IND vs WI: जमैका में छाए हनुमा विहारी, 29 साल पहले के सचिन तेंदुलकर की दिलाई याद

जमैका टेस्ट के तीसरे दिन टीम इंडिया की स्थिति को मजबूत बनाने में हनुमा विहारी की पारियों को अहम योगदान रहा. इससे पहले 1990 में सचिन तेंदुलकर ने भी इसी तरह की बल्लेबाजी की थी. 

IND vs WI: जमैका में छाए हनुमा विहारी, 29 साल पहले के सचिन तेंदुलकर की दिलाई याद
विहारी ने इस सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं. (फोटो : फाइल)

किंग्सटन (जमैका): आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया के लिए हनुमा विहारी (Hanuma Vihari)  ने वेस्टइंडीज के खिलाफ (India vs West Indies) शानदार बल्लेबाजी की. इस मैच में विहारी ने पहली पारी में शतक ठोका और उसके बाद दूसरी पारी में नाबाद शतक लगाने के बाद अनोखा काम कर दिया. विहारी से पहले सचिन तेंदुलकर भी एक ही टेस्ट में शतक और फिफ्टी जमा कर एक पारी में नाबाद रहे थे.सचिन ने ऐसा 29 साल पहले किया था. 

विहारी ने मैच की पहली पारी में 111 रन बनाए और तेज गेंदबाज इशांत शर्मा के साथ 112 रनों की साझेदारी भी की. 225 गेंदों की इस पारी में विहारी ने 16 चौके लगाए. इसी वजह से टीम इंडिया पहली पारी में 416 रनों का विशाल स्कोर खड़ा कर सकी. इतना ही नहीं दूसरी पारी में 258 रन की बढ़त लेने के बाद टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही और केवल 36 के स्कोर पर ही मयंक अग्रवाल (4), केएल राहुल (6) और कप्तान विराट कोहली (0) पवेलियन लौट गए. उसके बाद चेतेश्वर पुजारा (27) भी 57 के स्कोर पर आउट हो गए. यहां से विहारी ने उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (64) के साथ मिलकर 111 रन की नाबाद साझेदारी की और टीमइंडिया की पारी घोषित होने के समय 53 रन बनाकर पवेलियन लौटे. वेस्टइंडीज को 468 रन का लक्ष्य मिला.

यह भी पढ़ें: B'Day Special: विपरीत हालातों में खुद को बेहतरीन साबित करते जा रहे हैं इशांत शर्मा

सचिन ने 1990 में किया ऐसा काम
एक ही टेस्ट में छठे क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए सेंचुरी और हाफ सेंचुरी लगाते हुए एक बार नाबाद रहने का कमाल 29 साल पहले सचिन तेंदुलकर ने भी किया था. सचिन ने यह उपलब्धि 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में हासिल की थी. तीन टेस्ट मैचों की उस सीरीज में टीम इंडिया का यह दूसरा टेस्ट मैच था. पहला टेस्ट इंग्लैंड ने 247 रन से जीता था. दूसरे टेस्ट में इंग्लैंड ने पहले बैटिंग करते हुए अपनी पहली पारी में 519 रन बनाए थे. इसके जवाब में जब टीम इंडिया ने बल्लेबाजी की तो उस पहली पारी में सचिन ने हाफ सेंचुरी लगाई थी. इस पारी में टीम इंडिया ने 432 रन बनाए थे. 

दूसरी पारी में लगाया नाबाद शतक
दूसरी पारी में इंग्लैंड ने चार विकेट खोकर 320 बनाए और अपनी पारी घोषित कर टीम इंडिया को जीत के लिए 408 रन का टारगेट दिया था. इस पारी में सचिन ने नाबाद 119 रन की पारी खेली थी जिससे टीम इंडिया यह मैच ड्रॉ कराने में सफल हुई थी. उस मैच में भी सचिन ने छठे क्रम पर बल्लेबाजी की थी. 

अब जमैका टेस्ट में विहारी के शानदार प्रदर्शन के दम पर टीम इंडिया को जीत के लिए 8 विकेट और गिराने हैं जबकि वेस्टइंडीज को जीत के लिए 423 रन और चाहिए. विहारी इस सीरीज में टीम इंडिया की ओर से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बन गए हैं. उन्होंने दो टेस्ट मैचों की चार पारियों में 298 रन बनाए है जबकि उनके पीछे अजिंक्य रहाणे ने 271 रन बनाए हैं. विहारी ने पहले टेस्ट में 32 और 93 रन और दूसरे टेस्ट में 111 और 53 रन की पारियां खेली है.