Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

Pulwama Attack: मदद के इंतजार में पथरा गई निगाहें, अब परिवार खुद बना रहा शहीद की समाधि

Pulwama Attack Anniversary: शहीद की पत्नी रूबी को कलेक्ट्रेट में क्लर्क की नौकरी दी गई है. लेकिन मदद के कई वादे अब भी अधूरे हैं. 

Pulwama Attack: मदद के इंतजार में पथरा गई निगाहें, अब परिवार खुद बना रहा शहीद की समाधि
शहीद श्यामबाबू के पिता ने कहा- खुद के पैसों से बनाएंगे समाधि

अभय अवस्थी/कानपुर: आज से ठीक एक साल पहले आतंकियों की कायराना हरकत ने हमारे 44 जवानों की जान ले ली थी. पुलवामा में हुए इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए थे. इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था. इन्हीं शहीदों में से एक कानपुर के श्याम बाबू थे. श्याम बाबू का पार्थिव शरीर जब कानपुर के गांव रैगवां पहुंचा था, तब लोगों का हुजूम उनके घर पर मौजूद था. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी खुद यहां पहुंची थीं. 

सत्ता पक्ष से लेकर विपक्षी नेताओं तक ने श्याम बाबू के घर पहुंचकर बहुत से वादे किए थे. आज इस घटना को एक साल पूरे होने जा रहे हैं तो हमने भी सोचा कि सियासतदानों के इन वादों को परख लिया जाए. हमारी टीम रैगवां गांव पहुंची. हमने शहीदके पिता रामप्रकाश, मां रामदेवी, पत्नी रूबी और भाई कमलेश से बात की. पता चला कि शहीद की पत्नी रूबी को कलेक्ट्रेट कानपुर देहात में क्लर्क की नौकरी दी गई है. सरकार की ओर दी जाने वाली आर्थिक मदद भी श्याम बाबू की पत्नी को मिल गई है. 

दूसरी ओर, शहीद श्याम बाबू के लिए शहीद स्मारक बनना था. शहीद स्मारक तक सड़क बनाया जाना था, जिसे एक साल में जिला प्रशासन अब तक नहीं बनवा पाया. घटना के एक साल पूरे हो गए हैं. इसलिए अब परिवार खुद ही शहीद की समाधि बना रहा है. खास बात यह कि इस समाधि स्थल तक आने वाली सड़क जिसे पीडब्ल्यूडी ने बनाई है. वह महज डेढ़ माह के भीतर ही उखड़ने लगी है. शहीद श्याम बाबू के परिवार का कहना है कि जो सड़क पीडब्ल्यूडी ने बनाई है वह अधूरी बनाकर ही छोड़ दी है जिस सड़क को श्याम बाबू के समाधि स्थल तक जाना था वह महज शहीद के घर तक ही पहुंची है. 

इस पूरे मामले पर जब जिले के जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि शहीद की पत्नी को कलेक्ट्रेट में नौकरी व सरकार द्वारा दी गई नकद धनराशि उसी वक्त दे दी गई थी. साथ ही पीडब्ल्यूडी द्वारा एक सड़क का निर्माण भी कराया गया है. शहीद स्मारक और शहीद स्मारक तक की सड़क बहुत जल्द बना दी जाएगी.