close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsENG Day 3 Analysis: वोक्स-बेयरस्टॉ की पारियों ने भारतीय गेंदबाजों को किया लाचार

लॉर्ड्स टेस्ट के तीसरे दिन भारतीय गेंदबाज पहले सत्र में ही सफल दिखे उसके बाद इंग्लैंड के बल्लेबाज हावी हो गए.

INDvsENG Day 3 Analysis: वोक्स-बेयरस्टॉ की पारियों ने भारतीय गेंदबाजों को किया लाचार
क्रिस वोक्स और जॉनी बेयरस्टॉ की 189 रनों की साझेदारी ने इंग्लैंंड को मजबूत स्थिति में ला दिया. (फोटो : Reuters)

लॉर्ड्स : लंदन के लॉर्ड्स  मैदान में भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के दूसरे मैच के तीसरे दिन भारत के गेंदबाजी आक्रमण में वह धार नहीं दिखी जो इंग्लैंड की गेंदबाजी में थी. लंच तक जहां इंग्लैंड का स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 89 रन था वहीं दिन का खेल खत्म होते होते  वह 6 विकेट के नुकसान पर 357 हो गया जिससे इंग्लैंड को 250 रन की अहम बढ़त मिल गई. इंग्लैंड की इस पारी में क्रिस वोक्स के नाबाद 120 रन और जॉनी बेयरस्टॉ के शानदार 93 रनों का खासा योगदान रहा. 

इंग्लैंड की शुरूआत तो ठीक ही रही लेकिन भारत को 8वें ओवर में पहली सफलता मिल सकी. मोहम्मद शमी ने केटन जेनिंग्स को 11 रन के निजी स्कोर पर एलबीडब्ल्यू आउट किया.  उस समय इंग्लैंड टीम का स्कोर  28 रन था. इसके अगले ओवर में ही ईशांत ने एलिस्टर कुक को 21 के निजी स्कोर पर आउट किया. फिर कप्तान जो रूट और पहला टेस्ट खेल रहे ओली पोप ने इंग्लैंड की पारी संभाली और टीम का स्कोर 50 से पार कराया. 9वें ओवर तक दो विकेट गिराने के बाद भारत को तीसरी सफलता 22वें ओवर में मिल सकी जब हार्दिक पांड्या ने ओली पोप को 28 के निजी स्कोर पर एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया.  पोप ने कप्तान जो रूट के साथ मिलकर इंग्लैंड का स्कोर 77 रन कर दिया था.

 जो रूट के विकेट ने भारत की उम्मीदें जगाईं
लंच से पहले मोहम्मद शमी ने इंग्लैंड के कप्तान जो रूट को 19 रन के निजी स्कोर पर एबीडब्ल्यू आउट कर इंग्लैंड को बड़ा झटका दे दिया. रूट के आउट होने पर  अंपायर ने लंच की घोषणा कर दी. इंग्लैंड का स्कोर 89 रन हो गया था. इंग्लैंड के 4 विकेट गिर चुके थे. क्रीज पर जॉनी बेयरस्टॉ थे जो केवल 10 गेंद खेलकर 4 रन बना पाए थे. 

दूसरे सत्र में जॉनी बेयरस्टॉ ने एक साझेदारी बनाने की कोशिश की, लेकिन 42 रन की साझेदारी होते ही मोहम्मद शमी ने जोस बटलर को एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया. उस समय इंग्लैंड का स्कोर 131 रन था. बेयरस्टॉ 20 रन बनाकर क्रीज पर थे. शमी का इस पारी में यह तीसरा विकेट रहा. ये तीनों विकेट एलबीडब्ल्यू ही थे. 

38ओवर बाद अश्विन से गेंदबाजी कराई विराट ने
38 ओवर तक इंग्लैंड का स्कोर 157 रन हो गया था और उसके पांच विकेट गिरे थे. इस समय तक टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने रविचंद्रन अश्विन से गेंदबाजी नहीं कराई थी. उस समय बेयरस्टॉ (29) और क्रिस वोक्स (16) किसी भी तरह की परेशानी में नहीं दिख रहे थे. इसके बाद अश्विन ने पारी का 39वां ओवर फेंका जो उनका पहला ओवर था जिसमें उन्होंने केवल 2 रन दिए थे. जॉनी बेयरस्टॉ ने शानदार अर्धशतक लगाया और  क्रिेस वोक्स के साथ मिलकर इंग्लैंड का स्कोर 200 के पार पहुंचा कर इंग्लैंड को मजबूत स्थिति में ला दिया. बेयरस्टॉ का उनके टेस्ट करियर का यह 19वां अर्धशतक था.  पारी के 50 ओवर तक इंग्लैंड का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 205 रन हो चुका था. बेयरस्टॉ 55 और वोक्स 37 रन बनाकर खेल रहे थे. 

चाय तक बेयरस्टॉ के अर्धशतक के बाद क्रिस वोक्स ने भी अपना अर्धशतक पूरा किया और चाय तक इंग्लैंड का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 230 रन कर दिया था. इंग्लैंड को अब तक 123 रनों की अहम बढ़त मिल गई थी. वोक्स ने 55 रन बना लिए थे और बेयरस्टॉ 62 रन बनाकर नाबाद क्रीज पर मौजूद थे. 

वोक्स के शतक ने किया इंग्लैंड को मजबूत
इंग्लैंड की  टीम के 300 रन पूरे होने के बाद क्रिस वोक्स ने अपना पहला टेस्ट शतक पूर किया. वोक्स के शतक के समय जॉनी बेयरस्टॉ भी शतक के करीब पहुंच गए थे लेकिन हार्दिक पांड्या ने क्रिस वोक्स और जॉनी बेयरस्टॉ की 189 रनों की साझेदारी को तोड़ा. हार्दिक ने बेयरस्टॉ को 93 के निजी स्कोर पर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक  के हाथों कैच आउट करा दिया. उस समय  इंग्लैंड का स्कोर 320 रन था.

Chris Woakes ton
क्रिस वोक्स ने वापसी के बाद अपने करियर का पहला टेस्ट शतक लगाया (फोटो : Reuters)

 दूसरे दिन केवल 35.2 ओवर का ही खेल हो सका जिसमें टीम इंडिया की पहली पारी केवल 107 रन पर सिमट गई. पहली पारी में भारत की ओर से सबसे ज्यादा रन रविचंद्रन अश्विन ने बनाए . उन्होंने 29 रनों की पारी खेली. उनके बाद सबसे ज्यादा 23 रन कप्तान विराट कोहली (23) रन बनाए. इंग्लैंड की ओर से सबसे ज्यादा पांच विकेट जेम्स एंडरसन ने लिए. उनके लॉर्ड्स में 99 टेस्ट विकेट हो गए हैं. 

इंग्लैंड की गेंदबाजी की सफलता में मौसम का भी काफी बड़ा हाथ था जिसकी बदौलत टीम इंडिया केवल 107 रन पर सिमट गई. लेकिन भारतीय गेंदबाज भी पूरी तरह से नाकाम नजर नहीं आए. इसमें सबसे बड़ी भूमिका मोहम्मद शमी की रही.