World Cup 2019 के भारत-पाक मैच पर बोले वकार यूनिस, इस गलती को किया याद

पाकिस्तान टीम के पूर्व कप्तान और कोच वकार युनूस ने कहा कि हमने भारतीय टीम की ताकत आंकने में गलती कर दी थी.

World Cup 2019 के भारत-पाक मैच पर बोले वकार यूनिस, इस गलती को किया याद
पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान वकार यूनिस.(फोटो-Reuters)

नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की टीम कभी भी भारतीय टीम को शिकस्त नहीं दे सकी है. ये रिकॉर्ड पिछले साल इंग्लैंड की धरती पर खेले गए वर्ल्ड कप में भी बरकरार रहा था, जब मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर खेले गए मुकाबले में  टीम इंडिया ने डकवर्थ लुइस प्रणाली से पाकिस्तान को 89 रन से करारी हार का स्वाद चखाया था. ये भी कहा जा सकता है कि इस प्रणाली की वजह से पाक को थोड़ा कम रन से हार का सामना करना पड़ा वरना हार का अंतर और ज्यादा बड़ा हो सकता था. अब पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और कोच वकार यूनिस (Waqar Younis) ने इस हार का कारण टीम इंडिया को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित करना बताया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर फैंस से बातचीत के दौरान कहा कि ये हमारा मूर्खतापूर्ण फैसला था.

यह भी पढ़ें- आज के दिन टीम इंडिया को मिले थे 'दीवार' और 'महाराज', इस खास दिन को लेकर भावुक हुए 'दादा'

वकार बोले, हमने टीम इंडिया को आंकने में गलती की थी
वकार ने कहा कि इस मुकाबले से पहले रणनीति बनाते समय हमारी टीम ने भारतीय बल्लेबाजी को हल्का आंक लिया था, जो उनकी गलती थी. इसी का खामियाजा हमारी टीम को बड़े अंतर के साथ मैच हारकर भुगतना पड़ा. वकार ने कहा, 'दरअसल पाकिस्तानी रणनीति थी कि पहले गेंदबाजी करते हुए भारत के टॉप बल्लेबाजों को सस्ते समेटकर भारतीय टीम को दबाव में ले आएंगे. लेकिन भारत के पास टॉप ऑर्डर में शानदार बल्लेबाज थे.' उन्होंने कहा, 'मेरे हिसाब से पाकिस्तान ने उस मैच में टॉस जीत कर गेंदबाजी करने का गलत फैसला कर लिया था. पाकिस्तान को उम्मीद थी कि शुरुआत में पिच तेज गेंदबाजों की मदद करेगी और उनके गेंदबाज भारत के ओपनरों को जल्दी पवेलियन भेज कर दबाव बना लेंगे.'

शानदार हैं भारतीय टीम के ओपनर
400 से ज्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज ने कहा, 'भारतीय टीम के पास शानदार ओपनर हैं. इसके अलावा पिच और परिस्थितियों ने भी तेज गेंदबाजों का ज्यादा साथ नहीं दिया. नतीजा ये रहा कि भारतीय बल्लेबाजों ने गेंदबाजों को हावी होने का मौका ही नहीं दिया. भारत ने इतना बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया, जिसे हासिल करना पाकिस्तान के लिए काफी मुश्किल हो गया.' वकार ने कहा, 'मेरा ख्याल है कि टॉस जीतकर पाकिस्तान का गेंदबाजी लेना मूर्खतापूर्ण फैसला था. उस पिच पर पहले बल्लेबाजी करते हुए बड़ा स्कोर बनाकर दबाव पैदा करना चाहिए था. उस दिन पाकिस्तान के गेंदबाजों को मदद नहीं मिली और भारत का प्रदर्शन कमाल का रहा.'

रोहित ने ठोके थे 140 रन
उस मैच की बात करें तो टीम इंडिया के लिए हिटमैन रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने महज 113 गेंद में 140 रन की जबरदस्त पारी खेली थी. इसकी बदौलत टीम इंडिया ने 50 ओवर में 5 विकेट पर 336 रन बना दिए थे. बाद में पाकिस्तान की टीम बारिश से प्रभावित मैच में 40 ओवर में छह विकेट पर 212 रन ही बना सकी थी. जबकि डकवर्थ लुइस प्रणाली के हिसाब से उनके 291 रन होने चाहिए थे. इससे भारत का पाकिस्तान पर वर्ल्ड कप में जीत का क्रम बरकरार रहा था. वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ यह भारत की 7वीं जीत थीं, जबकि पाकिस्तान इस बड़े टूर्नामेंट में भारत के खिलाफ अभी तक एक भी मैच जीतने में सफल नहीं रहा है.

वकार की नजर में सचिन की 2003 की पारी बेस्ट
वर्ल्ड कप में रोहित की इस जोरदार पारी के बावजूद वकार की नजर में भारत-पाकिस्तान के मैचों में 2003 वर्ल्ड कप में सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) की 98 रन पारी सबसे ज्यादा बेस्ट है.  दक्षिण अफ्रीका में खेले गए इस मैच में 274 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर का पीछा करते हुए तेंदुलकर ने ताबड़तोड़ करिश्माई बल्लेबाजी की़ लेकिन शतक से दो रन से चूक गए थे. भारत ने इस मैच को छह विकेट से जीता था. सचिन की इस विशेष पारी के बारे में वकार ने कहा, '2003 में पाकिस्तान के खिलाफ सचिन तेंदुलकर की पारी को शब्दों में बयां करना मुश्किल है, क्योंकि उन्होंने कमाल की बल्लेबाजी की थी, हमारी टीम में अनुभवी गेंदबाज थे और भारत दबाव में था. तब भी उन्होंने कमाल का खेल दिखाया था.'