श्रीलंका ने IPL के आयोजन की ख्वाहिश जताई, BCCI ने दिया ये जवाब

बीसीसीआई अधिकारी ने ये साफ किया है कि श्रीलंका में आईपीएल करवाने पर अभी कोई चर्चा नहीं है कोरना की वजह से खेल आयोजन मुमकिन नहीं है

श्रीलंका ने IPL के आयोजन की ख्वाहिश जताई, BCCI ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली: श्रीलंका क्रिकेट (SLC) अभी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिये गये इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के आयोजन का इच्छुक है लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) के एक प्रभावशाली व्यक्ति ने कहा कि अभी कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही दुनिया में इस तरह के प्रस्ताव पर चर्चा करने का कोई मतलब नहीं है. आईपीएल पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक 29 मार्च से 24 मई के बीच आयोजित किया जाना था लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से इसे अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया है. बोर्ड चीजें सामान्य होने के बाद ही इसका आयोजन करेगा.

एसएलसी के अध्यक्ष शम्मी सिल्वा ने गुरुवार को कहा था कि श्रीलंका इस टूर्नामेंट का आयोजन अपने देश में करने के लिये तैयार है जहां कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या बहुत कम है और भारत की तुलना में वहां चीजें जल्द सामान्य होने की संभावना है. बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘जब दुनिया में सब कुछ ठप्प पड़ा है तब बीसीसीआई कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है.’’

यह भी पढ़ें- Lockdown में फुर्सत के पल बिता रही है टीम इंडिया, लेकिन साल 2021 होगा सबसे बिजी

श्रीलंका में अभी कोविड-19 के 200 मामले हैं जबकि भारत में इनकी संख्या 13,000 को पार कर चुकी है. भारत में 400 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. अधिकारी से पूछा गया कि श्रीलंका से पेशकश मिलने पर उसका रवैया क्या हो, उन्होंने कहा, ‘‘एसएलसी से अभी तक इस बारे में कोई प्रस्ताव नहीं मिला तो फिर इस पर चर्चा का सवाल ही नहीं उठता.’’ एसएलसी 3 मैदानों गॉल, कैंडी और प्रेमदासा स्टेडियम में मैचों का आयोजन कर सकता है. उसे जुलाई में भारत की 3वनडे और तीन टी20 की मेजबानी करने की तुलना में आईपीएल के आयोजन से अधिक वित्तीय लाभ होगा.

बीसीसीआई अभी सितंबर-अक्टूबर या अक्टूबर-नवंबर में आईपीएल आयोजित करने का इच्छुक है. आईपीएल को 2009 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित करने के फैसले में शामिल रहे बीसीसीआई के एक पूर्व अधिकारी ने कहा कि मई में शशांक मनोहर के आईसीसी चेयरमैन पद से हटने के बाद तस्वीर बदल सकती हैं. उन्होंने कहा, ‘‘श्रीलंका आईसीसी में बीसीसीआई का सहयोगी रहा है और उसका प्रस्ताव समझा जा सकता है. लेकिन उनके (मनोहर) अगले महीने हटने के बाद क्या स्थिति होगी. नए समीकरण बन सकते हैं और श्रीलंका ही नहीं कई अन्य विकल्प भी हो सकते हैं.’’
(इनपुट-भाषा)