close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस साल IPL में नहीं होगी ओपनिंग सेरेमनी, शहीदों के परिवारों को देंगे उद्धाटन का सारा पैसा

इस साल आईपीएल का 12वां संस्करण खेला जाना है. इसकी शुरुआत 23 मार्च को चेन्नई सुपरकिंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के मुकाबले से होगी. 

इस साल IPL में नहीं होगी ओपनिंग सेरेमनी, शहीदों के परिवारों को देंगे उद्धाटन का सारा पैसा
आईपीएल ट्रॉफी. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की प्रशासकों की समिति (सीओए) ने पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Attack) के शहीदों की मदद के लिए अनूठा फैसला लिया है. उसने इस साल होने वाले आईपीएल (IPL 2019) से पहले उद्घाटन समारोह नहीं कराने का फैसला लिया है. सीओए (CoA) के मुताबिक आईपीएल की ओपनिंग सेरेमनी के लिए रखी हुई धनराशि पुलवामा आतंकी हमलों में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के परिवारों को दी जाएगी. आईपीएल का पहला मैच 23 मार्च को होना है. 

इस साल आईपीएल का 12वां संस्करण होना है. अब तक हर साल टूर्नामेंट शुरू होने से पहले भव्य उद्घाटन समारोह होता है, जिसमें देश-विदेश के कलाकार हिस्सा लेते हैं. लेकिन इस बार सूरत बदल गई है. प्रशासकों की समिति (सीओए) प्रमुख विनोद राय ने कहा, ‘हम आईपीएल में कोई उद्घाटन समारोह नहीं कराएंगे और इसके लिए जितना बजट रखा गया था, वह शहीदों के परिवारों को दिया जाएगा.’ सीओए ने यह फैसला यहां शुक्रवार को हुई बैठक में लिया. गत चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स 23 मार्च को आईपीएल के शुरुआती मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू से भिड़ेगा. 

यह भी पढ़ें: युद्ध हो या वर्ल्ड कप; भारत ने हर बार पाकिस्तान के छक्के छुड़ाए हैं, जानें हर मैच की कहानी

हालांकि, सीओए की इस बैठक में विश्व कप (World Cup 2019) में होने वाले पाकिस्तान से जुड़े मैच के बारे में भी कोई फैसला नहीं हो सका. बैठक में यह तय नहीं हो पाया कि इस मैच का बायकॉट किया जाए या नहीं. सीओए प्रमुख विनोद राय ने कहा, ‘16 जून की तारीख अभी बहुत दूर है. हम बाद में इस पर सरकार की सलाह के बाद फैसला करेंगे.’ यह पूछने पर कि इस मुद्दे पर खिलाड़ियों से सलाह ली गई है तो राय ने नहीं में जवाब दिया. 

विनोद राय ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह के उस बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत को पाकिस्तान के खिलाफ मैच का बहिष्कार करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘मैं इस मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा. हम सरकार से जो भी सलाह मशविरा करेंगे, वो बाद में करेंगे. कृपया इस बात को समझिये कि हमारे पास अभी तीन महीने का समय है. सरकार जो कुछ कहेगी, हम उसका पालन करेंगे.’ 

(भाषा)