Pakistan: कनेरिया मामले में बोले बासित अली, अख्तर को करना चाहिए ये खुलासे

Danish Kaneria: बासित अली का कहना है कि शोएब को पब्लिसिटी की जरूरत नहीं है, उन्हें कनेरिया मामले में आगे बोलना चाहिए.

Pakistan: कनेरिया मामले में बोले बासित अली, अख्तर को करना चाहिए ये खुलासे
दानिश कनेरिया मामले में बासित अली ने शोएब अख्तर से और खुलासा करने को कहा है.

नई दिल्ली: पाकिस्तान के हिंदू क्रिकेटर दानिश कनेरिया (Danish Kaneria) के साथ भेदभाव किए जाने का मामला अब भी ठंडा नहीं हुआ है. पहले शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने कहा कि कनेरिया के साथ हिंदू होने कारण पाकिस्तान टीम में भेदभाव होता था. फिर कनेरिया ने उसे सही ठहराया. अब पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर बासित अली (Basit Ali) ने अख्तर से इस मामले में और जानकारी देने की बात कही है. 

अख्तर के बयान और कनेरिया के खुलासे के बाद पाकिस्तान के साथ भारत में भी इस मामले को लेकर हलचल मच गई थी. बासित ने सोमवार को शोएब अख्तर से कहा है कि वे उन खिलाड़ियों के नामों का खुलासा करें जिन्होंने उनके (शोएब के) मुताबिक कनेरिया के साथ भेदभाव किया था. 

यह भी पढ़ें: IND vs SL: टी20 वर्ल्डकप के लिए धवन का है खास प्लान, जानिए क्या है तैयारी

उल्लेखनीय है कि अख्तर ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा था कि कुछ पाकिस्तानी क्रिकेट दानिश के साथ खाना नहीं खाना चाहते थे क्योंकि वे हिंदू थे. पिछले साल दिसंबर में अख्तर के दावे के बाद दानिश ने भी इन बातों की पुष्टि की थी. कनेरिया ने कहा था कि केवल अख्तर, पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक, युनिस खान और मोहम्मद यूसुफ जैसे खिलाड़ियों ने उन्होंने सपोर्ट किया. 

बासित ने एक अंग्रेजी अखबार के हवाले से कहा, "मैं हैरान हूं कि कनेरिया कह रहे हैं कि वे बाद में नामों का खुलासा करेंगे. शोएब को पब्लिसिटी की जरूरत नहीं है. उनकी खासे फैंस हैं और रहेंगे. उन्हें नाम की जरूरत नहीं है. लेकिन शोएब को खिलाड़ियों के नाम जाहिर करने चाहिए."

यह भी पढ़ें: IND vs SL: गुवाहाटी वनडे रद्द होने से BCCI हुई नाराज, अब इस बात का इंतजार

बासित ने कहा, इस तरह (धर्म के आधार पर भेदभाव) उनके खेलने के दौरान कभी नहीं हुआ. इसी के साथ ही कनेरिया ने दिसंबर में ही पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और सरकार पर आरोप लगाया था कि पाकिस्तान की सरकार और  क्रिकेट बोर्ड ने उन खिलाड़ियों का साथ दिया, जिन्होंने कुछ पैसों के लिए पाकिस्तान को 'बेचने' जैसा अजीम गुनाह किया था. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि दूसरी तरफ बैन के बाद उन्हें कभी कोई मदद नहीं मिली.

29 साल के पूर्व लेग स्पिनर ने पाकिस्तान के लिए 61 टेस्ट और 18 वऩडे मैच खेले. इस दौरान उन्होंने 261 टेस्ट विकेट भी लिए थे, लेकिन इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने उन्हे स्पॉट फिक्सिंग मामले में दोषी पाया और क्रिकेट खेलने से उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया.