INDvsENG 1st Test Analysis: नजदीकी मुकाबले में इंग्लैंड निकला भारत से आगे

बर्मिंघम के एडबेस्टन में भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज के पहले मैच में पहले तीन दिन तक मैच बराबर का ही था लेकिन चौथ दिन के पहले सत्र में इंग्लैंड ने बाजी मारते हुए मैच अपने नाम कर लिया.

INDvsENG 1st Test Analysis: नजदीकी मुकाबले में इंग्लैंड निकला भारत से आगे
इंग्लैंड ने अपना 1000वां टेस्ट 31 रनों से जीत लिया. (फोटो : PTI)

बर्मिघम:  भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज के शुरू होने से काफी पहले ही लोगों में इसको लेकर काफी कौतूहल था. एक तरफ इंग्लैंड लंबे समय से टेस्ट में बढ़िया प्रदर्शन नहीं कर पा रही थी तो वहीं टीम इंडिया के सामने विदेशी पिचों में कमजोर होने का दाग धोने की चुनौती और दबाव दोनों ही माना जा रहा था. इस सीरीज के पहले टेस्ट में जैसी टीम इंडिया ने शुरुआत की उसकी किसी को उम्मीद नहीं होगी. लेकिन आर अश्विन ने एलिस्टर कुक का विकेट लेकर बता दिया कि टेस्ट मैच केवल तेज गेंदबाजी के भरोसे कभी नहीं हो सकता. लेकिन यह टेस्ट फिर भी गेंदबाजों को रहा अगर विराट को छो़ड़ दें तो. यह टेस्ट कई बातों के लिए इतिहास में जाना जाएगा. 

 अपने 1000वें टेस्ट मैच में टॉस जीतकर इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला जरूर किया लेकिन इंग्लैंड  उम्मीद के मुताबिक बल्लेबाजी नही कर सकी. एक समय जो रूट (80) और जॉनी बेयरस्टॉ (70)  की पारियों की मदद से 216 रन पर केवल तीन विकेट गंवा चुकी इंग्लैंड की टीम मजबूती की ओर बढ़ रही थी. लेकिन उसके बाद टीम इंडिया ने वापसी की और इंग्लैंड को 287 रन पर ही समेट कर भारत को मैच में वापस ला दिया. 

दूसरे दिन इंग्लैंड को मिली थी 13 रनों की बढ़त
दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने पहली पारी में 13 की बढ़त लेने के बाद एक विकेट खोकर 9 रन बना लिए थे. उससे पहले टीम इंडिया ने सुबह इंग्लैंड की पारी को 287 रनों पर समेटने के बाद अपनी पहली पारी में 274 रन बनाए जिसमें कप्तान विराट कोहली के शानदार 149 रन शामिल थे जबकि एक समय भारत का स्कोर पांच विकेट पर केवल 100 रन ही था.

विराट ने अकेले 149 रनों की पारी खेलते हुए टीम के आधे से ज्यादा रन खुद ही बना डाले. जिनमें 22 चौके और एक छक्का शामिल था. विराट के बाद शिखर धवन ने 26 रन, हार्दिक पांड्या ने 22 रन, मुरली विजय ने 20 रन, आजिंक्य रहाणे ने 15 रन और रविचंद्रन अश्विन ने 10 रन बनाए. इंग्लैंड के लिए सबसे ज्यादा विकेट 4 विकेट सैम कुरैन ने लिए थे. वहीं जेम्स एंडरसन, बेन स्टोक्स और आदिल राशिद ने  दो-दो विकेट लिए. इस तरह टीम इंडिया का पहली पारी का स्कोर 274 रन हो गया जो कि इंग्लैंड की पहली पारी के 287 से केवल 13 रन कम था. 

Virat got out uniquely
विराट कोहली ने शानदार 149 रनों का पारी खेली. (फोटो : PTI)

इसके बाद इंग्लैंड की दूसरी पारी की शुरुआत में ही एक अनोखी लेकिन ऐतिहासिक घटना हुई. दूसरे दिन का खेल खत्म होने से कुछ देर पहले जब इंग्लैंड की पारी 13 रन की बढ़त के साथ शुरु हुई तो मैच में एक एक्शन रीप्ले देखने को मिला. भारत के रविचंद्रन अश्विन ने एक बार फिर एलिस्टर कुक को बिलकुल पहली पारी की तरह बोल्ड आउट कर दिया. कुक पहली पारी के 8वें ओवर में 13 रन बनाकर आउट हुए तो दूसरी पारी के चौथे ओवर में वे शून्य पर आउट हो गए.  

पहले अश्विन फिर ईशांत का चला जादू
इसके बाद तीसरे दिन इंग्लैंड के बल्लेबाज टिककर नहीं खेल सके. पहले रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड के शीर्ष बल्लेबाजों को जल्दी ही पवेलियन लौटाया. इसमें केटन जेनिंग्स को 8 रन और जो रूट को उन्होंने केवल 14 रन ही बनाने दिए. इसके बाद ईशांत शर्मा की शानदार गेंदबाजी की बदौलत लंच तक इंग्लैंड की आधी से ज्यादा टीम आउट होगई. लंच तक इंग्लैंड का स्कोर 6 विकेट पर 86 रन था. 

INDvsENG 1st Test LIVE: इंग्लैंड दूसरी पारी 180 रनों पर सिमटी, भारत को मिला 194 का लक्ष्य
(फोटो : PTI)

 भारतीय गेंदबाजों ने चाय से पहले ही इंग्लैंड की पारी को 180 रनों पर सिमेट दिया, जिससे भारत को जीत के लिए 194 रनों का लक्ष्य मिला. इंग्लैंड के लिए सैम कुरैन ने सबसे ज्यादा 63 रन बनाए, जबकि जॉनी बेयरस्टॉ ने 28, डेविड मलान ने 20, आदिल राशिद ने 16, कप्तान जो रूट ने 14 और स्टुअर्ट ब्रॉड ने 11 रन बनाए. वहीं भारत के लिए ईशांत शर्मा ने पांच, अश्विन ने तीन और उमेश यादव ने दो विकेट लिए. 

इंग्लैंड की पारी काफी पहले सिमट जाती अगर सैम कुरैन ने अपनी अर्धशतकीय पारी में पहले आदिल राशिद के साथ 48 रनों की और उसके बाद स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ 41 रनों की साझेदारी न की होती. क्योंकि लंच के बाद तक इंग्लैंड की दूसरी पारी का स्कोर 7 विकेट खोकर केवल 87 रन था. 

दूसरी पारी में भी अकेले विराट ही चल सके
टीम इंडिया के लिए यह लक्ष्य बड़ा तो नहीं लेकिन मैच और पिच को देखते हुए यह आसान भी नहीं था जो कि जल्द ही दिख गया जब दिन का खेल खत्म होते होते भारत की आधी टीम केवल 78 रनों के स्कोर पर ही पवेलियन लौट गई.  इस स्कोर पर जेम्स एंडरसन ने आर अश्विन को 13 के निजी स्कोर पर पवेलियन वापस भेज दिया अश्विन को बेयरस्टॉ ने कैच किया. उस समय विराट कोहली ही भारत की उम्मीद के तौर पर 34 रन बनाकर क्रीज पर टिके हुए थे. भारत को जीत के लिए तब भी 116 रनों की जरूरत थी. मुरली विजय 6 रन पर आउट हुए तो  शिखर धवन, लोकेश राहुल और रविचंद्रन अश्विन भी 13 रनों का योगदान ही दे सके. अजिंक्य रहाणे केवल 2 रन बनाकर आउट हुए. इस तरह से भारत की बल्लेबाजी विराट को छोड़कर पूरी तरह से नाकाम रही.   

चौथे दिन के पहले तक मैच बराबरी तक ही था लेकिन इस मैच के परिणाम की सारी निर्भरता विराट कोहली पर हो गई थी. इंग्लैंड की टीम ने इस बात को समझते हुए उम्मीद नहीं छोड़ी दिन के पहले ही ओवर में भारत का छठा विकेट गिरा लेकिन विराट इंग्लैंड की जीत में बड़ी दीवार बन कर खड़े थे और उन्होंने अपना अर्धशतक भी पूरा कर लिया. अपने 50 रन पूरे होने के बाद विराट बेन स्टोक्स का शिकार बन गए और मैच में इंग्लैंड का पलड़ा भारी हो गया. विराट के आउट होने से पहले तक टीवी स्क्रीन पर जहां भारत को जीत के लिए जरूरी रन दिखाए जा रहे थे. उनके आउट होते ही अब स्क्रीन पर इंग्लैंड को जीत के लिए जरूरी विकेट का कैप्शन दिखाया जाने लगा था. 

विराट के बाद इंग्लैंड के गेंदाबाजों ने ज्यादा देर नहीं लगाई. हालाकि थोड़ी देर के लिए ईशांत शर्मा (11) और हार्दिक पांड्या (31) ने जरूर संघर्ष दिखाया लेकिन दोनों ही ज्यादा देर तक टिक न सके और इस नजदीकी मुकाबले को इंग्लैंड ने 31 रनों से जीत लिया.

रूट के लिए पैदा हुईं कई चिंताएं
यह टेस्ट भले ही इंग्लैंड ने जीत लिया हो लेकिन इस मैच ने जो रूट के लिए कुछ चिंताएं जरूर पैदा कर दी हैं. यही बात मैच के बाद विराट कोहली के बयान में भी नजर आई जो हार के बाद भी निराश नहीं दिखे. इसके अलावा काफी कैच छोड़ना भी इंग्लैंड का महंगा पड़ा. अगर इंग्लैंड यह मैच हार जाती तो उनकी फील्डिंग की आलोचना बहुत होती. गेंदबाजी से रूट खुश भले ही हों लेकिन बल्लेबाजी से वे काफी चिंतित जरूर होंगे. अगर भारतीय बल्लेबाजों ने दूसरे टेस्ट में वापसी कर ली और विराट को अपने बाकी बल्लेबाजों में से दो से भी मदद मिल गई तो इंग्लैंड की सीरीज में मुश्किलें बढ़ जाएंगी.

कुरैन ने ला दिया फर्क
वहीं निष्पक्ष अंतर की बात की जाए तो बाकी अगर मगर के बावजूद मैन ऑफ द मैच सैम कुरैन की पारी ने मैच में सबसे बड़ा अंतर पैदा किया. इंग्लैंड की दूसरी पारी में 87 पर 7 के स्कोर के बाद 63 रनों की पारी जिसमें आदिल राशिद के साथ 48 रनों की साझेदारी और स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ 41 रनों की पारी ने इंग्लैंड की दूसरी पारी का स्कोर 180 कर दिया वर्ना अगर 13 के निजी स्कोर पर शिखर धवन सैम का कैच पकड़ लेते तो इंग्लैंड का स्कोर 50 रन कम होता और परिणाम कुछ और होता. 

ऐसे इस मैच में काफी अगर मगर हो सकते हैं लेकिन इस मैच में इंग्लैंड से ज्यादा क्रिकेट की जीत हुई क्योंकि दुनिया को टेस्ट क्रिकेट का बेहतरीन रोमांच देखने को मिला. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.