रोहित शर्मा और एमएस धोनी की कप्तानी एक जैसी: सुरेश रैना

भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना ने टीम इंडिया के साथी खिलाड़ी रोहित शर्मा की कप्तानी की तुलना कैप्टन कूल एमएस धोनी की कप्तानी से कर डाली है.

रोहित शर्मा और एमएस धोनी की कप्तानी एक जैसी: सुरेश रैना
धोनी और रोहित शर्मा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय बल्लेबाज सुरेश रैना (Suresh Raina) ने टीम इंडिया (Team India) के साथी खिलाड़ी रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और कैप्टन कूल एमएस धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी को लगभग एक जैसा बताया है. रैना के अनुसार धोनी और रोहित की कप्तानी में काफी समानताएं हैं, यहां तक कि दोनों का स्वभाव भी लगभग एक जैसा है. जहां एक तरफ धोनी मैदान पर अपने शांत स्वभाव के लिए जानें जाते हैं, वहीं दूसरी तरफ रोहित शर्मा भी ठंडे दिमाग से सोचकर, बड़ी सूझ-बूझ के साथ अपना हर निर्णय लेते हैं. विराट कोहली (Virat Kohli) के विपरीत दोनों ही खिलाड़ी कम अटैकिंग हैं और पेशेंन्स के साथ क्रिकेट खेलना पसंद करते हैं. इसके अलावा रोहित और धोनी की कप्तानी में एक और समानता है, वो है दूसरे खिलाड़ियों को अच्छा करने के लिए लगातार प्रेरित करना.

ये भी पढ़ें: टीम इंडिया के 'गब्बर' की पत्नी का नया अभियान, इन क्रिकेटर्स की बीवियां भी सपोर्ट में उतरीं

रोहित और धोनी दोनों ही मैदान पर शांति से अपने सभी निर्णय लेते हैं. दोनों ही जानते हैं कि उन्हें किस खिलाड़ी का इस्तेमाल कैसे करना है. मगर रोहित और धोनी की सबसे बड़ी ताकत है एक अच्छी रणनीति बनाकर मैच में विपक्षी टीम को धराशायी कर देना. जहां एक तरफ रोहित बिंदास स्वभाव के हैं वहीं दूसरी तरफ धोनी अपने नाम की ही तरह कूल हैं. रैना ने रोहित शर्मा की कप्तानी की तारीफ करते हुए कहा कि भारतीय उप-कप्तान रणनीति बनाने में धोनी से किसी भी प्रकार कम नहीं हैं. रैना ने बताया कि जब रोहित आईपीएल टीम मुंबई इंडियंस के कैप्टन नियुक्त हुए थे तो उन्होंने जिस तरह मुंबई की अगुवाई की थी, उससे वो काफी प्रभावित हुए थे. 

रोहित की कप्तानी के बारे में बात करते हुए रैना ने कहा, 'मैंने उन्हें पुणे के खिलाफ मुंबई के लिए खेलते हुए देखा था. उन्होंने 2-3 शानदार रणनीति पेश की थी. मुश्किल परिस्थितियों में ड्राय विकेट पर जिस तरह वो ओवर के बीच में बदलाव कर रहे थे, जिस तरह से वो प्रेशर हटा रहे थे और दूसरी टीम पर दबाव बढ़ा रहे थे, उनको देखकर आप समझ जाएंगे कि वो सारे फैसले वो खुद ले रहे हैं. हां, उन्हें बाहर से कुछ इंस्ट्रक्शन्स मिल सकते हैं लेकिन उनको पता होता है कि उनको करना क्या है. इसमें कोई शक नहीं कि कप्तान के तौर पर उन्होंने कई सारी ट्रॉफी जीती हैं.'

रोहित की कप्तानी के बाद रैना ने धोनी की कैप्टनसी की बात की और कहा, 'मैंने कभी अपने बैटिंग ऑर्डर को लेकर धोनी से सवाल नहीं किया. 2015 वर्ल्ड कप में उन्होंने मुझे बैटिंग ऑर्डर में एक मैच में ऊपर भेजा था और मैंने उस मैच में 70-80 रन बनाए थे. मैंने उस दिन शाम में उनसे पूछा था कि उन्हें कैसे पता था कि मैं बैटिंग ऑर्डर में ऊपर जाकर रन बनाऊंगा.'

उन्होंने कहा कि विरोधी टीम के पास दो लेग स्पिनर थे और उन्हें पता था कि मैं लेग स्पिनरों को ज्यादा अच्छे से खेलता हूं. मैं आज भी उन दिनों के बारे में सोचता हूं. लेकिन मैं जानता हूं कि धोनी हमेशा हम लोगों से एक कदम आगे की सोचते थे क्योंकि जब कोई व्यक्ति स्टंप के पीछे खड़ा होता है, तो वो सबकुछ बहुत करीब से देख रहा होता है और वो गलत नहीं हो सकता है. उन्हें पता होता था कि गेंद कितना स्विंग हो रही है, विकेट से कितना स्पिन मिल रहा है. भगवान से उन्हें यह खास तोहफा मिला था और यही वजह है कि वो इतने सफल कप्तान रहे.

LIVE TV