close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND vs BAN: ऋषभ पंत के बचाव में उतरे कप्तान रोहित शर्मा, कहा- उन्हें खेलने दें...

India vs Bangladesh: भारत और बांग्लादेश के बीच रविवार को नागपुर में तीसरा टी20 मैच होना है. यह सीरीज का निर्णायक मैच भी होगा. 

IND vs BAN: ऋषभ पंत के बचाव में उतरे कप्तान रोहित शर्मा, कहा- उन्हें खेलने दें...
रोहित शर्मा बांग्लादेश के खिलाफ टी20 सीरीज में कप्तानी कर रहे हैं. (फोटो: IANS)

नागपुर: भारत-बांग्लादेश के बीच जारी टी20 सीरीज खराब प्रदर्शन के बाद ऋषभ पंत (Rishabh Pant) आलोचना से घिरे हुए हैं. खासकर जब से उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में लिटन दास को स्टंपिंग करने का मौका गंवाया है. हालांकि, पंत के लिए अच्छी बात यह है कि रोहित शर्मा (Rohit Sharma) अपने विकेटकीपर बल्लेबाज के पक्ष में खुलकर बैटिंग कर रहे हैं. बांग्लादेश के खिलाफ टीम इंडिया की कप्तानी कर रहे रोहित चाहते हैं कि पंत के प्रशंसक और मीडिया युवा खिलाड़ी को राहत की सांस लेने दें. 

 भारत और बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच रविवार को नागपुर में तीसरा टी20 मैच होना है. रोहित शर्मा ने बांग्लादेश के खिलाफ होने वाले तीसरे टी20 मैच से पहले कहा, ‘आप जानते हैं कि पंत को लेकर काफी तरह की बातें चल रही हैं, हर मिनट. मुझे लगता है कि वे जो चाहते हैं, उसे करने की स्वंत्रता उन्हें देनी चाहिए. मैं सभी से विनती करता हूं कि वे पंत से अपना ध्यान कुछ दिनों के लिए हटा लें.’

यह भी पढ़ें: रोहित शर्मा छक्कों का स्पेशल रिकॉर्ड बनाने के करीब, गेल और आफरीदी से फिर भी पीछे 

रोहित शर्मा ने कहा, ‘पंत निडर खिलाड़ी हैं और हम (टीम प्रबंधन) उन्हें स्वतंत्रता देना चाहते हैं. अगर आप कुछ दिनों के लिए उन पर से ध्यान हटा लोगे तो उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने की स्वतंत्रता मिलेगी. पंत युवा हैं और उन्हें अपने आप को जाहिर करने का मौका मिलना चाहिए.’

रोहित शर्मा ने कहा, ‘पंत 22 साल के युवा हैं जो अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना नाम कमाना चाहते हैं. वे मैदान पर जो भी करते हैं, लोग उसके बारे में बात करना शुरू कर देते हैं. यह सही नहीं है. मुझे लगता है कि हमें उन्हें उनकी क्रिकेट खेलने देनी चाहिए जो वे भी चाहते हैं.’

रोहित साथ ही चाहते हैं कि पंत की खराब चीजों के अलावा वे जो अच्छा कर रहे हैं उस पर भी ध्यान दिया जाए. उन्होंने कहा, ‘वे जब अच्छा करें तो उस पर ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए न कि सिर्फ उनके द्वारा की जाने वाली खराब चीजों पर. वे सीख रहे हैं. ऐसा भी समय आया है, जब उन्होंने अच्छा किया है. वे वही करने की कोशिश कर रहे हैं जो टीम प्रबंधन चाहता है.’