सिल्वर जीतकर लौटीं दीपिका पल्लीकल का जोरदार स्वागत, दिनेश कार्तिक ने खुद को बताया- Proud Husband

जोशना-दीपिका की जोड़ी को स्वर्ण पदक के मुकाबले में न्यूजीलैंड की जोले किंग और अमांडा लैंडर्स मर्फी की जोड़ी से हार मिली. ऐसे में भारतीय जोड़ी को रजत पदक से संतोष करना पड़ा. 

सिल्वर जीतकर लौटीं दीपिका पल्लीकल का जोरदार स्वागत, दिनेश कार्तिक ने खुद को बताया- Proud Husband
दीपिका पल्लीकल और जोशना चिनप्पा का स्वदेश लौटने पर जोरदार स्वागत (PIC : INSTAGRAM/Dinesh Karthik)

चेन्नई: भारत की शीर्ष स्क्वाश खिलाड़ी जोशना चिनप्पा और दीपिका पल्लीकल का गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीतकर लौटने पर गर्मजोशी से स्वागत किया गया. जोशना और पल्लीकल को महिला युगल फाइनल में हार के साथ रजत पदक से संतोष करना पड़ा था. पल्लीकल ने सौरव घोषाल के साथ मिलकर मिश्रित युगल का ऐतिहासिक रजत पदक भी जीता था. जोशना और पल्लीकल ने 2014 ग्लास्गो खेलों में महिला युगल का स्वर्ण पदक जीता था. बता दें कि भारत की महिला स्क्वॉश जोड़ी दीपिका पल्लिकल कार्तिक और जोशना चित्नप्पा की जोड़ी को गोल्ज कोस्ट में 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में रविवार को अंतिम दिन महिला युगल के फाइनल में हार का साना करना पड़ा और वे स्वर्ण पदक से चूक गईं.

जोशना-दीपिका की जोड़ी को स्वर्ण पदक के मुकाबले में न्यूजीलैंड की जोले किंग और अमांडा लैंडर्स मर्फी की जोड़ी से हार मिली. ऐसे में भारतीय जोड़ी को रजत पदक से संतोष करना पड़ा. जोले और मर्फी की जोड़ी ने 21 मिनट तक चले मैच में दीपिका-जोशना की जोड़ी को 11-9, 11-8 से मात दी और सोना जीता. न्यूजीलैंड की जोले और मर्फी की जोड़ी ने शुरुआत से ही मैच पर अपना दबदबा बनाय हुआ था. पहले गेम में 3-3 से बराबरी कर ली थी, लेकिन इसके बाद दीपिका-जोशना पिछड़ गईं और 9-11 से पिछड़ गई. दूसरे गेम में भारतीय जोड़ी अपनी लय को फिर से हासिल नहीं कर पाई और ऐसे में इस गेम को भी 11-8 से हार गईं. 

जोशना ने कहा, ‘‘चार साल में स्क्वाश में काफी कुछ हुआ. उस समय हमने पोडियम में जगह बनाई थी और लक्ष्य यह था कि इस बार भी हम इससे नहीं चूके. इस लिहाज से देखा जाए तो यह संतोषजनक नतीजा है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें अगली बड़ी चुनौती यानि अगस्त में होने वाले एशियाई खेलों के लिए कड़ी मेहनत करने का प्रोत्साहन मिला है.’’ पल्लीकल ने कहा कि यह संतोष की बात है कि वे खाली हाथ नहीं लौटै.

दीपिका पल्लीकल के सिल्वर मेडल जीतने पर दिनेश कार्तिक ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट करते हुए लिथा था- शाबाश टीम इंडिया. Proud Husband 

 

Well done team India #proudhusband #hardworkalwayspaysoff #cwg2018

A post shared by Dinesh Karthik (@dk00019) on

इन दोनों का हालांकि मानना है कि खेलों में रैफरी का स्तर बेहतर हो सकता था. जोशना ने कहा, ‘‘फाइनल के बाद इस मामले में न्यूजीलैंड की खिलाड़ी भी हमारे साथ सहमत थी.’’  देर रात पहुंचने के बावजूद स्क्वाश खिलाड़ी यहां हुए स्वागत से हैरान थी.

जोशना ने कहा, ‘‘इस तरह के स्वागत से हम हैरान हैं.’’हरिंदर पाल संधू और राष्ट्रीय कोच साइरस पोंचा भी पदक विजेता इस जोड़ी के साथ लौटे. कोच ने कहा कि यह बेहतरीन नतीजा है क्योंकि टीमों को क्वार्टर फाइनल चरण में कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा था.

मिक्स्ड डबल्स में भी मिला रजत 
बता दें कि मिक्स्ड डबल्स के फाइनल में भी दीपिका पल्लीकल और सौरव घोषाल की जोड़ी को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा था. हालांकि, मैच में रेफरियों द्वारा लिए गए ‘हैरान करने वाले फैसलों’ पर सवाल उठाये गए. भारतीय जोड़ी ने फाइनल मैच में भरसक कोशिश की लेकिन करीबी मुकाबले में उन्हें ऑस्ट्रेलिया के डोना उरकूहर्ट एवं कैमरन पिल्लै की जोड़ी के हाथों 8-11, 10-11 से हार का सामना करना पड़ा. दर्शक उम्मीद के अनुरूप स्थानीय खिलाड़ियों का समर्थन कर रहे थे और दीपिका को लगता है कि रेफरिंग की गुणवत्ता अच्छी ना होने से भारतीय जोड़ी को नुकसान हुआ.