close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वाजपेयी के निधन पर सहवाग ने दी श्रद्धांजलि, ‘कौन है जो अटल रह पाया है जिंदगी भर’

अटल जी के  निधन पर पूरे खेल जगत ने उनको श्रद्धांजलि दी है. 

वाजपेयी के निधन पर सहवाग ने दी श्रद्धांजलि, ‘कौन है जो अटल रह पाया है जिंदगी भर’
अटल जी के निधन पर खेल जगत सहित पूरा देश शोकाकुल हो गया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को निधन हो गया. एम्‍स द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार उनका निधन गुरुवार शाम 5.05 मिनट पर हुआ था. पिछले 36 घंटों से उनकी हालत खराब होने पर उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर रखा गया था. खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की अगुवाई में भारतीय खेल जगत ने आज पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर संवेदना प्रकट की. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने उनके निधन की घोषणा की. वह इस अस्पताल में 11 जून को भर्ती हुए थे. उसके बाद से ही उनकी हालत स्थिर बनी हुई थी.

क्रिकेटर वीरेन्द्र सहवाग ने ट्वीट किया, ‘‘आसमान को छू गया, जो आसमान सा विशाल था, धरती में सिमट गया, जो मिट्टी जैसा नर्म था. कौन है जो अटल रह पाया है जिंदगी भर, अटल बनकर वह जिंदगी को पा गया. ओम शांति! अटल बिहारी वाजपेयी जी.’’ 

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया, ‘‘आज बहुत बड़ी क्षति हुई है. अटल बिहारी वाजपेयी जी का हमारे देश के लिए अनगिनत योगदान रहा है. उनके चाहने वालों के लिए मेरी प्रार्थनाएं.’’

ओलंपिक रजत पदक विजेता विजेन्दर सिंह ने कहा, ‘‘ देश के महानतम प्रधानमंत्री में से एक भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी अब हमारे बीच नहीं रहे. एक दूरदर्शी, एक कवि, एक राजनेता, लाखों लोगों का दिल जीतने वाले. वह कुछ और नहीं सिर्फ सम्मान के हकदार हैं. . मातृभूमि के लिए उनका योगदान आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा.’’ 

शतरंज में पांच बार के विश्व चैम्पियन विश्वनाथ आनंद ने कहा, ‘‘ भारत ने एक महान नेता खो दिया. ‘‘जेंटल जायंट’’ उनके और उनके काम को याद रखने का एक शानदार तरीका होगा. मैं गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ.

वाजपेयी तीन बार भारत के प्रधानमंत्री बने. वह पहली बार 1996 में 13 दिनों के लिए प्रधानमंत्री बने. उसके बाद 1998 से 1999 तक वह 11 महीने के लिए प्रधानमंत्री रहे. उसके बाद 1999 वह फिर प्रधानमंत्री बने और पांच साल तक इस पद पर रहे. पूर्व क्रिकेटर और भारतीय टीम के पूर्व कोच अनिल कुंबले ने लिखा, ‘‘देश के लिए बुरा दिन क्योंकि हमने अपने महानतम नेता को खो दिया. देश की बेहतरी के लिए अटल बिहारी वाजपेयी का योगदान बहुत ज्यादा है. उनकी आत्मा को शांति मिले.’’ 

पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘‘भारत के सबसे प्रिय प्रधानमंत्री, एक महान कवि और अद्भुत राजनेता में से एक. अटल बिहारी वाजपेयी जी हम एक राष्ट्र के रूप में आपको याद करेंगे. आपके चाहने वालों के प्रति मेरी गहरी संवेदना.’’ 

बीसीसीआई ने भी इस करिश्माई नेता के निधन पर शोक जताया. बीसीसीआई ने ट्वीट किया, ‘‘ भारतीय क्रिकेट टीम और बीसीसीआई भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर शोक व्यक्त करता है. अटल जी ने देश की सेवा में अपना जीवन समर्पित किया.’’ 

राठौड़ ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘अपने वचन के पक्के, वादों और इरादों में "अटल" हमारे अटल जी हमारे बीच नहीं रहे. चाहे पोखरण हो या कारगिल, राष्ट्रनिर्माण में अटल जी का योगदान कृतज्ञता और सम्मान से याद किया जाएगा. नेता और जनता, सभी के मन में बसते थे हमारे अटल जी. उनका निधन देश के लिए एक बहुत बड़ी क्षति है.’’ 

अटल जी के निधन पर सात दिन का राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई है.

(इनपुट भाषा)