close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एंटी-डोपिंग पर कोई फैसला नहीं, बीसीसीआई की अगली मीटिंग में होगी चर्चा

बैठक में तमिलनाडु प्रीमियर लीग (टीएनपीएल) और कर्नाटक प्रीमियर लीग (केपीएल) जैसे निजी राज्य टी -20 लीगों पर नियंत्रण करने पर भी चर्चा हुई.

एंटी-डोपिंग पर कोई फैसला नहीं, बीसीसीआई की अगली मीटिंग में होगी चर्चा
पिछले कुछ दिनों से बीसीसीआई पर नाडा के नियमों के तहत आने को लेकर लगातार दबाव बढ़ रहा है.

कोलकाता. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने नेशनल एंटी-डोपिंग एजेंसी (नाडा) के दायरे में आने के लिए विश्व एंटी-डोपिंग एजेंसी (वाडा) की अपील पर हड़बड़ी में फैसला नहीं लेने का निर्णय लिया. कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना ने कहा कि सीईओ राहुल जौहरी ने हमें बीसीसीआई के डोपिंग रोधी नीति पर मौजूदा पक्ष, नाडा और आईसीसी के साथ संवाद के बारे में अपडेट किया. हालांकि अभी तक कोई भी फैसला नहीं लिया गया है. हमने इस मुद्दे पर कुछ चर्चाएं की हैं. लेकिन किसी भी फैसले पर पहुंचने से पहले कुछ और बैठक करेंगे. इसमें थोड़ा समय लगेगा.

इंतजार की नीति अपनाएंगे
बोर्ड के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, हमने नाडा मुद्दे और टी -20 लीग के बारे में चर्चा की थी. यह एक खुली बहस थी और उम्मीद है कि हम अगली बैठक में इस पर निर्णय लेंगे.

धोनी को मनाना कठिन
शीर्ष भारतीय क्रिकेटरों जैसे विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी को इस विवादास्पद ‘स्थान बताने के नियम’ के बारे में मनाना मुश्किल होगा, जिसमें खिलाड़ियों को डोपिंग रोधी संस्था को परीक्षण के लिए पहले ही अपने स्थान के बारे में बताना होगा. भारतीय क्रिकेटर इस नियम के खिलाफ हैं, क्योंकि उन्हें डर है कि इससे उनकी निजता का उल्लघंन होगा.

दबाव बढ़ा
दरअसल, पिछले कुछ दिनों से बीसीसीआई पर नाडा के नियमों के तहत आने को लेकर लगातार दबाव बढ़ रहा है. बोर्ड का कहना है कि वह राष्ट्रीय खेल संघ (एनएसएफ) के दायरे में नहीं आता है. बैठक में तमिलनाडु प्रीमियर लीग (टीएनपीएल) और कर्नाटक प्रीमियर लीग (केपीएल) जैसे निजी राज्य टी -20 लीगों पर नियंत्रण करने पर भी चर्चा हुई.

ये रहे मौजूद
प्रशासकों की समिति (सीओए) द्वारा संचालित बीसीसीआई की बैठक में सीओए के प्रमुख विनोद राय, सीईओ राहुल जौहरी, बीसीसीआई के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना, कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी और कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी ने हिस्सा लिया. पूर्व कप्तान और बीसीसीआई की तकनीकी समिति के अध्यक्ष सौरभ गांगुली भी बैठक में मौजूद थे.