close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंजमाम ने पीसीबी से की खूब कमाई, पर टीम नंबर-1 से सातवें पर पहुंच गई

इंजमाम उल हक पाकिस्तानी टीम के मुख्य चयनकर्ता थे. इनके कार्यकाल के दौरान टीम ने 28 टेस्ट मैच खेले जिसमें से 17 में मिला हार.

इंजमाम ने पीसीबी से की खूब कमाई, पर टीम नंबर-1 से सातवें पर पहुंच गई
इंजमाम-उल-हक 2016 में पाकिस्तान के राष्ट्रीय चयनकर्ता बनें थे. (फाइल फोटो)

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज इंजमाम-उल-हक ने पाकिस्तान क्रिकेट के राष्ट्रीय चयनकर्ता का पद 2016 में संभाला था. इस दौरान उन्हें कुल मिलाकर छह करोड़ रुपये (पाकिस्तानी मुद्रा) मिले हैं. उनके कार्यकाल में पाकिस्तान की टीम टेस्ट में नंबर वन से नीचे आ कर सातवे स्थान पर पहुंच गई है. हालांकि, 2017 चैंपियन्स ट्रॉफी में भारत को हराकर ट्रॉफी अपने नाम की और टी20 टीम का शीर्ष पर पहुंचना भी उनके कार्यकाल में हुआ.

हर महीने मिलते थे 12 लाख रुपये
इंजमाम ने अप्रैल 2016 में मुख्य चयनकर्ता का पद संभाला था. वैसे तो उनके कार्यकाल का समय विश्व कप 2019 के 3 महीने पहले ही समाप्त हो जाता. लेकिन इस बड़े टूर्नामेंट को मद्देनजर उनका करार बढ़ाया गया. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रीय चयनकर्ता हर महीने 12 लाख रुपए का वेतन और अन्य भत्ते मिले.

चैंपियन्स ट्रॉफी जीतने के बाद पीसीबी से मिले एक करोड़ रुपये
करार के मुताबिक, इंजमाम को टीम के किसी सीरीज को जीतने पर उन्हें मिलने वाले मेहनताने का 25 फीसदी और आईसीसी इवेंट में टीम की खिताबी फतह पर मेहनताने का सौ फीसदी मिलता था. चैंपियन्स ट्राफी जीतने पर उन्हें सरकार से एक करोड़ रुपए मिले थे. इस तरह कुल मिलाकर उन्हें तीन साल में लगभग छह करोड़ रुपए मिले.

इंजमाम के कार्यकाल में टीम का टेस्ट जीत प्रतिशत काफी कम
इंजमाम जब मुख्य चयनकर्ता बने, उस वक्त पाकिस्तान की क्रिकेट टीम नंबर एक थी. लेकिन, लगातार हार के कारण टीम टेस्ट रैंकिंग में फिसलकर सातवें स्थान तक जा पहुंची. इनके कार्यकाल के दौरान टीम ने 28 टेस्ट मैच खेले जिसमें से 10 में उसे जीत और 17 में हार मिली,और एक मैच ड्रॉ रहा.