वेस्टइंडीज के इस पूर्व बॉलर से कभी कांपते थे बैट्समैन, आज बजाते हैं गिटार

वेस्टइंडीज के पूर्व गेंदबाज कर्टली एंब्रोस ने टेस्ट क्रिकेट में 405 विकेट हासिल किए हैं, लेकिन आज अपनी गेंद से नहीं बल्कि म्यूजिक से एंटरटेन करते हैं.

वेस्टइंडीज के इस पूर्व बॉलर से कभी कांपते थे बैट्समैन, आज बजाते हैं गिटार
कर्टली एंब्रोस (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: क्रिकेट के मैदान पर जिस खिलाड़ी की किस्मत साथ दे दे, उसे कामयाब होने से कोई नहीं रोक सकता है. कहते हैं इस खेल में बेशुमार दौलत के साथ साथ शोहरत भी है और इस बात में कोई शक नहीं हैं कि क्रिकेट स्टार्स को पूरी दुनिया सलाम करती है. लेकिन हर खिलाड़ी के नसीब में शौहरत और दौलत नहीं होती. वैसे तो खिलाड़ी रिटायरमेंट के बाद भी इस खेल से जुड़े रहते हैं और खूब पैसे कमाते हैं, कभी कोच के रूप में तो कभी कमेंटेटर बन कर. 

हालांकि, कुछ क्रिकेटर्स ऐसे भी हैं जो संन्यास लेने के बाद क्रिकेट को पूरी तरह से पीछे छोड़ देते हैं और अपनी जिंदगी गुजारने के लिए दूसरे कामों में बिजी हो जाते हैं. ऐसे ही एक खिलाड़ी का नाम है कर्टली एंब्रोस. वेस्टइंडीज के इस महान तेज गेंदबाज ने दुनिया भर के तमाम बल्लेबाजों के होश उड़ाए थे.

सर कर्टली एंब्रोस ने अपने टेस्ट करियर में 98 मैचों में 405 विकेट लेने का कारनामा किया और वनडे में 176 मैचों में उन्होंने 225 विकेट चटकाए थे. एंब्रोस ने साल 1989 में पहली बार टेस्ट रैंकिंग में टॉप 10 खिलाड़ियों में अपनी जगह बनाई थी, जिसके बाद वो लगातार 12 सालों तक इस लिस्ट में शामिल रहे थे. वहीं क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद एंब्रोस एक गिटारिस्ट बन गए हैं. हालांकि वो ये काम किसी मजबूरी में नहीं, बल्कि अपने शौक से कर रहे हैं. उन्हें बचपन से ही संगीत का बड़ा शौक था. अपनी गेंदबाजी का हुनर दिखाने के बाद अब एंब्रोस दुनिया को अपने गिटार बजाने का हुनर दिखाते हैं. एंब्रोस अपने संगीत के सपने को जी रहे हैं और बेहद खुश हैं.

 

आपको बता दें कि वेस्टइंडीज के कर्टली एंब्रोस क्रिकेट से रिटायरमेंट के बाद 'स्प्रिटिड' नाम का एक म्यूजिक बैंड चलाते हैं, जिसमें वो खुद एक गिटारिस्ट हैं. उनका संगीत पूरे एंटीगा में फेमस है. वहीं अपनी गेंदबाजी से सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और रिकी पोंटिंग जैसे बड़े-बड़े धुरंधरों की नाक में दम करने वाले एंब्रोस कभी भी एक क्रिकेटर नहीं बनना चाहते थे. उन्हें क्रिकेट से ज्यादा बास्केटबॉल खेलना और गिटार बजाना पसंद था. यहां आपको बता दें कि एंब्रोस ने अपनी सटीक गेंदबाजी से सचिन और द्रविड़ को खासा परेशान किया था और इसी वजह से भारतीय क्रिकेट टीम एंब्रोस के रिटायर होने तक वेस्टइंडीज में कोई सीरीज नहीं जीत पाई थी. 

 

 

अपने म्यूजिक के शौक को पूरा करने के लिए उन्होंने संन्यास के बाद संगीत का दामन थाम लिया था. एंब्रोस 'बिग बैड ड्रेड' और 'बाल्डहेड' म्यूजिक बैंड के साथ भी काम करते हैं. एंब्रोस ने इंग्लैंड में भी कई बेहतरीन परफॉर्मेंस दी हैं और दर्शक उनके खेल की ही तरह उनके संगीत को भी बहुत प्यार दे रहे हैं.