close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND vs SA Pune test Day 3: भारत को तरसाया टेल एंडर्स ने, 275 पर सिमट सकी मेहमान टीम

India vs South Africa: पुणे टेस्ट के तीसरे दिन के दूसरे सत्र में टीम इंडिया के गेंदबाजों को दक्षिण अफ्रीकी पारी समेटने में काफी मुश्किल आई.

IND vs SA Pune test Day 3: भारत को तरसाया टेल एंडर्स ने, 275 पर सिमट सकी मेहमान टीम
केशव महाराज ने दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा रन बनाए. (फोटो : IANS)

नई दिल्ली: पुणे में चल रहे भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच दूसरे टेस्ट मैच के तीसरा दिन मिला जुला ही रहा. जिस तरह से मैच के दूसरे दिन 601 के स्कोर पर टीम इंडिया ने अपनी पारी घोषित करने के बाद केवल 36 के स्कोर पर मेहमान टीम के तीन विकेट झटके थे, उससे लग रहा था की दक्षिण अफ्रीका के लिए 200 रन बनाना ही मुश्किल हो जाएगा. तीसरे दिन के पहले सत्र में भारतीय गेंदबजों ने 100 रन देकन तीन विकेट झटक कर उम्मीदें बनाए रखीं, लेकिन इसके दो विकेट गिरने के बाद टेल एंडर्स ने टीम इंडिया के गेंदबाजों ने पसीने छुड़ा दिए और टीम 275 पर आउट हो सकी. 

केशव फिलेंडर ने बढ़ाई मुश्किल
मेजबान गेंदबाजों की मुसीबत केश्व महाराज और फिलेंडर ने बढाई जब दोनों ने 9वें विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी कर ली और अपनी टीम का स्कोर 271 रन कर दिया. उस समय दिन का खेल खत्म होने वाला था. उसके बाद अश्विन ने रबाडा के एलबीडब्ल्यू कर मेहमान टीम की पारी समेट दी. इससे पहले विशाखापत्त्नम टेस्ट की पहली पारी में टेल एंडर्स ने टीम इंडिया को पारी समेटने में मुश्किलें खड़ी थी. उस पारी में डेन पिड्ट, मुथुस्वामी और कगीसो रबाडा ने टीम इंडिया के गेंदबाजों को परेशान किया था. 

यह भी पढ़ें: विराट के दोहरे शतक को हल्का बताने के लिए अंग्रेजी पूर्व कप्तान ने पिच का बनाया बहाना

केवल 136 पर ही गिर गए पहले 5 विकेट
पहले सत्र में टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका के छह विकेट 136 रन के स्कोर पर गिरा दिए. इसमें शमी ने एनरिक नोर्त्जे को और फिर उमेश यादव ने डि ब्रुईन को जल्दी ही आउट किया और उसके बाद 31 रन का पारी खेकर 31 रन पर अश्विन की गेंद पर बोल्ड हो गए. वहीं फाफ डु प्लेसिस ने अपना विकेट बचाए रखते हुए अपनी फिफ्टी भी पूरी की. लंच के बाद उम्मीद की जा रही थी की टीम इंडिया दूसरे सत्र में तो अंतिम चार विकेट ले ही लेगी, लेकिन इस सत्र में वेह केवल दो ही विकेट गिरा सकी. 

डि प्लेसिस के जाने के बाद बढ़ी थीं भारत की उम्मीदें
लंच के बाद जब डु प्लेसिस मुथुस्वामी के साथ क्रीज पर आए तो दक्षिण अफ्रीकी टीम की वे ही उम्मीद बचे थे. टीम तब भारत से 465 रन पीछे थी. जडेजा ने लंच के अपने दूसरे ओवर में ही मुथुस्वामी को पवेलियन भेज दिया. इसके 14 ओवर के बाद अश्विन ने डु प्लेसिस को 64 के स्कोर पर उपकप्तान रहाणे के हाथों स्लिप पर कैच करा दिया. अब 162 के स्कोर पर मेहमान टीम के 8 विकेट गिर चुके थे. फिलेंडर का साथ देने केशव महाराज क्रीज पर आए. यहां से दोनों ने पारी को संभाला और टीम इंडिया के दिग्गज गेंदबाजों के लिए इन्हें आउट करना मुश्किल हो गया. दूसरे सत्र में दोनों ने अपनी टीम का स्कोर 197 तक पहुंचाया और 35 रन की साझेदारी भी की. 

अश्विन ने लिए चार विकेट
टीम इंडिया के लिए उमेश यादव ने तीन, आर अश्विन ने चार, मोहम्मद शमी ने दो और रवींद्र जडेजा ने एक विकेट लिया. वहीं केशव महाराज दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे. उनके 72 रन के बाद कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने 64, फिलेंडर ने 44 क्विंटन डिकॉक ने 31 और डि ब्रुइन ने 30 रन की पारी खेली.