IND vs SA: बेंगलुरू टी20 में टीम इंडिया की हार के 5 बड़े कारण

ND vs SA: बेंगलुरू टी20 में टीम इंडिया की करारी हार में विराट कोहली की कप्तानी सहित कई खामियां सामने आईं. 

IND vs SA: बेंगलुरू टी20 में टीम इंडिया की हार के 5 बड़े कारण
टीम इंडिया के हार के पीछे विराट कोहली के कई कप्तानी फैसले भी रहे. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: बेंगलुरू में भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच चल रही टी20 सीरीज का आखिरी मैच टीम इंडिया के लिए अहम था. लेकिन विराट कोहली की टीम ने वह जज्बा नहीं दिखाया जिसकी दरकरार थी. टीम कई मोर्चों में बेहद कमजोर नजर आई जिसका मेहमान टीम ने पूरा फायदा उठाया और वह सीरीज को बराबर करने में कामयाब रही. इस मैच से टीम की बल्लेबाजी सहित गेंदबाजी में भी खामियां दिखाई दीं. 

1 टॉस लेकर पहले बैटिंग करने का विराट का गलत फैसला 
मैच से पहले सुनील गावस्कर ने अपनी पिच रिपोर्ड में कहा था कि पिच बैटिंग के लिए मुफीद है और टॉस जीतने वाली टीम पहले फील्डिंग करना पसंद करेगी. इसके अवाला चेन्नास्वामी की पिच चेस करने के लिए मुफीद मानी जाती है, इसके बावजूद विराट ने पहले बल्लेबाजी करना पसंद किया. विराट का यह फैसला पूरी तरह गलत साबित हुआ. टीम इंडिया का पहले रन बनाने में खासी दिक्कत हुई तो दूसरी पारी में डिकॉक को बैटिंग करने में कोई परेशानी नहीं हुई और आसानी से मैच अपनी टीम के नाम कर लिया.  

यह भी पढ़ें: रितिका ने शेयर की ऐसी तस्वीर कि चहल हो गए परेशान, फिर बहस में कूदकर फैंस ने लिए मजे

2. बल्लेबाजी में बड़े खिलाड़ी रहे फेल
इस मैच में पहले रोहित शर्मा (9) जल्दी आउट हुए उसके बाद विराट कोहली भी (9) रन बनाकर आउट हुए. 9वें ओवर में तीन विकेट खोने से टीम आसानी से दबाव में आ गई. इसके बाद रही सही कसर पंत और अय्यर ने एक के बाद एक लगातार अपने विकेट गंवा कर पूरी कर दी. क्रुणाल भी नहीं चले, लेकिन हार्दिक और रवींद्र जडेजा भी बड़े शॉट्स खेलने में संघर्ष करते दिखे. नतीजा यही हुआ की टीम इंडिया 20 ओवर में 134 रन ही बना सकी और 9 विकेट भी गंवा दिए. 

3. रीव्यू लेने में बड़ी गलती
सातवें ओवर में अंपायर ने सुंदर की गेंद पर डिकॉक को नॉटआउट दिया लेकिन उससे पहले ही विराट रीव्यू गंवा चुके थे. इस समय डिकॉक पूरे फॉर्म में थे और 29 के निजी स्कोर पर थे. इसके बाद डिकॉक ने 51 गेंदों में 79 रन की पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिलाकर ही पवेलियन लौटे. 

यह भी पढ़ें: INDvsSA: कोहली ने माना- ऋषभ पंत और अय्यर के बैटिंग ऑर्डर में गलतफहमी हो गई...

4 .भारतीय गेंदबाज बनाने में नाकाम
बेशक 135 रन का लक्ष्य डिफेंड करने के लिहाज से कोई बड़ा लक्ष्य नहीं था, लेकिन मैच के दौरान कही ऐसा नहीं लगा की टीम इंडिया कड़ी टक्कर देने के इरादे से खेल रही है. भारतीय गेंदबाजों की लाइन और लेंथ में सटीकता का पूरा अभाव दिखा और मेहमान टीम के बल्लेबाज कहीं परेशान नहीं दिखे. इस सबका नतीजा यह दिखा कि जहां टीम इंडिया के दिग्गज बल्लेबाजों को रन बनाने में बहुत दिक्कत आ रही थी उसके अगले ही घंटे उसी पिच पर डिकॉक आसानी से रन बनाते दिखे. 

5. पंत, अय्यर जैसे खिलाड़ियों ने गंवाया मौका
मैच में विराट, धवन और रोहित के आउट होने से श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत के पास खुद को साबित करने का एक मौका था, लेकिन दोनों ही खिलाड़ी बुरी तरह से नाकाम रहे. यहां 9वें ओवर में ही पंत और अय्यर को एक शानदार मौका मिला था कि वे टीम में अपनी अहमियत साबित करते लेकिन दोनों ही इसमें नाकाम रहे और अपनी पारी 13वें ओवर में ही खत्म कर पवेलियन वापस लौट आए.