राहुल द्रविड़ ने क्रिकेटर्स के करियर को लेकर की बड़ी भविष्यवाणी, जानिए क्या कहा

टीम इंडिया की  'दीवार' के नाम से मशहूर क्रिकेटर और मिस्टर भरोसेमंद ने बताया है कि तरह से लॉकडाउन का फायदा क्रिकेटर्स को मिल सकता है. 

राहुल द्रविड़ ने क्रिकेटर्स के करियर को लेकर की बड़ी भविष्यवाणी, जानिए क्या कहा

नई दिल्ली: पूर्व भारतीय कप्तान और महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने क्रिकेटर्स के करियर को लेकर एक बड़ी भविष्यवाणी की है. द्रविड़ का दावा है कि अगर खिलाड़ियों ने कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से मिले खाली समय का सदुपयोग किया तो उनका करियर 2-3 साल लंबा हो जाएगा. यहाँ द्रविड़ का फोकस क्रिकेटर्स की फिटनेस पर है क्योंकि उनके अनुसार जो क्रिकेटर घर पर बंद होने के बावजूद अपनी फिटनेस पर काम करता रहेगा, घर पर अभ्यास करता रहेगा, वही जल्द से जल्द अपनी लय प्राप्त कर सकेगा.

 यह भी पढ़ें- B'day Special:भारतीय महिला क्रिकेट टीम की वो कप्तान जो आज हैं मशहूर टीवी कमेंटेटर

द्रविड़ ने खिलाड़ियों को आराम करने की सलाह भी दी. यहाँ आराम से उनका तात्पर्य सिर्फ शरीर को आराम देना नहीं है, इसके साथ ही उन्होनें दिमाग को आराम देने की बात भी कही है. द्रविड़ ने ये भी कहा कि इतने दिनों तक क्रिकेट से दूर रहने के बावजूद भारतीय क्रिकेटर बल्लेबाजी या गेंदबाजी करना नहीं भूल जाएंगे क्योंकि सभी इंडियन खिलाड़ी काफी स्किलफुल, प्रतिभा के धनी और कठोर परिश्रम करने वाले हैं. चाहे खेल कभी भी क्यों न शुरू हो, भारतीय क्रिकेटर बिना समय गंवाए अपनी फॉर्म हासिल कर लेंगे और एक बार फिर से बेहतरीन क्रिकेट खेलने लगेंगे.

द्रविड़ ने कहा कि 'मैं ब्रेक को बहुत से क्रिकेटरों को शरीर को आराम देने, दिमाग को आराम देने के अवसर के रूप में देखने के लिए कह रहा हूं. आपको ऐसा अवसर कभी नहीं मिलेगा. यदि आप 2 से 3 महीने का अच्छी तरह से उपयोग करते हैं, तो करियर को 2-3 साल तक बढ़ा सकते हैं.' उन्होंने कहा, 'खेल के फिर से शुरू होने से पहले खिलाड़ी स्किल को नहीं भूलेंगे. मैं क्रिकेट के बारे में यह कह सकता हूं. यदि आपने समय का सदुपयोग किया है तो आपको वापस आने में बहुत समय नहीं लगेगा.'

अपने जमाने में भारत की दीवार कहे जाने वाले द्रविड़ ने बताया, 'बड़े इवेंट खेलने से पहले खिलाड़ियों को फिटनेस हासिल करने के लिए पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए. इससे उनमें आत्मविश्वास आएगा. सामान्य फिटनेस और मैच फिटनेस में अंतर होता है. ऐसे कठिन समय में खुद को फिट रखने के लिए हमें अधिक से अधिक प्रयास करना चाहिए. लॉकडाउन से छूट मिलने के बाद क्रिकेट खिलाड़ी जल्द आउटडोर ट्रेनिंग शुरू कर सकते हैं.'

द्रविड़ से पहले सचिन तेंदुलकर भी भारतीय क्रिकेटर्स को कुछ इस तरह की सलाह दे चुके हैं. सचिन ने कहा था 'मैं सभी क्रिकेटर्स को सबसे पहले कहना चाहूंगा कि अपनी-अपनी बैटरी रिचार्ज कर लो. थोड़ा ऑफ टाइम भी होना जरूरी है. लगातार खेलते रहने से आपका शीर्ष पर बना रहना मुश्किल है. कई बार क्रिकेट से दूरी भी बनाना जरूरी हो जाता है ताकी आप अपनी बैटरी वापस रिचार्ज करके मैदान पर उतर सकें.'