्सन को धर्मसंकट में डाला, इस पेसर की वापसी हुई मुश्किल

इस शहर में टीम इंडिया 30 साल बाद टेस्ट मैच खेल रही है, इसलिए इतने पुराने रिकॉर्ड से टीम के बारे में कोई राय बनाना ठीक नहीं होगा. नए मैदान लेकिन इस सीरीज के पहले टेस्ट को देखा जाए तो चुनौती कोई बहुत अलग नहीं होगी.

हेगले का मैदान न्यूजीलैंड का सबसे बड़ा मैदान माना जाता है. वहीं यहां की आउट फील्ड काफी कुछ लॉर्ड्स के मैदान की तरह है.  बाउंड्री की तरफ मैदान में ढलान ज्यादा है. मैदान पेसर के लिए मददगार तो होगा, लेकिन यहां वेलिंगटन की तरह तेज हवाएं नहीं चलती. वहीं मैदान काफी खुला है. इस वजह से हवा का फायदा पेसर उठा सकते हैं यहां पहले टॉस जीतने वाली टीम पहले गेंदबाजी करना पसंद करती है.