close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिना भत्ते के वेस्टडीज चली गई थी भारतीय महिला टीम, BCCI के दखल से मिली राहत

BCCI: भारतीय महिला क्रिेकेट टीम बिना भत्ते के ही वेस्टइंडीज पहुंच गई थी जहां उसे परेशानियों का सामना करना पड़ा आखिर बीसीसीआई के  हस्तक्षेप से मामला सुलझा. 

बिना भत्ते के वेस्टडीज चली गई थी भारतीय महिला टीम, BCCI के दखल से मिली राहत
भारतीय महिला क्रिकेट टीम को वेस्टइंडीज में 3 वनडे और 5 टी20 मैच खेलने हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की नई टीम शर्मिदगी से तब बच गई जब भारतीय महिला टीम दैनिक भत्ता न मिलने के कारण वेस्टइंडीज में फंस गई थी. तीन वनडे और पांच टी-20 मैचों की सीरीज खेलने गई भारतीय महिला टीम दैनिक बिना भत्ते के ही वेस्टइंडीज चली गई थी. वहां संकट आने के बाद (बीसीसीआई) के नए अधिकारी जल्द ही हरकत में आए और मिताली राज एवं उनकी टीम के खाते में भत्ते जमा कराए.

ऐसे हल हुई समस्या
जहां महिला क्रिकेट के प्रभारी सबा करीम के रवैए के कारण लड़कियों को बिना भत्ते के कारण सीरीज खेलने जाना पड़ा तो वहीं नए अधिकारियों ने बुधवार को जल्द से जल्द खिलाड़ियों के खाते में राशि जमा कराकर परेशानी को हल निकाला, तब जाकर महिला टीम को राहत मिली.

यह भी पढ़ें: ग्लेन मैक्सवेल ने लिया 'इस' वजह से क्रिकेट से ब्रेक, जल्द वापसी की है उम्मीद

क्या पुरानी टीम थी जिम्मेदार?
बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, "सीओए के तहत काम को लेकर बहुत अच्छी बातें हुई और उसके बावजूद हमें ऐसा दिन देखना पड़ा जब हमारी लड़कियां बिना पैसों के विदेशी सरजमी पर मौजूद थीं. इसका कौन जि़म्मेदार है? यदि पूरी वित्तीय प्रक्रिया 18 सितंबर को शुरू की गई थी, तो दस्तावेजों के पूरा होने में 24 अक्टूबर तक का समय क्यों लगा? अगर यह नए पदाधिकारियों ने मुस्तैदी नहीं दिखाई होती तो हम लड़कियों को बिना भत्ते के संघर्ष करते हुए देखते."

कौन साबित हो रहा है जिम्मेदार
एक अन्य अधिकारी ने कहा, "यदि मेरी गणना सही है, तो अनुमति लेने के लिए करीम को 23 सितंबर को पहला मेल भेजा गया था. उन्हें 25 सितंबर को रिमाइंडर भेजा गया और दूसरा रिमाइंडर 24 अक्टूबर को भेजा गया. अखिरकार उन्होंने सीएफओ से आज्ञा लेने के लिए उन्हें एक ईमेल भेजा. क्या यही वह पेशेवर सेट-अप है जिसके बारे में सीओए समय-समय पर बात करता है?"
(इनपुट आईएएनएस)