Breaking News
  • 'भारत हमेशा चुनौतियों से बाहर निकला है', इंडिया ग्लोबल वीक 2020 में बोले पीएम नरेंद्र मोदी

ICC ने अंपायरों के एलीट पैनल में दी इस भारतीय को जगह, जानिए कौन हैं वो

नितिन मेनन इस पैनल में शामिल होने वाले अब तक के महज तीसरे भारतीय अंपायर हैं, इससे पहले श्रीनिवास वेंकटराघवन और सुंदरम रवि ये मुकाम हासिल कर चुके हैं.

ICC ने अंपायरों के एलीट पैनल में दी इस भारतीय को जगह, जानिए कौन हैं वो
एक आईपीएल मैच के दौरान भारतीय अंपायर नितिन मेनन.

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट के लिए एक अच्छी खबर आई है. इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने अपने अंपायरों के एलीट पैनल में एक बार फिर भारत को जगह दे दी है. युवा अंपायर नितिन मेनन (Nitin Menon) इस पैनल में जगह पाने वाले तीसरे भारतीय बन गए हैं. महज 36 साल के नितिन आज तक इस पैनल में जगह पाने वाले सबसे युवा अंपायर माने जा रहे हैं. उन्हें एलीट पैनल की वार्षिक समीक्षा और आईसीसी द्वारा संचालित की गई चयन प्रक्रिया के बाद इस पैनल में 2020-21 सीजन के लिए शामिल किया गया है. आईसीसी ने एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी. 

यह भी पढ़ें- रोमांटिक मिजाज के हैं विराट कोहली, अनुष्का से पहले भी उड़े थे इश्क के चर्चे

इंग्लैंड के अंपायर निजेल की जगह लेंगे
एलीट पैनल में नितिन को इंग्लैंड के अंपायर निजेल लांग की जगह दी गई है. लांग को खराब प्रदर्शन के चलते हटाया गया है. 28 सितंबर, 2017 के बाद से लांग के 36.2 फीसदी निर्णय डीआरएस में फेल हो गए थे, जो एलीट पैनल के किसी भी अंपायर के मुकाबले बहुत ज्यादा है. इसी कारण आईसीसी के जनरल मैनेजर ऑफ क्रिकेट ज्योफ एलार्डाइस ( Geoff Allardice) की अध्यक्षता वाली समिति में शामिल पूर्व टेस्ट क्रिकेटर संजय मांजरेकर  (Sanjay Manjrekar) और मैच रेफरियों रंजन मदुगले (Ranjan Madugalle) और डेविड बून (David Boon) ने लांग की जगह मेनन को देने का निर्णय लिया.

भारत के वेंकटराघवन कमा चुके हैं नाम
नितिन से पहले श्रीनिवास वेंकटराघवन और सुंदरम रवि आईसीसी अंपायरों के एलीट पैनल में भारत की तरफ से जगह पा चुके हैं. पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान व अपने जमाने के दिग्गज ऑफ स्पिनर रहे वेंकटराघवन ने लंबे समय तक इस पैनल में सेवा दी थी और उन्हें बेहद सम्मान भी मिला था. रवि पिछले साल ही पैनल से बाहर हुए हैं.

2 रणजी मैच खेले नितिन को लंबा अनुभव
मध्यप्रदेश के लिए महज 2 रणजी ट्रॉफी क्रिकेट मैच खेलकर 7 रन बनाने वाले नितिन को अंपायरिंग का लंबा अनुभव है. नितिन ने  2006 में महज 22 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का ऑल इंडिया अंपायरिंग एग्जाम पास किया था. इसके बाद से ही वे घरेलू मैचों में अंपायरिंग करने लगे थे. वे अभी तक 3 टेस्ट मैच, 24 वनडे मैच और 16 टी-20 मैच के अलावा 57 फर्स्ट क्लास मैच में भी अंपायरिंग कर चुके हैं.

नितिन ने बताया गर्व की बात
आईसीसी ने अपनी प्रेस रिलीज में नितिन मेनन का बयान भी जारी किया है. नितिन ने आईसीसी के एलीट पैनल में आने को अपने लिए गर्व की बात और अपना सपना पूरा होने  जैसा बताया है. साथ ही लिखा है कि मैं जानता हूं इस पद के साथ कितनी जिम्मेदारी आती है. मैं आने वाली चुनौतियों और अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए तैयार हूं. मुझे साथ ही लगता है कि यह मेरे ऊपर भारतीय अंपायरों को आगे ले जाने की जिम्मेदारी है.