close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsSA: कोहली ने बताया अपना सबसे बड़ा लक्ष्य, कहा-रन बनाना नहीं, बल्कि...

India vs South Africa: भारत ने दक्षिण अफ्रीका को लगातार दूसरे टेस्ट मैच में हराया. भारतीय कप्तान विराट कोहली ने 254 रन की नाबाद पारी खेली.

INDvsSA: कोहली ने बताया अपना सबसे बड़ा लक्ष्य, कहा-रन बनाना नहीं, बल्कि...
विराट कोहली ने पुणे में अपने करियर का 7वां दोहरा शतक लगाया. (फोटो: IANS)

पुणे: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरा टेस्ट मैच जीतने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा कि उनका एकमात्र लक्ष्य अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाना है. भारतीय टीम (Team India) ने रविवार को यहां दूसरे मैच में पारी और 137 रन से जीत दर्ज की. इसके साथ ही उसने तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बना ली. साथ ही, फ्रीडम ट्रॉफी (Freedom Trophy) पर भी कब्जा कर लिया. विराट कोहली ने पुणे टेस्ट में 254 रन की नाबाद पारी खेली. भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच अब तीसरा और अंतिम टेस्ट मैच रांची में 19 अक्टूबर से खेला जाएगा. 

'मैन ऑफ द मैच' चुने गए विराट कोहली ने कहा, ‘टीम की मदद करने की मानसिकता हमेशा बनी रहती है और उस प्रक्रिया में बड़े स्कोर भी बनते हैं. मुझे लगता है कि जिस पल आप टीम के बारे में सोचना शुरू कर देते हैं, सारा दबाव खत्म हो जाता है. मैं अपने करियर में एक ऐसे मुकाम पर हूं, जहां मैं जिस तरह से खेल रहा हूं, खुश हूं और अपनी टीम में योगदान दे रहा हूं. टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाना ही मेरा एकमात्र लक्ष्य है.’

यह भी पढ़ें: विजय हजारे ट्रॉफी: संजू सैमसन ने ठोका दोहरा शतक, सबसे बड़ी पारी का रिकॉर्ड भी बनाया

विराट कोहली ने अजिंक्य रहाणे के साथ अपनी साझेदारी पर कहा, ‘मुझे रहाणे के साथ बल्लेबाजी करने में मजा आता है. उनकी मानसिकता सकारात्मक है. हम बात करते हैं और विकेटों के बीच में अच्छी दौड़ लगाते हैं. हम शायद सबसे सफल भारतीय जोड़ी हैं और हमारे टीम में खेलने का एकमात्र कारण यह है कि हम इसमें बहुत गर्व महसूस करते हैं. दूसरे छोर पर आनंद आने से आपका ध्यान केंद्रित रहता है.’

कप्तान विराट कोहली ने इस जीत के बाद टीम के सभी खिलाड़ियों के प्रदर्शन की भी तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘जब हमने एक टीम के रूप में शुरुआत की थी तो हम नंबर-7 (टेस्ट रैंकिंग में) थे. एक ही रास्ता था और वो था आगे बढ़ना. हमने कुछ चीजें रखीं और सभी को अभ्यास सत्र के दौरान में कड़ी मेहनत करने के लिए कहा. हम भाग्यशाली हैं कि पिछले तीन-चार वर्षो में हमें बेहतरीन खिलाड़ी मिले हैं. सभी लोगों में सुधार करने के लिए मौजूद भूख और जुनून को देखना अद्भुत है.’