close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND vs WI: बुमराह के तूफान से पहले विहारी ने ठोका शतक, दिवंगत पिता को किया समर्पित

हनुमा विहारी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ शानदार शतक लगाया. इस शतक को उन्होंने अपने दिवंगत पिता को समर्पित किया. 

IND vs WI: बुमराह के तूफान से पहले विहारी ने ठोका शतक, दिवंगत पिता को किया समर्पित
हनुमा विहारी इससे पहले पिछले मैच में शतक के करीब पहुंच कर आउट हो गए थे. (फोटो : IANS)

किंग्सटन (जमैका): भारत और वेस्टइंडीज (India vs West Indies) के बीच चल रही टेस्ट सीरीज के दूसरे टेस्ट के दूसरे दिन हर तरफ टीम इंडिया के पेसर जसप्रीत बुमराह की चर्चा ही छाई रही. लेकिन इस दिन टीम इंडिया के युवा बल्लेबाज हनुमा विहारी ने भी अपनी शानदार बल्लेबाजी की छाप छोड़ी और टीम इंडिया के इस पारी में शतक लगाने वाले इकलौते खिलाड़ी बने. यह विहारी के करियर का पहला टेस्ट रहा.   विहारी ने टेस्ट करियर का पहला शतक अपने दिवंगत पिता को समर्पित किया. 

ईशांत के साथ की 112 रन की साझेदारी
विहारी ने मैच में 111 रन बनाए और तेज गेंदबाज इशांत शर्मा के साथ 112 रनों की साझेदारी भी की. 225 गेंदों की इस पारी में विहारी ने 16 चौके लगाए. इसी वजह से टीम इंडिया पहली पारी में 416 रनों का विशाल स्कोर खड़ा कर सकी. इस पारी में ईशांत शर्मा ने भी 57 रन बनाए और वे टीम इंडिया के लिए तीसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे. सबसे ज्यादा रन हनुमा विहारी (111) रन और उसके बाद कप्तान विराट कोहली ने 76 रन बनाए. 

यह भी पढ़ें: एंटिगा के बाद जमैका में भी छाए जसप्रीत बुमराह, हैट्रिक और ‘छक्के’ से ढाया कहर

12 साल की उम्र में हनुमा को छोड़ गए थे उनके पिता
दिन समाप्त होने के बाद विहारी ने कहा, "जब मैं 12 साल का था तभी मेरे पिता का देहांत हो गया थ और तब से मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का निर्णय लिया. मैं अपना पहला शतक उन्हें समर्पित करना चाहता हूं." विहारी ने कहा, "आज बहुत ही भावुक दिन है ओर मुझे उम्मीद है कि वे जहां भी होंगे उन्हें मुझ पर गर्व होगा." उन्हेंने कहा, “लंच तक मैं 84 रन पर खेल रहा था. उसके बाद मुझे 90 में जाने में दिक्कतें आईं. लंच के बाद उन्होंने बढ़िया गेंदबाजी की. हमें उनके गेंदबाजों को श्रेय देना होगा. हमने 416 रन तो बनाए लेकिन इससे उनकी बढ़िया गेंदबाजी का पता नहीं चलता.”

ठीक से सो नहीं पाए थे पिछली रात
उन्होंने माना कि वह पहले दिन का खेल समाप्त होने के बाद ठीक से नींद नहीं ले पाए थे. विहारी ने कहा, "मैं कल 42 रन पर बल्लेबाजी कर रहा था, तो मुझे रात में बहुत अच्छी नींद नहीं आई. मैं एक बड़ा स्कोर बनाना चाह रहा था और मुझे खुशी है कि मैंने उस 100 के आकड़े को पार कर लिया. ईशांत  भी इस शतक के लिए श्रेय के हकदार हैं, जिस तरह से उन्होंने बल्लेबाजी की. मैं उन परिस्थितियों में शतक जड़कर बहुत खुश हूं. इसने मुझे काफी संतोष दिया."

पहले सत्र में भी थी कड़ी चुनौती
विहारी ने कहा, “मैं जानता था कि वे पहले सत्र में वापसी करेंगे क्योंकि वह उनके लिए बढ़िया मौका था. उन्होंने ऋषभ का विकेट भी पहली ही गेंद पर लिया. मैं केवल धैर्य से बल्लेबाजी करना चाह रहा था और सही एरिया में गेंद आने का इंतजार कर रहा था. मैंने यही किया और मुझे खुशी है कि मैं गेम प्लान को लागू करने में कामयाब रहा.”

उन्होंने कहा, “हमने शानदार गेंदबाजी की. जिस तरह बुमराह और बाकी गेंदबाजों ने बॉलिंग की. हम अपनी योजना पर कायम रहे. कल का गेम प्लान मुझे नहीं मालूम है. हमारी कोशिश होगी कि हम जितनी जल्द हो सके उन्हें आउट कर दें. उसके बाद मैनेजमैंट तय करेगा कि हम बैटिंग करेंगे कि बॉलिंग” वेस्टइंडीज की टीम इस समय टीम इंडिया से 329 रन पीछे है. उम्मीद की जा रही है की वेस्टइंडीज को फॉलोऑन खेलना पड़ेगा.
(इनपुट आईएएनएस/एएनआई)