IND vs NZ 1st Test Day 3: टीम इंडिया ने गंवाया मौका, जानिए कैसा रहा दिन का खेल

India vs New Zealand: तीसरे दिन टीम इंडिया का पास वेलिंगटन टेस्ट में वापसी का मौका था, लेकिन उसने वह खो दिया. 

IND vs NZ 1st Test Day 3: टीम इंडिया ने गंवाया मौका, जानिए कैसा रहा दिन का खेल
न्यूजीलैंड वेलिंटगटन टेस्ट के तीसरे दिन फ्रंट फुट पर आ गई है. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पास न्यूजीलैंड के खिलाफ (India vs New Zealand) पहले टेस्ट के तीसरे दिन वापसी की मौका था. भारत के पहली पारी में 165 रन पर आउट होने और फिर न्यूजीलैंड के पहले पांच विकेट 216 रन पर गिरने के बाद लग रहा था की टीम इंडिया वापसी करेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

पहले न्यूजीलैंड की टीम ने आउट होते होते 348 रन का पहाड़ खड़ा कर दिया और दूसरी पारी में टीम इंडिया के चार अहम विकेट 113 रन पर ही गिरा कर मैच में हावी हो गई. दिन का खेल खत्म होने तक अजिंक्य रहाणे (25) और हनुमा विहारी (15) क्रीज पर थे और टीम इंडिया न्यूजीलैंड से अब भी 39 रन पीछे थी. 

यह भी पढ़ें: Wellington Test: न्यूजीलैंड में भी छाए ईशांत, लगातार दूसरी बार लिया 5 विकेट हॉल

दिन की शुरुआत टीम के लिए अच्छी हुई, जब दिन की पहली ही गेंद पर जसप्रीत बुमराह ने बीजे वाटलिंग का विकेट गिरा दिया.  इसके बाद ईशांत ने 225 के स्कोर पर ही टिम साउदी के रूप में न्यूजीलैंड का 7वां विकेट गिराया, तब लगा की टीम इंडिया के पास पहली पारी की भरपाई करने का एक मौका है. 

विराट कोहली की उम्मीदों पर सबसे पहले पानी कोलिन डि ग्रैंडहोम और काइल जैमिसन ने फेरा. दोनों ने मिलकर 71 रन की साझेदारी की और टीम को 300 के करीब पहुंचा दिया. यहां अश्विन ने टीम इंडिया की वापसी कराई और जेमिसन की तेज (45 गेंदों में 44 रन) पारी को लगाम लगाया.

जैमिसन के बाद ग्रैंडहोम ने न्यूजीलैंड के 300 रन के पार तो करा दिया, लेकिन वे 310 के स्कोर पर 43 रन बनाकर अश्विन की गेंद पर आउट हो गए. अंत में ट्रेंट बोल्ट ने 38 रन की पारी खेल टीम का स्कोर 348 तक पहुंचा दिया. 

टीम इंडिया की शुरुआत तो ठीक ही हुई, लेकिन पृथ्वी शॉ 14 के स्कोर पर जल्दी ही आउट हो गए. इसके बाद पुजारा तो धीरे ही खेले लेकिन मंयक ने कुछ बढ़िया शॉट्स खेलकर टीम के स्कोर के साथ अपने भी 50 रन पूरे किए, लेकिन चाय से पहले पुजारा (11) बोल्ट की गेंद पर बोल्ड हो गए. 

तीसरे सत्र में विराट कोहली से टीम इंडिया के फैंस को बहुत उम्मीदें थीं. उन्होंने कुछ बढ़िया शॉट्स भी लगाए, लेकिन वे बोल्ट की एक बाउंसर पर विकेट के पीछे कैच देकर पवेलियन लौट गए और 113 के स्कोर पर भारत का चौथा विकेट गिर गया. यहां से रहाणे ने जिम्मेदारी ली और हनुमा विहारी के साथ मिल कर पारी संभाली. एक बार रहाणे के हेलमेट पर गेंद भी लगी, लेकिन उन्होंने अपनी पारी जारी रखी.