R Ashwin ने जताई निराशा, कहा- चेन्नई में लोग हल्के में ले रहे कोरोना के खतरे को

Corona Virus: आर अश्विन को लगता है कि जहां पूरी दुनिया कोरोना वायरस को लेकर संवेदनशीलता दिखा रही है, चेन्नई के लोग इसके प्रति गंभीर नहीं हैं. 

R Ashwin ने जताई निराशा, कहा- चेन्नई में लोग हल्के में ले रहे कोरोना के खतरे को
अश्विन का कहना है कि चेन्नई में लोगों को शायद विश्वास है कि कोरोना वायरस का उनपर कोई असर नहीं होगा. (फाइल फोटो)

चेन्नई: टीम इंडिया के स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin) इस बात से निराश हैं कि चेन्नई की लोग कोरोना वायरस (Corona Virus) के खतरे को गंभीरता नहीं ले रहे हैं. इस वायरस की वजह से तजी से फैल रही कोविड-19 (Covid-19) बीमारी के खतरे को देखते हुए देश सहित दुनिया भर में लोगों को सामजिक मेलजोल से दूर रहने की सलाह दी गई है. लेकिन अश्विन को लगता कि तमिलनाडु के लोग इस सलाह का पालन नहीं कर रहे हैं. 

अश्विन को लगता है कि तमिलनाडु के लोगों के इस रवैये के दो कारण हो सकते हैं या तो लोगों को लगता है कि गर्मी का मौसम आने से इस वायरस का प्रसार नियंत्रित हो जाएगा या फिर उन्हें विश्वास है कि उन्हें कुछ नहीं होगा. 

यह भी पढ़ें: B'day Special: भारत-इंग्लैंड दोनों के लिए टेस्ट खेलने वाला दुनिया का इकलौता शख्स

अश्विन ने रविवार को कोरोनाइंडिया को टैग करते हुए ट्वीट किया, "मुझे इसे फिर से कहने दीजिए, मेलजोल से दूरी पर चेन्नई के लोगों का ध्यान अभी नहीं गया लगता है. इसका कारण केवल यही हो सकता है कि उनका विश्वास है कि गर्मी इस वायरस पर काबू कर लेगी या उनका यह विश्वास है कि उन्हें कुछ नहीं होगा. 

इससे पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने लोगों को 'सुरक्षित और सतर्क' रहने की सलाह दी थी. विराट का बयान तब आया था जब भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज के आखिरी दो मैच कोरोना वायरस के कारण रद्द कर दिए गए थे. इसी के साथ बीसीसीआई ने 29 मार्च से होने वाले आईपीएल को भी 15 अप्रैल तक स्थगित कर दिया था. 

 देश में अभी कर कोविड-19 से पीड़ित मामलों का आंकड़े 110 की पुष्टि हो चुकी है और दो मौतें हो चुकी है. स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक तमिलनाडु में केवल एक ही संक्रमित मामला सामने आया है.
(इनपुट आईएएनएस)