'भारत के तेज गेंदबाज अगले 2 साल तक धमाल मचाएंगे,' जानिए किसने कही ये बात

टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरूण का कहना है कि भारत के सभी गेंदबाज मिलकर टेस्ट मैच में आसानी से 20 विकेट निकलना बखूबी जानते हैं. 

'भारत के तेज गेंदबाज अगले 2 साल तक धमाल मचाएंगे,' जानिए किसने कही ये बात
जसप्रीत बुमराह (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: टीम इंडिया के बॉलिंग कोच भरत अरुण (Bharat Arun) ने मौजूदा पेस चौकड़ी की जमकर तारीफ करते हुए कहा है कि अगले 2 साल तक भारतीय पेसर क्रिकेट की दुनिया में अपना दबदबा बनाए रखेंगे और टीम के लिए लगातार मैच जीतते रहेंगे. अरुण की मानें तो इशांत शर्मा (Ishant Sharma), मोहम्मद शमी (Mohammed Shami), उमेश यादव (Umesh Yadav) और जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) की ये चौकड़ी भारत को आज गेंदबाजी में नंबर एक टीम बनाती है क्योंकि ये चारों गेंदबाज किसी भी तरह की परिस्थिति में और कैसी भी पिच पर टीम को विकेट दिला सकते हैं.

यह भी पढ़ें-लार पर बैन को लेकर मिचेल स्टार्क की ICC को चेतावनी, जानें क्या कहा

वैसे अरूण ने जो कहा वो काफी हद तक ठीक है क्योंकि क्रिकेट का बड़े से बड़ा विशेषज्ञ इस बात को झुठला नहीं सकता कि आज भारत के पास दुनिया के सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाज हैं जो दुनिया के किसी भी कोने में अपनी टीम को मैच जिताने के लिए एक टेस्ट मैच में 20 विकेट आसानी से ले सकते हैं. कभी टेस्ट मैच में 20 विकेट न ले पाना भारत की बहुत बड़ी कमजोरी हुआ करता था पर आज ये टीम इंडिया की सबसे बड़ी ताकत है.

अब भारत का बड़े से बड़ा बल्लेबाज विफल हो सकता है पर भारतीय तेज गेंदबाज फेल नहीं हो सकते. हाल ही में ऐसे कई उदाहरण देखने को मिलते हैं जब भारतीय बल्लेबाज फेल हो गए, लेकिन गेंदबाजों ने टीम की लाज बचा ली. फिर चाहें 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज हो या फिर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच, इन सभी में गेंदबाजों ने ही टीम इंडिया को जीत दिलाई थी.

इशांत, बुमराह, शमी और उमेश यादव की तारीफ करते हुए अरूण ने एक न्यूज एजेंसी को बताया, 'मौजूदा तेज गेंदबाजों ने असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है और मुझे कम से कम अगले 2 और वर्षों के लिए इस चौकड़ी के साथ कोई समस्या नहीं दिखती है.'

अरुण ने भारतीय गेंदबाजों की अगली पीढ़ी के बारे में भी बात की और कहा, 'हां, तेज गेंदबाजों की अगली पीढ़ी तैयार हो रही है. उन्हें पहचानने के लिए चयनकर्ताओं और कोचों के एक संयुक्त प्रयास की आवश्यकता होगी ताकि मजबूत बेंच स्ट्रेंथ तैयार हो सके. इससे रोटेशन नीति और गेंदबाजों के कार्यभार को संभालने में मदद मिलेगी. यह जरूरी है क्योंकि आप चाहते हैं कि आपके प्रमुख तेज गेंदबाज सर्वश्रेष्ठ अवसरों के लिए तैयार रहें.'

जब अरुण से ये सवाल पूछा गया कि वो लॉकडाउन के बाद कैसे टीम इंडिया के गेंदबाजों को तैयार करेंगे तब उन्होनें कुछ यूं जवाब दिया, 'मैं सभी अनुबंधित तेज गेंदबाजों को शिविर में रखना चाहूंगा, उनमें से कुछ होनहार गेंदबाज (तेज और स्पिन) भी हैं जिन्होंने घरेलू क्रिकेट के साथ-साथ भारत ए के लिए अच्छा प्रदर्शन किया है.'

अरुण ने गेंदबाजों को लार के इस्तेमाल से बचने के लिए टिप्स भी दिए और कहा, 'लार के इस्तेमाल की आदत को रोकना काफी मुश्किल काम होगा. हम अपने अभ्यास सत्रों के दौरान इस आदत को खत्म करने के लिए पूरा प्रयास करेंगे.'