Breaking News

'सचिन की इस कमी का फायदा उठाकर उन्हें बाउंसर फेंकता रहा,' शोएब अख्तर ने 14 साल बाद किया खुलासा

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट का मुकाबला किसी जंग से कम नहीं होता है, मैदान में सचिन तेंदुलकर हमेशा पाकिस्तानी गेंदबाजों के निशाने पर रहते थे.

'सचिन की इस कमी का फायदा उठाकर उन्हें बाउंसर फेंकता रहा,' शोएब अख्तर ने 14 साल बाद किया खुलासा

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का नाम दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में गिना जाता है. इंटरनेशनल क्रिकेट में सचिन के नाम बहुत से रिकार्ड्स शामिल हैं जिन्हें आज तक कोई तोड़ नहीं पाया है. यूं तो सचिन के बल्ले से पूरी दुनिया के गेंदबाज डरा करते थे, लेकिन हाल ही में एक किस्सा सामने आया था जिसमें पाकिस्तान के खिलाड़ी मोहम्मद आसिफ (Mohammad Asif) ने बताया था कि सचिन शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) की गेंदबाजी से डर गए थे और अपनी आंखे बंद कर ली थीं. अब मोहम्मद आसिफ के इसी बयान पर शोएब अख्तर ने भी उस मैच को याद करते हुए कुछ बातें बताई हैं.

यह भी पढ़ें- जब गलत आउट दिए जाने पर भी शांत रहे राहुल द्रविड़, मैच के बाद लतीफ से पूछा था ये सवाल

हाल ही में पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने साल 2006 में पाकिस्तान के फैसलाबाद में खेले गए मैच में टीम इंडिया के बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के खिलाफ बॉलिंग की रणनीति को याद किया है. उस मैच में सचिन सिर्फ 14 रन बनाकर ही शोएब अख्तर की बॉल पर आउट हो गए थे. अब शोएब ने उस मैच को याद करते हुए बताया कि, उन्हें सचिन की टेनिस एल्बो वाली इंजरी के बारे में पता था, इसीलिए उन्होंने उनके खिलाफ बाउंसर डालने की रणनीति अपनायी थी. साल 2006 में इंडिया-पाकिस्तान में 3 मैचों की उस टेस्ट सीरीज को पाकिस्तान ने 1-0 से जीता था.

शोएब अख्तर ने संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) से बातचीत में कहा है कि, 'लोग बोलते थे कि सचिन और मैं अक्सर एक-दूसरे से मुकाबला करते हैं, मगर हम दोनों ने कभी भी एक-दूसरे से बुरा बतार्व नहीं किया, मैं सचिन को सिर्फ अपने प्रतिस्पर्धी के रूप में ही देखता था और मैंने उन्हें हमेशा ही एक महान खिलाड़ी के रूप में देखा है. मैं जानता था कि सचिन को उस वक्त चोटिल थे और उन्हें कहां चोट लगी है और मुझे ये भी पता था कि वो हुक और पुल नहीं खेल सकते, ऐसे में मैं उन्हें लगातार बाउंसर फेंकता रहा.'

वहीं मोहम्मद आसिफ ने भी साल 2006 की उस सीरीज के बारे में बताया था कि, 'मैं उस वक्त स्क्वॉयर लेग पर था और शोएब लगातार तेज बॉल फेंक रहे थे और सचिन बल्लेबाजी कर रहे थे, तभी मैंने देखा कि शोएब की एक दो बाउंसर्स को खेलते हुए सचिन ने अपनी आंखें बंद कर ली थी. भारत की टीम बैकफुट पर थी, ऐसे में हम हारते-हारते जीत हासिल करने में कामयाब हुए थे.'