close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND vs SA: डिकॉक ने खोला जीत का राज, बताया कैसे दी टीम इंडिया को हर विभाग में मात

IND vs SA:  बेंगलुरू टी20 में दक्षिण अफ्रीका की टीम इंडिया की जीत में क्विंटन डिकॉक की पारी और टीम की गेंदबाजी का अहम योगदान था. 

IND vs SA: डिकॉक ने खोला जीत का राज, बताया कैसे दी टीम इंडिया को हर विभाग में मात
क्विंटन डिकॉक को मैन ऑफ द सीरीज का खिताब दिया गया. (फोटो : IANS)

बेंगलुरू (कर्नाटक): भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच टी20 सीरीज का आखिरी मैच मेहमान टीम के नाम रहा. रविवार को हुए इस मैच में दक्षिण अफ्रीकी टीम ने शानदार वापसी की और टीम इंडिया को मैच के हर विभाग में मात दी. मैच में कप्तान क्विंटन डिकॉक (Quinton de Kock) ने शानदार 79 रनों की नाबाद पारी खेल अपनी टीम की जीत को आसान कर दिया. इससे पहले टीम के गेंदबाजों और फील्डर्स ने बेहतरीन प्रदर्शन किया. डिकॉक ने मैच के बाद जीत का श्रेय कहा की टीम की कड़ी मेहनत रंग लाई. 

इस सीरीज में दक्षिण अफ्रीकी टीम 0-1 से पिछड़ने के बाद दबाव में थी, लेकिन टीम ने बेहतरीन फील्डिंग बॉलिग और बैटिंग का नमूना पेश किया. टॉस हारने के बाद डिकॉक के बॉलर्स ने टीम इंडिया के दिग्गज बल्लेबाजों को 134 रन पर रोका और 9 विकेट भी गिराए. इसके बाद डिकॉक की अगुआई में टीम ने केवल एक विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर लिया. 

यह भी पढ़ें: IND vs SA: बेंगलुरू टी20 हारने के बाद क्यों कह बैठे विराट, 'हम यही चाहते थे'

डिकॉक ने मैच के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, "सीरीज में आने से पहले हमने कड़ी मेहनत की थी, खासतौर पर कैचिंग और फील्डिंग पर. कप्तानी और टीम के नजरिेए से सभी चीजों का साथ आना बढ़िया रहा." डिकॉक ने जोर्न फोर्टिन की गेंदबाजी की तारीफ करते हुए कहा, "मैं युवा स्पिनर जोर्न फोर्टिन के प्रदर्शन से प्रभावित हुं. भारतीय टीम स्पिनर्स के खिलाफ बढ़िया खेलती है. और जिस तरह से उन्होंने गेंदबाजी की, मैं सिर्फ उनकी ज्यादा से ज्यादा तारीफ कर सकता हूं." फोर्टिन ने इस मैच में तीन ओवर में 19 रन देकर दो विकेट लिए. 

इस जीत के साथ दक्षिण अफ्रीका ने सीरीज बराबर करने में कामयाबी हासिल की. टीम के बल्लेबाज रासी वेनडर डुसैन ने डिकॉक के वर्ल्ड क्लास प्लेयर बताते हुए कहा कि डिकॉक ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 79 रन की शानदार पारी खेलते हुए टीम की अगुआई की.

 

उन्होंने कहा, "हम अगर टॉस जीतते तो पहले गेंदबाजी करतेऔर मुझे लगता है कि उन्होंने (टीम इंडिया ने) इतने रन नहीं बनाए कि हम पर दबाव डाल सकें. क्विंटन वर्ल्ड क्लास खिलाड़ी हैं हम यहां जीतने के उद्देश्य से आए हैं और कप्तान ने आगे आकर एक मजबूत संदेश दिया है."