close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोहाली में टीम इंडिया की हार से क्यों 'खुश' हैं जयपुर के कुछ लोग

मोहाली में रविवार को खेले गए चौथे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को चार विकेट से हराया. 

मोहाली में टीम इंडिया की हार से क्यों 'खुश' हैं जयपुर के कुछ लोग
यह भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहला मौका था, जब टीम इंडिया 350 से बड़ा स्कोर बनाकर हारी.

नई दिल्ली: मोहाली में रविवार को खेले गए चौथे वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को चार विकेट से हराया. टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 358 रन बनाए थे. जवाब में विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया की टीम ने पीटर हैंड्सकॉम्ब (117), उस्मान ख्वाजा (91) और एश्टन टर्नर के ताबड़तोड़ 68 रन की बदौलत टीम इंडिया को करारी शिकस्त दी. यह भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहला मौका था, जब टीम इंडिया 350 से बड़ा स्कोर खड़ाकर हार गई. वहीं, लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी जीत भी है. उसने पहली बार वनडे में 350 से बड़ा लक्ष्य हासिल किया. एश्टन टर्नर की मैच जिताऊ पारी से पूरे देश में मायूसी है लेकिन शायद जयपुर के कुछ लोग खुश हैं.

IPL से पहले एश्टन का धमाल
IPL का 12वां सीजन 23 मार्च से शुरू होने जा रहा है. ऑस्ट्रेलिया के युवा बल्लेबाज टर्नर IPL में राजस्थान रॉयल्स टीम का हिस्सा होंगे. टर्नर को राजस्थान की फ्रेंचाईजी ने 50 लाख रुपये की उनकी बेस प्राइस पर खरीदा था. मोहाली वनडे में एश्टन की पारी से राजस्थान रॉयल्स खुश है. मोहाली वनडे के बाद राजस्थान रॉयल्स ने एक ट्वीट किया जिसमें अपने खिलाड़ी टर्नर की प्रशंसा की.

मुझे नहीं पता कि RR ने मुझे क्यों चुना: टर्नर
जब टर्नर को राजस्थान रॉयल्स ने अपनी टीम का हिस्सा बनाया था तो उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि मुझे नहीं पता कि आरआर ने उन्हें क्यों चुना है. टर्नर ने अभी तक केवल दो वनडे खेले हैं. इन दो वनडे मैच के दो पारियों में 105 की औसत से कुल 105 रन बनाए हैं. इस दौरान नाबाद 84 रन उनका सर्वोच्च स्कोर रहा. पश्चिम ऑस्ट्रेलिया से ताल्लुक रखने वाले टर्नर बिग बैश लीग समेत कई टूर्नामेंट में बेस्ट फिनिशर की भूमिका निभा रहे हैं. परिस्थितियों के हिसाब से बल्लेबाजी करने के लिए उन्हें जाना जाता है. जब कभी भी मिचेल मार्श उपलब्ध नहीं रहे, उन्होंने अपनी टीम के लिए कप्तानी की. उनकी तुलना माइकल हसी, डीन जोंस और माइकल बेवन जैसे खिलाड़ियों से की गई.

Rajasthan Royals

कुछ इस तरह मिला ऑस्ट्रेलियाई टीम में मौका 
इस साल जनवरी में, भारत के खिलाफ खेलने आने वाली जब ऑस्ट्रेलियाई वनडे टीम में मिचेल मार्श को मौका नहीं मिला तो ऑस्ट्रेलिया कोच जस्टिन लैंगर ने एश्टन टर्नर को मौका दिया. लैंगर का कहना था, "एश्टन जिस तरह से विकटों के बीच दौड़ते हैं, वह अद्भुत है. वह अपनी पारी को बहुत अच्छी तरह से पूरा करते हैं." लैंगर की बात सच साबित हुई. मोहाली वनडे में 37वें ओवर में टर्नर मैदान में उतरे थे. बाद में उन्होंने 43 गेंदों में नाबाद 84 रन की धुंआधार पारी खेली. अपने दूसरा वनडे खेल रहे टर्नर ने बुमराह की 12 गेंदों में 36 रन, बुमराह की 9 गेंदों में 15 रन बनाए. कुलदीप की 11 गेंदों में 18 जबकि चहल की 11 गेंदों में 15 रन बनाए.