close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsSA: ‘हिटमैन’ रोहित ने डॉन ब्रैडमैन को पीछे छोड़ा, बनाए कई रिकॉर्ड

‘हिटमैन’ रोहित शर्मा ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में 212 रन की पारी खेली. वे इस सीरीज में 529 रन बना चुके हैं. 

INDvsSA: ‘हिटमैन’ रोहित ने डॉन ब्रैडमैन को पीछे छोड़ा, बनाए कई रिकॉर्ड
रोहित शर्मा घरेलू मैचों में 6 शतक और 5 अर्धशतक लगा चुके हैं. (फोटो: IANS)

रांची: भारतीय ओपनर रोहित शर्मा ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ (India vs South Africa) शानदार प्रदर्शन कर कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए हैं. इनमें एक रिकॉर्ड वो भी है, जिसके चलते डॉन ब्रैडमैन (Don Bradman) को दुनिया का सबसे महान बल्लेबाज माना जाता है. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने घरेलू मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ औसत के मामले में ब्रैडमैन को पीछे छोड़ दिया है. 

‘हिटमैन’ रोहित शर्मा ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में 255 गेंदों पर 212 रन की पारी खेली. उन्होंने इस दौरान 28 चौके और छह छक्के लगाए. रोहित ने 249 गेंदों पर अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक लगाया. वैसे यह उनका इस सीरीज में तीसरा शतक है. वे इस सीरीज में 529 रन बना चुके हैं. वे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं.

यह भी पढ़ें: The Hundred: गेल, डिकॉक, पोलार्ड और बाबर को नहीं मिला भाव, राशिद सबसे पहले बिके

रोहित शर्मा घरेलू मैदान पर 12 टेस्ट की 18 पारियों में 1298 रन बना चुके हैं. घरेलू मैचों में रोहित शर्मा की औसत 99.84 है. इस तरह घरेलू मैचों में उनका औसत ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज डॉन ब्रैडमैन से भी अधिक हो गया है. ब्रैडमैन की घरेलू मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में औसत 98.22 थी. 

रोहित शर्मा घरेलू मैचों में छह शतक और पांच अर्धशतक लगा चुके हैं. ब्रैडमैन ने घरेलू मैदान पर 33 मैच खेले थे. उन्होंने इन मैचों में 98.22 की औसत से 4322 रन बनाए हैं, जिनमें 18 शतक और 10 अर्धशतक शामिल हैं.
 
रोहित टेस्ट और वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले दुनिया के चौथे बल्लेबाज बन गए हैं. रोहित से पहले सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और क्रिस गेल यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं. डॉन ब्रैडमैन की बात करें तो वे टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक 12 दोहरे शतक लगाने वाले बल्लेबाज हैं. जब वे क्रिकेट के मैदान पर सक्रिय थे, तब वनडे या टी20 क्रिकेट अस्तित्व में नहीं था.