close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान की समस्या नहीं है श्रीलंकाई खिलाड़ियों का न आना: जावेद मियांदाद

PAK vs SL:पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और कोच जावेद मियांदाद का कहना है कि श्रीलंका के शीर्ष खिलाड़ियों का न खेलना पाकिस्तान की समस्या नहीं है.

पाकिस्तान की समस्या नहीं है श्रीलंकाई खिलाड़ियों का न आना: जावेद मियांदाद
जावेद मियांदाद पाकिस्तान टीम के कोच भी रह चुके हैं. (फोटो: फाइल)

इस्लामाबाद: हाल ही में जब श्रीलंका के पाकिस्तान दौरे के लिए श्रीलंका क्रिेकेट को टीम की घोषणा करनी थी तब टीम के कई प्रमुख खिलाड़ियों ने पाकिस्तान दौरे का हिस्सा बनने से मना कर दिया. इसके पीछे कुछ और नहीं बल्कि साल 2009 के उस आतंकी हमले की यादें थी जिससे श्रीलंकाई क्रिकेटर घबरा गए. पाकिस्तान की ओर बजाय सुरक्षा के आश्वासन आने के, ऐसे बयान आने लगे कि भारत और बीसीसीआई (BCCI) श्रीलंका पर दबाव डाल रहे हैं. अब पाकिस्तान टीम के पूर्व कप्तान और कोच जावेद मियांदाद  (Javed Miandad) ने इस मुद्दे पर कहा है कि यह पाकिस्तान की नहीं श्रीलंका की समस्या है. 

इसी महीने शुरू हो रहा है श्रीलंका का पाक दौरा
श्रीलंका क्रिकेट टीम के शीर्ष खिलाड़ियों ने इस महीने की 27 तारीख से शुरू हो रहे पाकिस्तान दौरे पर आने से मना कर दिया, जिस पर मियांदाद ने कहा है कि पाकिस्तान टीम को यह नहीं देखना चाहिए की कौन सी टीम खेलने आ रही बल्कि इस बात को नजरअंदाज करते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देना चाहिए. इस दौरे पर दोनों टीमें तीन-तीन मैचों की टी-20 और वनडे सीरीज खेलेंगी.

 

इन खिलाड़ियों ने किया है जाने से इनकार
श्रीलंका के कुछ शीर्ष खिलाड़ियों ने हालांकि सुरक्षा कारणों से अपना नाम वापस ले लिया है. इनमें कप्तान लसिथ मलिंगा, एंजेलो मैथ्यूज, दिनेश चंडीमल, सुरंगा लकमल, दिमुथ करुणारत्ने, थिसारा परेरा, अकिला धनंजय, धनंजय डी सिल्वा, कुशल परेरा और निरोशन डिकवेला के नाम हैं.

क्या कहा मियांदाद ने
पाकिस्तान के अखबार 'द डॉन' ने मियांदाद के हवाले से लिखा है, "यह बात मायने नहीं रखती कि श्रीलंका के कौन से खिलाड़ी खेलने आ रहे हैं बल्कि पाकिस्तान को सामने वाली टीम को देखे बिना अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहिए." मियांदाद का साथ ही मानना है कि श्रीलंका क्रिकेट को उन खिलाड़ियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय मैच छोड़कर अन्य देशों की टी-20 लीग में हिस्सा लेने को प्राथमिकता दी. उन्होंने कहा, "खिलाड़ियों के लिए अंतरराष्ट्रीय मैच प्राथमिकता होने चाहिए और एसएलसी को उन खिलाड़ियों पर कार्रवाई करनी चाहिए जिन्होंने पाकिस्तान दौरे से हटने का फैसला किया है."

(इनपुट आईएएनएस)