close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IPL Auction: वरुण चक्रवर्ती, नौकरी छोड़ क्रिकेट में आए, अब IPL 2019 के सबसे महंगे खिलाड़ी बने

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने तमिलनाडु के वरुण चक्रवर्ती को 8.40 करोड़ रुपए में खरीदा. 

IPL Auction: वरुण चक्रवर्ती, नौकरी छोड़ क्रिकेट में आए, अब IPL 2019 के सबसे महंगे खिलाड़ी बने
वरुण चक्रवर्ती. (फोटो साभार: @TNCricketAssociation)

नई दिल्ली: आईपीएल 2019 की मंगलवार (18 दिसंबर) को हुई नीलामी (IPL Auction 2019) में तमिलनाडु का एक अनजान सा खिलाड़ी सबसे अधिक कीमत में बिका. इस खिलाड़ी पर टीमों ने बढ़चढ़ कर दांव लगाए. 20 लाख रुपए की बेस प्राइस वाला ये खिलाड़ी अंतत: 8.40 करोड़ रुपए में बिका. यह आईपीएल 2019 की इस बार की नीलामी में सबसे बड़ी बोली है. वैसे, जयदेव उनादकट पर भी इतनी ही बोली लगी. उनादकट की बेस प्राइस 1.5 करोड़ रुपए थी. 

हम बात कर रहे हैं कि वरुण चक्रवर्ती (Varun Chakravarthy) की. इस मिस्ट्री स्पिनर के लिए किंग्स इलेवन पंजाब (Kings XI Punjab) ने रिकॉर्ड कीमत लगाकर सबको चौंका दिया. 27 साल के वरुण चक्रवर्ती ने अभी सिर्फ एक प्रथमश्रेणी और नौ लिस्ट ए मैच खेला है. उन्होंने अब तक आईपीएल में कोई मैच नहीं खेला है. हालांकि वरुण चक्रवर्ती ने तमिलनाडु प्रीमियर लीग में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. उन्होंने 9 मैचों में 22 विकेट लिए थे. वे अब पहली बार आईपीएल में रविचंद्रन अश्विन और मोहम्मद शमी जैसे खिलाड़ियों के साथ खेलेंगे.

यह भी पढ़ें: IPL Auction 2019: विराट की टीम ने इस उभरते ‘सिक्सर किंग’ पर लगाया 25 गुना ज्यादा दांव

वरुण चक्रवर्ती के तमिलनाडु प्रीमियर लीग के प्रदर्शन के कारण ही पंजाब की टीम ने उन पर ये दांव लगाया है.  उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में 4.7 के इकोनॉमी रेट से 9 विकेट लिए हैं. वे विजय हजारे ट्राफी में दूसरे सबसे कामयाब गेंदबाज रहे हैं. वरुण चक्रवर्ती पहले टेनिस बॉल क्रिकेट खेलते थे. उन्होंने टेनिस बॉल की वैरिएशन्स को वो लेदर बॉल गेम में इस्तेमाल कर कामयाबी हासिल की.

वरुण चक्रवर्ती ने स्कूल लेवल पर अपनी क्रिकेट शुरू की. उसके बाद उन्होंने खेल छोड़ दिया क्योंकि वे अंडर-17, अंडर-19 एजग्रुप के मैचों में अच्छा नहीं कर पा रहे थे. इसके बाद उन्होंने 5 साल तक आर्किटेक्चर का कोर्स किया और बाद में दो साल नौकरी भी की. फिर एक दिन उन्होंने फैसला किया कि अब वे क्रिकेट में वापस लौटेंगे क्योंकि सुबह 9 से शाम 5 बजे की नौकरी में उनका मन नहीं लग रहा था. इसके अलावा क्रिकेटर बनने का सपना उन्हें सोने नहीं दे रहा था. इसके बाद उन्होंने 25 साल की उम्र में क्रिकेट के मैदान पर वापसी की और लगातार मेहनत करते रहे.