Breaking News
  • भारत और अमेरिका के बीच 5 समझौते हुए, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दे पर चर्चा हुई: राजनाथ सिंह

इंग्लैंड की इस खिलाड़ी ने छोड़ा 'मांकड़िंग' का मौका, इस विंडीज दिग्गज की दिलाई याद

इस महिला खिलाड़ी ने दिया खेल भावना का परिचय, आईसीसी महिला टी-20 वर्ल्ड कप का सुनहरा मौका गंवाया

इंग्लैंड की इस खिलाड़ी ने छोड़ा 'मांकड़िंग' का मौका, इस विंडीज दिग्गज की दिलाई याद
इंग्लैंड ने सिर्फ एक बार टी-20 महिला वर्ल्ड कप जीता है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आपको याद होगा जब आईपीएल 2019 में भारत के स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से खेलते हुए राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी जोश बटलर 'मांकड़िंग' के जरिए आउट किया था. जिसको लेकर अश्विन को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. हांलाकि वो तकनीकी रूप से सही थे. लेकिन इस तरह से किसी खिलाड़ी को आउट करना खेल भावना के खिलाफ समझा जाता है. 

ऐसा ही मौका तब आया जब मौजूदा आईसीसी महिला टी-20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ग्रुप बी का मुकाबला जारी था. मैच आखिरी 4 गेंदों में दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 7 रन की जरूरत थी. इंग्लैंड की तरफ से गेंदबाजी कर रही थीं कैथरीन ब्रंट. जब वो आखिरी ओवर की तीसरी गेंद फेकने जा रही थीं. तब नॉन स्ट्राइकर इंड पर सूने लुस मौजूद थी. लुस गेंद फेंकने से पहले ही क्रीज को छोड़ चुकीं थीं. 

कैथरीन ब्रंट चाहतीं तो वो सूने लुस को आसानी से आउट कर सकती थीं, और दक्षिण अफ्रीका को मुश्किल में डाल सकतीं थीं. लेकिन ब्रंट ने ऐसा नहीं किया, उन्होंने मांकड़िंग का मौका छोड़ दिया, वो फिर से गेंद फेंकने के लिए बढ़ी, लेकिन उनकी ये गेंद सीधे बाउंड्री पार 6 रन के लिए चली गई. और मैच बराबरी पर आ गया. इसके बाद एक चौका लगा और ये मैच दक्षिण अफ्रीका ने जीत लिया. 

कैथरीन के इस कदम को लेकर काफी वाहवाही मिल रही है. भले ही उन्होंने वर्ल्ड कप के अहम मैच को जीतने का मौका गंवा दिया. लेकिन खेल भावना का परिचय देते हुए उन्होंने करोड़ों क्रिकेट फैंस का दिल जीत लिया. जहां प्रतिस्पर्धा के दौर में खिलाड़ी किसी भी कीमत पर जीत हासिल करने की कोशिश करते हैं. वहीं कैथरीन ने ये साबित किया है कि खेल भावनाओं को सबसे ज्यादा तरजीह दी जानी चाहिए. 

साल 1987 के वर्ल्ड कप में भी ऐसा ही कुछ मौका आया था. जब वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के बीच मैच चल रहा था. दोनों टीम को जीत की दरकार थी. पाकिस्तान को आखिरी गेंद में 2 रन की जरूरत थी. गेंद का सामना कर रहे थे अब्दुल कादिर, वाल्स गेंद फेंकने ही वाले थे कि नॉन स्ट्राइकर इंड पर मौजूद सलीम जाफर ने क्रीज छोड़ दी. वाल्स चाहते तो जाफर को 'मांकडिंग' आउट कर सकते थे. लेकिन उन्होंने ये मौका छोड़ दिया. आखिरी गेंद पर कादिर ने जरूरी 2 रन बना लिए और पाकिस्तान सेमीफाइनल में जगह बनाने में कामयाब हो गया. इस मैच को वाल्श की खेल भावना के लिए याद रखा जाता है.