धोनी के समर्थन में उतरे मोहम्मद कैफ, उनकी वापसी को लेकर कही ये बात

टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी के अनुभव का काफी फायदा टीम इंडिया को  हो सकता है, उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.

धोनी के समर्थन में उतरे मोहम्मद कैफ, उनकी वापसी को लेकर कही ये बात

नई दिल्ली: भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज मोहम्मद कैफ (Mohammad Kaif) ने एमएस धोनी (MS Dhoni) के भविष्य को लेकर एक बड़ी भविष्यवाणी की है. कैफ के अनुसार धोनी को नजरअंदाज करना आसान नहीं है और केएल राहुल टीम के लिए विकेटकीपर के रूप में लंबे समय का विकल्प नहीं हैं. एक वेबसाइट के साथ बातचीत के दौरान कैफ ने दावा किया कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि धोनी ने पिछले एक साल से किसी भी तरह का क्रिकेट नहीं खेला है, क्योंकि धोनी एक महान खिलाड़ी हैं और वो जब चाहें अपनी लय हासिल कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- B'day Special: पाकिस्तान क्रिकेट टीम का वो कप्तान जिनकी जड़ें हिंदुस्तान में हैं

धोनी की तारीफों के पुल बांधते हुए कैफ ने कहा कि 39 साल का होने के बावजूद धोनी में अभी बहुत सा क्रिकेट बाकी है और उनके अनुभव का टीम इंडिया को काफी फायदा हो सकता है, इसलिए धोनी को रिप्लेस नहीं किया जा सकता. लोग चाहें कुछ भी कहें, धोनी की टीम इंडिया में वापसी लगभग निश्चित है और ये वापसी बहुत जल्द होगी.

जब धोनी ने टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया था, तब कैफ ही उनके साथ मैदान पर थे. दुर्भाग्य से धोनी उस मैच में 0 पर आउट हो गए थे. उस समय कैफ को बिल्कुल भी ऐसा नहीं लगता था कि धोनी इतने बड़े खिलाड़ी बन जाएंगे पर रांची के इस सपूत ने कैफ को गलत साबित कर दिया और धोनी ने न केवल टीम में अपनी जगह पक्की की, इसके साथ ही माही आगे चलकर भारतीय कप्तान भी बने.

धोनी के साथ मैदीन पर गुजारे वक्त के बारे में कैफ ने बताया, 'मैंने पहली बार धोनी को तब देखा था, जब मैं देवधर ट्रॉफी के लिए सेंट्रल जोन की टीम का कप्तान था. वो ईस्ट जोन के लिए खेल रहे थे. यह उनके इंटरनेशनल डेब्यू से दो साल पहले की बात है. हमने करीब 360 रन बनाए थे और वह तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए आए. हमने उन पर अटैक करने की रणनीति बनाई, लेकिन उन्होंने 80-85 रन ठोक दिए वह भी सिर्फ 40-50 बॉल खेलकर. मुझे तभी महसूस हो गया था कि उनमें (धोनी) में एक्स-फैक्टर वाली बात है. उनके खेलने का ढंग और खेल की समझ अद्भुत थी.'

कैफ कहते हैं, 'जब अपने पहले मैच में धोनी रन आउट हुए तब किसी को भी उनकी मैच फिनिशिंग क्षमता क बारे में नहीं पता था. उनकी शुरूआती 2 या 3 पारियां अच्छी नहीं गई. लेकिन जब विशाखापत्तनम में पाकिस्तान के खिलाफ उन्हें नंबर 3 पर खेलने का मौका मिला. मैंने वह पारी बहुत नजदीक से देखी थी. मुझे अहसास हो गया था कि यह व्यक्ति यहां लंबे समय तक टिकने आया है.

ये विश्वास करना मुश्किल था कि कोई व्यक्ति अपने करियर के शुरुआती दिनों में ऐसी पारी खेल सकता है. बॉल को हिट करना एक बात है और निर्दयीता के साथ बॉल को फाड़ देना एक अलग बात है. वो पाकिस्तानी अटैक की धज्जियां उड़ा रहे थे. मैंने उस दौर में किसी को भी ऐसी बैटिंग करते नहीं देखा था. तो उनके नंबर 3 पर बल्लेबाजी के लिए भेजना शानदार फैसला था.'

धोनी की टीम इंडिया में वापसी को लेकर कैफ ने कहा कि, 'लोग सोच रहे हैं कि धोनी को क्रिकेट से बाहर रहे काफी समय हो गया है और आईपीएल के जरिए उनकी वापसी कुछ आसान हो सकती थी. लेकिन मैं ऐसा नहीं सोचता. धोनी सचमुच बड़े खिलाड़ी हैं. वह संपूर्ण रूप से मैच विनर हैं, जो बखूबी जानते हैं कि दबाव के क्षणों में नंबर 6 और 7 पर कैसा खेलना है.

इसके कोई मायने नहीं है कि कितने खिलाड़ी आते हैं, आप एमएस धोनी को रिप्लेस नहीं कर सकते. उन्होंने वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच मे रन बनाए थे. जडेजा के साथ उनकी पार्टनरशिप बेहद अहम थी. वह शानदार पारी खेले थे और उन्होंने करीब-करीब वह मैच जिता ही दिया था.'

कैफ ने कहा, 'धोनी का कोई विकल्प नहीं है. धोनी के स्थान पर कई खिलाड़ियों को आजमाया गया है. मुझे नहीं लगता कि केएल राहुल विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में लंबे समय का विकल्प हैं. उन्हें हमेशा बैकअप विकेटकीपर के तौर पर तैयार रहना चाहिए, अगर कीपर चोटिल हो जाता है तब वह विकेटकीपिंग का अच्छा विकल्प होंगे. इसलिए आपको एक कीपर तैयार करना होगा. फिलहाल तो ऋषभ पंत और संजू सैमसन भी धोनी की जगह नहीं ले सकते.'