close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जूनियर 'दीवार' फिर सुर्खियों में छाए, ऑलराउंड परफॉर्मेंस से मैच के साथ जीता दिल

समित द्रविड़ दाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं.

जूनियर 'दीवार' फिर सुर्खियों में छाए, ऑलराउंड परफॉर्मेंस से मैच के साथ जीता दिल
ऑलराउंड परफॉर्मेंस से फिर सुर्खियों में समित द्रविड़ (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर से तो अब हर कोई वाकिफ हो चुका है. श्रीलंका के खिलाफ अंडर-19 से अर्जुन अपने इंटरनेशनल करियर का आगाज कर चुके हैं. हालांकि, इस दौरे पर अभी तक अर्जुन कुछ खास छाप नहीं छोड़ पाएं हैं, लेकिन फिर भी सचिन तेंदुलकर के बेटे होने की वजह से उनसे कई उम्मीदें बंधी हैं. अब यह तो वक्त ही बता पाएगा कि अर्जुन तेंदुलकर क्रिकेट में किस मुकाम को छू पाते हैं, लेकिन इस बीच कभी टीम इंडिया की 'दीवार' कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ के बेटे समित द्रविड़ ने शानदार ऑलराउंडर परफॉर्मेंस के बलबूते अपने स्कूल को जीत दिलाई है.

12 साल के समित द्रविड़, राहुल द्रविड़ के बड़े बेटे हैं और अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए शानदार क्रिकेट खेल रहे हैं. हाल ही में बेंगलुरू में कोट्टानियन शील्ड अंडर-14 टूर्नामेंट में समित द्रविड़ के शानदार परफॉर्मेंस के दम पर उनके स्कूल ने जीत दर्ज की.

समित का ऑलराउंड परफॉर्मेंस
इस मैच में समित द्रविड़ ने पहले बल्ले और उसके बाद गेंद से अपना कमाल दिखाया. समित ने मैच में नाबाद अर्धशतक जड़ा और फिर  और 9 रन देकर तीन विकेट हासिल किए. यह मुकाबला कैंब्रिज पब्लिक स्कूल और अदिति इंटरनेशनल स्कूल के बीच था और समित के कमाल के परफॉर्मेंस से अदिति इंटरनेशनल स्कूल ने इस मैच में 9 विकेट से जीत हासिल की. 

125 रनों की पारी खेलकर आए थे चर्चा में 
बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है, जब समित द्रविड़ ने क्रिकेट में अपने शानदार परफॉर्मेंस से सुर्खियां बटोरी हैं. इससे पहले भी वह स्कूली स्तर पर कई शानदार पारियां खेल चुके हैं. अप्रैल 2016 में समित द्रविड़ ने 125 रनों की पारी खेली थी, इसमें 22 चौके और एक छक्का शामिल था. यह अंडर 14 का एक मैच था.

जीत चुके हैं 'सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज' का खिताब 
2015 में समित द्रविड़ ने गोपालन क्रिकेट चैलेंज अंडर-12 (GCC) में 'सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज' का खिताब हासिल किया था.  अदिति इंटरनेशनल स्कूल की तरफ से खेलते हुए जहां 16 देशों के बच्चे पढ़ते हैं, समित ने तीन अर्धशतक ठोंके थे. 77, 93 और नाबाद 77 की पारी खेलते हुए उन्होंने अपने पिता की तरह ही मैच जिताऊ पारियां खेली थी.

राहुल के जन्मदिन से पहले खेली 150 रनों की पारी
इसी साल राहुल द्रविड़ के जन्मदिन (11 जनवरी) से एक दिन पहले समित ने 150 रनों की पारी खेलकर बता दिया था कि वह अपने पिता की राह पर चल रहे हैं. समित ने कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन (केएससीए) के अंडर-14 बीटीआर कप में अदिति इंटरनेशनल स्कूल की ओर से खेलते हुए 150 रनों की शानदार पारी खेली है. समित की इस पारी की बदौलत अदिति इंटरनेशनल स्कूल ने विवेकानंद स्कूल को 412 रनों से हराया है.

Rahul Dravid

कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं
बता दें कि समित द्रविड़ को कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं मिलता. राहुल ने उनके कोच और स्कूल प्रशासन को साफ हिदायत दे रखी है कि उसका चयन केवल मैरिट के आधार पर ही हो. इसका श्रेय राहुल और उनकी पत्नी को तो जाता ही है समित को भी जाता है, जो हमेशा अनुशासन में रहते हैं. 

पापा से अलग है समित का स्टाइल
समित अपने पिता के विपरीत गेंद को ज्यादा जोर से हिट करने में यकीन रखते हैं. राहुल ने एक बार कहा भी था कि उन्हें समित की बल्लेबाजी के स्टाइल से कोई परहेज नहीं है. वह अपना स्टाइल चुनने के लिए पूरी तरह स्वतंत्र है. बता दें कि राहुल द्रविड़ ने 2003 में विजया पांढेकर से शादी की थी और उनके दो बच्चे हैं. राहुल द्रविड़ के नाम टेस्ट में 13288 रन हैं और उन्होंने 344 वनडे मैचों में उन्होंने 10889 रन बनाए हैं.