पाकिस्तान: क्रिकेटरों के लिए नया फरमान, 'अगर फिटनेस टेस्ट में हुए फेल तो...'

Pakistan cricket: पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कहा है कि अगर कोई खिलाड़ी फेटनेस टेस्ट में फेल हुआ तो उसे सजा मिलेगी. 

पाकिस्तान: क्रिकेटरों के लिए नया फरमान, 'अगर फिटनेस टेस्ट में हुए फेल तो...'

लाहौर: पाकिस्तान क्रिकेट (Pakistan Cricket) में फिटनेस को लेकर एक नया फरमान जारी हुआ है. अक्सर फिटनेस को लेकर आलोचना का सामना करते रहने वाले खिलाड़ियों के लिए यह फरमान मुसीबत बन सकता है. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) ने अपने फरमान में कहा है कि जो केंद्रीय अनुबंध वाले खिलाड़ी फिटनेस टीम की न्यूनतम मानदंडों को पूरा नहीं कर सकेंगे, उन पर जुर्माना लगाया जाएगा.

एक आधिकारिक बयान में पीसीबी ने कहा कि टीम का चौथा फिटनेस टेस्ट राष्ट्रीय क्रिकेट एकेडमी में 6 और 7 जनवरी को आयोजित किया जाएगा. यह फिटनेस टेस्ट यासिर मलिक की देखरेख में लिया जाएगा. यासिर पाकिस्तान क्रिटेक टीम के 'शक्ति और अनुकूलन' कोच हैं. 

यह भी पढ़ें: VIDEO: स्मिथ ने बनाया अनचाहा रिकॉर्ड, दर्शकों के अभिवादन का ऐसे दिया जवाब

इस फिटनेस टेस्ट में पांच प्रमुख बातें जांची जाएंगी. इनमें फैट एनालिस, ताकत, एंड्योरेंस, स्पीड एंड्योरेंस और क्रॉस फिट शामिल होंगे जिन्हें बराबरी की अहमित दी जाएगी. पीसीबी ने कहा," वह खिलाड़ी जो अपनी न्यूनतम फिटनेस आवश्यकता को पूरा नहीं कर सकेगा, उसे उसके मासिक फीस का 15 प्रतिशत  जुर्माना देना होगा. यह तब तक लागू होगा जब तक कि वह फिटनेस के न्यूनमत मानदंड हासिल नहीं कर लेता. जो खिलाड़ी इस टेस्ट में लगातार फेल होते रहेंगे वे अपना केंद्रीय अनुबंध कायम रखने का मौका छोड़ देंगे और उनका ओहदा कम किया जा सकता है." 

पीसीबी ने कहा, "सभी केंद्रीय अनुबंध वाले खिलाड़ी दो दिन के टेस्ट देंगे जो उनके अनुबंध के मुताबिक होगा." इस टेस्ट के लिए वहाब रियाज, मोहम्मद आमिर और शादाब खान अभी उपलब्ध नहीं होंगे क्योंकि वे उस समय बांग्लादेश प्रीमियर लीग में खेल रहे होंगे ऐसे में ये खिलाड़ी 20 और 21 जनवरी को टेस्ट देंगे. 

गौरतलब है कि पाकिस्तान क्रिकेटरों को अक्सर अपनी फिटनेस के चलते आलोचना का शिकार होना पड़ता है. आईसीसी विश्व कप 2019 में सेमीफाइनल में पाकिस्तान के न जा पाने के बाद कोच मिस्बाह उल हक ने टीम में नए फिटनेस कल्चर लाने के लिए नेशनल कैंप और घरेलू टूर्नामेंट में खिलाड़ियों की डाइट में बदलाव की अनुशंसा की थी.