close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सचिन तेंदुलकर दे सकते हैं भारतीय क्रिकेट में खास योगदान, गांगुली का है यह प्लान

BCCI: गांगुली चाहते हैं तेंदुलकर युवा खिलाड़ियों के साथ काम करें

सचिन तेंदुलकर दे सकते हैं भारतीय क्रिकेट में खास योगदान, गांगुली का है यह प्लान
सौरव गांगुली पहले ही कह चुके हैं भारत में क्रिकेट के विकास के लिए दिग्गजों की मदद लेंगे. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के फौरन बाद ही टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली (Sourav Ganguly) ने अपने कामकाज का अंदाज दिखाते हुए कई पहल शुरू कीं. इनमें सबसे उल्लेखनीय भारत-बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच 22 नवंबर को होने वाले कोलकाता टेस्ट का डे-नाइट मैच होना है. गांगुली पहले ही कह चुके हैं कि वे भारतीय क्रिकेट में किस तरह के बदलाव करेंगे.  इसी कड़ी में उन्होंने टीम इंडिया के महान बल्लेबाज सचिन तेदुलकर (Sachin Tendulkar) की नई भूमिका के बारे में सोच रखा है. 

यह काम करें सचिन
गांगुली चाहते हैं कि महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर युवा खिलाड़ियों को उत्कृष्ट बनाने के लिए काम करें. बताया जा रहा है कि सचिन को उनकी इस नई भूमिका के लिए मनाने की प्रक्रिया अभी भी शुरुआती स्तर पर है. लेकिन गांगुली चाहते हैं कि सचिन आगामी स्टार खिलाड़ियों को विकसित करने का काम करें.

यह भी पढ़ें: VIDEO: श्रीलंकाई बॉलर से हुई ऐसी गलती, हंसे बिना नहीं रह सके स्मिथ और बाकी खिलाड़ी

काम शुरू हो भी गया है
बीसीसीआई के सूत्र ने कहा, "इस दिशा में काम शुरू हो गया है, पर इस मामले में बयान देना अभी जल्दबाजी होगी. अगर सब कुछ योजना के अनुसार रहा तो शुभमन गिल, ऋषभ पंत या पृथ्वी शॉ को दिग्गजों के साथ वक्त बिताते हुए देखा जा सकता है. वे न केवल क्रिकेट क्षमताओं के अलावा खेल के मानसिक पक्ष पर भी बातचीत कर सकते हैं."

सचिन से बेहतर कौन हो सकता है
इसमामले में सचिन से बेहतर कोई नहीं हो सकता. सूत्र ने कहा, "नए खिलाड़ियों के साथ अपने अनुभव को साझा करने के लिए 24 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले आदमी से बेहतर कौन हो सकता है? भारतीय क्रिकेट के भविष्य को ध्यान में रखते हुए यह एक और मास्टरस्ट्रोक हो सकता है."

यह है गांगुली का इरादा
यह पूछे जाने कि क्या तेंदुलकर राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) का दौरा करेंगे. सूत्र ने कहा, "यह इस तरह से किया जाना चाहिए कि तेंदुलकर के संबंध में हितों के टकराव का मुद्दा न उठे. इन चीजों पर काम करने की जरूरत है." बीसीसीआई अध्यक्ष बनते ही गांगुली ने कहा था कि वह भारतीय क्रिकेट को आगे बढ़ाने के लिए दिग्गजों की सहायता जरूर लेंगे. उल्लेखनीय है कि गांगुली पहले ही टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री की एनसीए में भूमिका बढ़ाने के बारे में कह चुके हैं. 
(इनपुट आईएएनएस)