close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL-12: वो एक बॉल, जिसके कारण बॉलिंग से हटाए गए सिराज और रसेल ने पलट दी बाजी

कोलकाता की टीम ने महज 11 वैध गेंदों पर 53 रन ठोककर बेंगलुरू से जीत छीन ली. 

IPL-12: वो एक बॉल, जिसके कारण बॉलिंग से हटाए गए सिराज और रसेल ने पलट दी बाजी
बेंगलुरू के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने कोलकाता के खिलाफ 2.2 ओवर गेंदबाजी की. उन्होंने इसमें 36 रन दिए और कोई विकेट भी नहीं ले सके. (फोटो: VIDEO GRAB)

नई दिल्ली: मैच आईपीएल का हो या किसी और लीग का. अगर टारगेट आखिरी तीन ओवर में 53 रन बनाने का हो तो जीत असंभव जैसी ही नजर आएगी. लेकिन कोलकाता ने शुक्रवार को इसे संभव कर दिखाया. यकीनन, यह जीत आंद्रे रसेल (Andre Russell) की असाधारण बैटिंग ने दिलाई, जिन्होंने महज 13 गेंदों पर 48 रन ठोक दिए. लेकिन इस जीत की 'नींव' एक अवैध गेंद थी. इसी अवैध गेंद (नो बॉल) ने तब पूरी बाजी पलटने का काम किया था, जब बेंगलुरू जीत की ओर बढ़ रहा था. 

मेजबान बेंगलुरू (Royal Challengers) ने आईपीएल (IPL 2019) शुक्रवार को चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में तीन विकेट पर 205 रन बनाए. 206 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी कोलकाता (Knight Riders) की टीम ने 17 ओवर की समाप्ति तक पांच विकेट पर 153 रन बनाए थे. इस तरह उसे जीत के लिए आखिरी 18 गेंदों पर 53 रन बनाने थे. यानी हर गेंद पर करीब तीन रन. उस वक्त क्रीज पर मिडिल-लोअर ऑर्डर के सबसे खूंखार बल्लेबाज आंद्रे रसेल थे और उनका साथ देने के लिए अभी-अभी शुभमन गिल आए थे. 

यह भी पढ़ें: टीवी शो में महिलाओं पर कमेंट कर फंसे थे राहुल, प्रीति ने किया सपोर्ट, कही यह बड़ी बात..

मोहम्मद सिराज और 18वां ओवर
विराट कोहली ने 18वां ओवर फेंकने के लिए मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) को बुलाया. उन्होंने पहली दो गेंदों पर रसेल को कोई रन नहीं बनाने दिया. रसेल इन दोनों गेंदों को छू भी नहीं पाए. इस तरह लक्ष्य 16 गेंदों पर 53 रन हो गया. सिराज की तीसरी गेंद वाइड थी. इस कारण उन्हें एक बार फिर तीसरी गेंद फेंकनी पड़ी. लेकिन इस बार वे वह गलती कर बैठे, जिसे खेल के मैदान पर अपराध से कम नहीं माना जाता... वे बीमर कर बैठे. 
  
वो बीमर, जिसने बेंगलुरू को मरवा दिया 
सिराज ने इस 18वें ओवर में वाइड गेंद के बाद आंद्रे रसेल को बीमर (कमर से ज्यादा ऊंची फुलटॉस) फेंकी. यह करीब-करीब कंधे की ऊंचाई पर थी. रसेल ने बचते-बचाते बल्ला घुमाया और गेंद बाउंड्री लाइन के बाहर गिरी. कोलकाता को छह रन मिले, लेकिन बेंगलुरू ने एक गेंदबाज ही गंवा दिया. दरअसल, यह इस पारी में सिराज का दूसरा बीमर था. नियमानुसार दो बीमर करने के बाद आप उस पारी में गेंदबाजी नहीं कर सकते. इस कारण अंपायरों ने सिराज को गेंदबाजी करने से रोक दिया. यह ऐसी स्थिति थी, जिसके लिए कोई टीम शायद ही पहले से प्लान बनाती हो. 

 

Andre Russel
आंद्रे रसेल (दाएं से दूसरे) मैच के बाद टीम के कोऑनर शाहरुख, नीतिश राणा और कप्तान दिनेश कार्तिक के साथ. (फोटो: IANS)

 

स्टोइनिस की पहली ही गेंद फ्री हिट 
विराट ने सिराज की जगह बॉलिंग करने के लिए मार्कस स्टोइनिस को बुलाया. स्टोइनिस वैसे तो ओवर की तीसरी गेंद कर रहे थे, लेकिन यह उनकी पहली गेंद थी, जिस पर विरोधी टीम को फ्रीहिट मिली हुई थी. रसेल ने उनकी इस गेंद पर जोरदार छक्का लगाया. पहली ही गेंद पर छक्का खाने से हड़बड़ाए स्टोइनिस दूसरी गेंद पर भी छक्का खा बैठे. अब रसेल की गाड़ी रफ्तार पकड़ चुकी थी. वह भी बुलेट ट्रेन वाली, जिसका नतीजा यही होना था कि वक्त से पहले मंजिल तक पहुंचो. कोलकाता भी पांच गेंद बाकी रहते ही लक्ष्य फतह कर चुकी थी. कोलकाता ने अपने अंतिम 53 रन महज 11 गेंद पर बना लिए.   

नेगी ने कहा- 17 ओवर तक सब ठीक चल रहा था
बेंगलुरू टीम के स्पिनर प्रवीण नेगी ने माना कि सिराज की वो बीमर मैच का टर्निंग प्वाइंट थी. उन्होंने कहा, '17 ओवर तक हमारी गेंदबाजी अच्छी चल रही थी. फिर 18वें ओवर में सिराज ने एक नो बॉल डाल दी. शायद यह टर्निंग प्वाइंट रहा. वैसे, रसेल ने बहुत अच्छी बैटिंग की. मैं उन्हें भी क्रेडिट दूंगा, जिन्होंने मैच का रुख बदल दिया.'