Match Fixing: बुकी संजीव चावला की अजीब दलील, कहा- मुझे पुलिस कस्टडी में नहीं रखा जा सकता

Match Fixing: बुकी संजीव चावला को पटियाला हाउस कोर्ट ने 12 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेजा है. उसने इस फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती दी है. 

Match Fixing: बुकी संजीव चावला की अजीब दलील, कहा- मुझे पुलिस कस्टडी में नहीं रखा जा सकता

नई दिल्ली: एक दिन पहले इंग्लैंड से भारत लाए गए बुकी संजीव चावला (Sanjeev Chawla) ने पुलिस कस्टडी में भेजे जाने के पटियाला हाउस कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है. उसने इस फैसले के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में अपील दायर की है. चावला ने अपनी याचिका में कहा है कि उसे पुलिस कस्टडी में नही भेजा जा सकता. उसे सिर्फ केवल तिहाड़ जेल में ही रखा जा सकता है. 

संजीव चावला मैच फिक्सिंग (Match Fixing) मामले का मुख्य आरोपी है. उसे ब्रिटेन से प्रत्यर्पण कर गुरुवार को भारत लाया गया है. संजीव चावला को उसी दिन पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया. पुलिस ने 14 दिन की पुलिस कस्टडी मांगी. इस पर कोर्ट ने चावला को 12 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा है.

यह भी पढ़ें: IPL 2020: विराट की टीम को लेकर असमंजस खत्म, अब नए रंग में दिखेगा रॉयल चैलेंजर्स का शेर

संजीव चावला साल 2000 में खेल जगत को हिला देने वाले मैच फिक्सिंग कांड का मुख्य आरोपी है. उसे भारत लाने के लिए डीसीपी राम गोपाल नाइक की टीम इंग्लैंड गई थी. चावला से अब दिल्ली की क्राइम ब्रांच पूछताछ करेगी. मैच फिक्सिंग मामले में कई क्रिकेटरों के भी नाम आए थे. संजीव चावला से ऐसे कई चेहरे बेनकाब हो सकते हैं. 

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने साल 2000 में भारत-दक्षिण अफ्रीका मैच को फिक्स करने के लिए मेहमान टीम के तत्कालीन कप्तान हैंसी क्रोन्ये और पांच अन्य के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी. बाद में सबूतों के अभाव में इनमें से हर्शल गिब्स और निकी बोए के नाम बाद में हटा दिए गए थे.