INDvsAUS: ऑस्ट्रेलिया पर उल्टी पड़ेगी पर्थ में हरी पिच की रणनीति: माइकल वॉन

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा टेस्ट पर्थ में शुक्रवार (14 दिसंबर) से खेला जाएगा. फिलहाल चार मैचों की सीरीज में भारत 1-0 से आगे है. 

INDvsAUS: ऑस्ट्रेलिया पर उल्टी पड़ेगी पर्थ में हरी पिच की रणनीति: माइकल वॉन
इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने 82 टेस्ट और 86 वनडे मैच खेले हैं. (फाइल फोटो)

पर्थ: भारत से पहला टेस्ट हारने के बाद ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम पर्थ में हरी पिच पर भारत पर पलटवार करने की कोशिश में है. इसके लिए पर्थ के नए स्टेडियम ऑप्टस की पिच काफी हरी-भरी बनाई गई है. लेकिन इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन को लगता है कि भारत के तेज गेंदबाजों के आक्रमण के खिलाफ हरियाली पिच बनाने का फैसला ऑस्ट्रेलिया पर उलटा पड़ सकता है. भारत और ऑस्ट्रेलिया (India vs Australia) के बीच दूसरा टेस्ट शुक्रवार (14 दिसंबर) से खेला जाएगा. 

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने टेस्ट मैच से एक दिन पहले कहा, ‘इंग्लैंड में और एडिलेड ओवल में भारतीय आक्रमण को देखते हुए निश्चित रूप से बुमराह (जसप्रीत), शमी (मोहम्मद) और इशांत (शर्मा) आज रात यह सोचकर सोएंगे कि शुक्रिया.’ उन्होंने कहा, ‘भारत के तीन तेज गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया के तीन तेज गेंदबाजों को पछाड़ दिया. उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया. ऑस्ट्रेलिया बहुत बहुत बड़ा जोखिम उठा रहा है.’ भारतीय तेज गेंदबाज बुमराह, इशांत, शमी ने एडिलेड में पहले टेस्ट में अहम भूमिका अदा की, जिसमें उन्होंने मिलकर 20 में से 14 विकेट अपने नाम किए. 

यह भी पढ़ें: कोहली की कंगारुओं को वॉर्निंग, उम्मीद है पर्थ की पिच से घास नहीं हटाओगे

माइकल वॉन ने कहा, ‘उन्हें (ऑस्ट्रेलिया) ऐसी पिच बनानी चाहिए थी, जिस पर उन्हें लगता है कि वे भारतीय बल्लेबाजों को आउट कर सकते हैं. एडिलेड ओवल के मैच को देखते हुए नहीं लगता कि यह ऐसी पिच थी, इस पर हालात का कोई असर नहीं पड़ा.’ वॉन ने कहा कि मिचेल स्टार्क का प्रदर्शन दूसरी पारी में अच्छा नहीं रहा था, जिससे उन्होंने मैच में पांच विकेट लिए थे. उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्य से ऑस्ट्रेलिया का एक तेज गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाया.’ 

भारत ने दूसरे टेस्ट के लिए 13 सदस्यीय टीम की घोषणा की है, जिसमें रविचंद्रन अश्विन और रोहित शर्मा चोट के कारण शामिल नहीं हैं. भारत चार तेज गेंदबाजों के आक्रमण के साथ उतर सकता है और ऐसा टेस्ट इतिहास में तीसरा ही मौका होगा. इससे पहले जोहानिसबर्ग (2018) और पर्थ (वाका, 2012) में ऐसा हुआ था, लेकिन वॉन का मानना है कि उंगली से स्पिन करने वाले रविंद्र जडेजा इसमें मददगार साबित हो सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने क्यों कहा- पर्थ में टॉस गंवाना अच्छा होगा

माइकल वॉन ने कहा, ‘रवींद्र जडेजा बेहतरीन क्रिकेटर भी हैं. वे ऐसे खिलाड़ी हैं जिसे मैं टीम में रखना चाहूंगा. वे अच्छी बल्लेबाजी करते हैं. वे शानदार क्षेत्ररक्षक हैं  और गेंदबाजी में भी अच्छी करते हैं. बतौर कप्तान मैं तीन तेज गेंदबाजों और रवि जडेजा को लेना चाहूंगा.’ पहला टेस्ट खेलने वाले रविचंद्रन अश्विन चोट के कारण दूसरे टेस्ट में नहीं खेलेंगे. उनकी जगह रवींद्र जडेजा को मौका मिलने की संभावना है.

(इनपुट: भाषा)