Spot Fixing: पाकिस्तान में फिर गहराया फिक्सिंग का संकट, एक और क्रिकेटर ने कबूला जुर्म

पाकिस्तान ने 2009 में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम की बस पर हुए आतंकी हमले के बाद से अब तक घर में एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला है.

Spot Fixing: पाकिस्तान में फिर गहराया फिक्सिंग का संकट, एक और क्रिकेटर ने कबूला जुर्म
नासिर जमशेद वनडे क्रिकेट में भारत के खिलाफ तीन शतक लगा चुका है. (फाइल फोटो)

लंदन: पाकिस्तानी क्रिकेट तमाम कोशिशों के बावजूद फिक्सिंग (Spot Fixing) का दाग नहीं धो पा रही है. अब उसके एक और इंटरनेशनल क्रिकेटर ने फिक्सिंग की बात कबूल ली है. इस क्रिकेटर का नाम नासिर जमशेद (Nasir Jamshed) है, जो 48 वनडे, दो टेस्ट और 18 टी20 मैच खेल चुका है. नासिर जमशेद ने पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में स्पॉट फिक्सिंग की बात कबूल कर ली है. 33 साल के जमशेद को अब अगले साल फरवरी में सजा सुनाई जाएगी. 

33 साल के नासिर जमशेद ने पीएसएल (PSL) से जुड़ी योजना में शामिल होने से पहले इनकार किया था, लेकिन मैनचेस्टर में सोमवार को सुनवाई के दौरान उन्होंने अपनी याचिका बदल दी. पाकिस्तान (Pakistan) के ही यूसुफ अनवर और मोहम्मद एजाज ने ट्रायल शुरू होने से पहले ही घूस देने की बात स्वीकार कर ली थी. 

यह भी पढ़ें: हार्दिक पांड्या ने कहा- मैं अपनी टीम और खुद के साथ भी अन्याय कर रहा था...

इस मामले की सुनवाई के शुरुआत में सरकारी वकील ने कहा, ‘एक अंडरकवर पुलिस अधिकारी ने खुद को फिक्सिंग गिरोह का सदस्‍य बताते हुए स्‍पॉट फिक्सिंग के नेटवर्क में जगह बनाई. उन्होंने 2016 में बांग्‍लादेश प्रीमियर लीग में फिक्सिंग के प्रयास किए. इसके बाद फरवरी 2017 में पाकिस्‍तान सुपर लीग में ऐसा ही किया. दोनों मामलों में टी20 टूर्नामेंट में एक ओपनर ने पैसे लेकर एक ओवर की पहली दो गेंद पर रन नहीं बनाने की सहमति दी थी.’

आरोप के मुताबिक नासिर जमशेद ने फिक्सिंग के इस प्लान में शार्जील खान को भी शामिल किया. उन्‍होंने पाकिस्‍तान सुपर लीग में इस्‍लामाबाद यूनाइटेड और पेशावर जाल्‍मी के बीच मैच के दौरान बाकी खिलाड़ियों को स्‍पॉट फिक्सिंग के लिए उकसाया. पदाधिकारियों को इस बात का पता चला और उन्होंने मैच होने दिया. मैच में शार्जील खान ने पहली दो गेंद पर रन नहीं बनाया.

यह भी पढ़ें: तीसरा टी20 मैच मुंबई में, भारत को बदलना होगा इतिहास क्योंकि विंडीज यहां कभी हारा नहीं

इससे पहले अगस्त 2018 में भ्रष्टाचार रोधी एक स्वतंत्र ट्रिब्यूनल ने जमशेद को 10 साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया था. नासिर पर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) की भ्रष्टाचार विरोधी संहिता की सात धाराओं के उल्लंघन का आरोप था. इसमें से ट्रिब्यूनल ने नासिर को पांच में दोषी पाया था. जमशेद 2017 में क्रिकेट में भ्रष्टाचार की जांच शुरू करने के बाद से ही पीसीबी के रडार पर थे. उन्हें फरवरी, 2017 में ब्रिटेन में गिरफ्तार किया गया था.