मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के ये रिकार्ड्स हैं कोहली के लिए 'विराट' चैलेंज

क्रिकेट पंडितों का मानना है कि सचिन के कई रिकॉर्ड्स को सिर्फ कोहली ही तोड़ सकते हैं, लेकिन कई रिकॉर्ड्स टीम इंडिया के कप्तान की पहुंच से बाहर है.

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के ये रिकार्ड्स हैं कोहली के लिए 'विराट' चैलेंज

नई दिल्ली: मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का बनाया हुआ वैसे तो हर रिकॉर्ड ही दुनिया भर के बल्लेबाजों के लिए बड़ी चुनौती हैं. लेकिन हालिया सालों में महज भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ही ऐसे बल्लेबाज रहे हैं, जो सचिन के बनाए रिकॉर्ड तोड़ने की स्थिति में दिखाई दिए हैं. इसके बावजूद कुछ रिकार्ड ऐसे हैं, जो विराट के लिए भी असंभव सी बात दिखाई देते हैं.

यह भी पढ़ें- कभी इस मॉडल के प्यार की गिरफ्त में थे विराट कोहली! क्या आप जानते हैं इन्हें?

इकलौते खिलाड़ी हैं सचिन वनडे-टेस्ट में 2000+ चौके लगाने वाले

सचिन तेंदुलकर दुनिया के इकलौते क्रिकेटर हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट और वनडे क्रिकेट, दोनों में 2-2 हजार से ज्यादा चौके अपने करियर के दौरान लगाए हैं. सचिन ने वनडे क्रिकेट में 463 मैच की 452 पारियों में बल्लेबाजी की थी और अपने खाते में 2016 चौके दर्ज किए थे. इसी तरह टेस्ट क्रिकेट में भी उनके नाम पर 200 मैच की 329 पारियों में 2058 चौके दर्ज हैं. यदि भारतीय कप्तान विराट कोहली का रिकॉर्ड देखा जाए तो उन्होंने वनडे में अभी तक 248 मैच की 239 पारियों में 1116 चौके और 86 टेस्ट मैच की 145 पारियों में 811 चौके ही लगाए हैं.

सचिन का हर टेस्ट टीम के खिलाफ उनकी जमीन पर 40+ औसत का रिकार्ड

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर में तत्कालीन टेस्ट मैच खेलने वाले सभी देशों के खिलाफ उन्हीं की धरती पर 40+ के औसत से रन बनाए थे. वे ऐसा करने वाले दुनिया के इकलौते बल्लेबाज हैं. सचिन का औसत आस्ट्रेलिया में 53.20 का, बांग्लादेश में 136.66 का, इंग्लैंड में 54.31 का, पाकिस्तान में 40.25 का, दक्षिण अफ्रीका में 46.44 का, श्रीलंका में 67.94 का, वेस्टइंडीज में 47.69 का, जिंबाब्वे में 40 का और अपने देश यानी भारत में 52.67 का रहा है. कुल मिलाकर देखें तो सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 53.78 के औसत से रन बनाए थे, लेकिन विदेशी जमीन पर उनका औसत 54.74 का रहा था.

विराट ने अभी तक आस्ट्रेलिया में 55.39 का, बांग्लादेश में 14.00 का, इंग्लैंड में 36.35 का, न्यूजीलैंड में 36.00 का, दक्षिण अफ्रीका में 55.80 का, श्रीलंका में 43.77 का, वेस्टइंडीज में 35.61 का और अपने देश यानी भारतीय सरजमीं पर 68.42 का औसत निकाला है. पाकिस्तान, अफगानिस्तान, आयरलैंड और जिंबाब्वे में उन्होंने कोई टेस्ट मैच नहीं खेला है. इस हिसाब से देखा जाए तो विराट के लिए सचिन के इस रिकार्ड को तोड़ने की राह में यदि पाकिस्तान, अफगानिस्तान में टेस्ट नहीं होने की तकनीकी बाधा को छोड़ दें, तब भी इंग्लैंड, विंडीज और न्यूजीलैंड में अपने रिकॉर्ड को सुधारने की बेहद कठिन चुनौती है.

वनडे क्रिकेट में 'मैन आफ द मैच' का रिकॉर्ड

भारतीय कप्तान कोहली ने अभी तक अपने वनडे करियर में 36 मैन आफ द मैच अवार्ड हासिल किए हैं. इसी तरह उनके खाते में 9 बार मैन आफ द सीरीज अवार्ड भी आ चुका है. वे इन दोनों ही कैटेगरी में विश्व में तीसरे नंबर चल रहे हैं. दूसरे नंबर पर श्रीलंका के पूर्व दिग्गज आलराउंडर सनत जयसूर्या हैं, जिन्होंने अपने करियर में 11 बार मैन आफ द सीरीज और 48 बार मैन आफ द मैच अवार्ड जीता था. पहला नंबर निर्विवादित तौर पर मास्टर ब्लास्टर का ही है. सचिन ने 62 बार मैन आफ द मैच अवार्ड और 15 बार मैन आफ द सीरीज अवार्ड जीता था. ऐसे में देखा जाए तो विराट को यह रिकार्ड तोड़ने के लिए लगभग अपने अब तक के करियर के बराबर ही ये अवार्ड आगे भी हासिल करने होंगे.