close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BCCI Elections: अध्यक्ष के लिए नाम तय होने पर बोले गांगुली, यह काम करेंगे पहले

BCCI:  अध्यक्ष पद के लिए अपना नाम तय होने पर सौरव गांगुली ने इस जिम्मेदारी को काफी चुनौतीपूर्ण बताया.

BCCI Elections: अध्यक्ष के लिए नाम तय होने पर बोले गांगुली, यह काम करेंगे पहले
गांगुली का कहना है कि वे घरेलू क्रिकेटरों पर ध्यान देना चाहते हैं. (फोटो:PTI)

मुंबई: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का क्रिकेट की सबसे बड़ी संस्था भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) का अध्यक्ष चुना जाना तय हो गया है जबकि चुनाव प्रक्रिया पूरी होने में कम से कम एक हफ्ते से भी ज्यादा का समय बाकी है. अपने चयन के सुनिश्चित होने के बीच गांगुली का कहना है कि दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट संस्था को चलाना उनके लिए एक चुनौती होगा. इसके अलावा उन्होंने घरेलू क्रिकेटर्स के वित्तीय हितों को प्राथमिकता देने की बात भी कही. 

नामांकन भरने से पहले ही तय हो गया सौरव का नाम
आगामी 23 अक्टूबर को बीसीसीआई के पदों के लिए चुनाव होने हैं जिसके लिए नामांकन भरने की तारीख सोमवार 14 अक्टूबर को है. शनिवार और रविवार को दिल्ली और मुंबई में चली देश भर के राज्य क्रिकेट एसोसिएशन की पदाधिकारियों की बैठकों के दौर के बाद रविवार को अंततः सौरव गांगुली का नाम अध्यक्ष पद के लिए तय हुआ था. इसके साथ ही ब्रजेश पटेल का आईपीएल चेयरमैन बनना तय हुआ है.

यह भी पढ़ें: BCCI अध्यक्ष पद की रेस में अचानक सौरव गांगुली कैसे निकले सबसे आगे, पढ़ें इनसाइड स्टोरी

क्या कहा गांगुली ने
गांगुली ने कहा, "मुझे इस पद पर नियुक्ति से खुशी है यह मेरे लिए कुछ करने के लिए बड़ा मौका है जब इस समय बीसीसीआई की छवि अच्छी नहीं हैं, चाहे आप निर्विरोध चुने जाएं या नहीं यह एक बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि यह क्रिकेट की दुनिया की सबसे बड़ी संस्था है. भारत एक बड़ी शक्ति है. यह एक बड़ी चुनौती होगी."

जुलाई 2020 तक ही पद पर रह सकेंगे गांगुली
रविवार को गांगुली के अलावा ब्रजेश पटेल और जय शाह भी अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल थे लेकिन दिन के अंत में गांगुली ने बाजी जीती. गांगुली का नाम भले ही तय हो गया हो लेकिन वे केवल जुलाई 2020 तक ही इस पद पर रह सकेंगे क्योंकि इसके बाद उन्हें नए नियमों के मुताबिक कूलिंग ऑफ पीयरेड के तहत यह पद छोड़ना होगा. नए बीसीसीआई नियमों के मुताबिक एक प्रशासकीय पद पर कोई व्यक्ति लगातार छह साल तक ही रह सकता है. 

कया होगी प्राथमिकता
इस नियम पर गांगुली ने कहा, "यह नियम है, लेकिन हमें इसके हिसाब से चलना होगा. मेरी पहली प्राथमिकता फर्स्ट क्लास क्रिकेटर्स को ध्यान रखना होगी. मैंने प्रशासकों की समिति से गुजारिश की थी और उन्होंने इस पर ध्यान भी दिया. क्रिकेटरों के वित्तीय हितों के लिए रणजी ट्रॉफी क्रिकेट पर फोकस होगा."
(इनपुट आईएएनएस)