close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इतिहास में आज: साउथ अफ्रीका की इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी, भारत से खेला था वनडे

 South Africa Cricket: 1991 में आज ही के दिन दक्षिण अफ्रीका ने 21 साल बाद इंटरनेशनल क्रिेकेट में वापसी की थी. टीम ने अपना पहला मैच भारत के खिलाफ कोलकाता में खेला था जो वनडे मैच था. 

इतिहास में आज: साउथ अफ्रीका की इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी, भारत से खेला था वनडे
सचिन तेंदुलकर और एनल डोनाल्ड ने इस मैच में शानदार प्रदर्शन किया था. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: यूं तो इंटरनेशनल क्रिकेट में दक्षिण अफ्रीका (South Africa Cricket) एक तगड़ी टीम मानी जाती रही, लेकिन एक समय था जब यह टीम लंबे समय तक इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर रही थी. 10 नवंबर 1991 को इस टीम ने 21 साल बाद इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी की थी. उससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ (SA vs AUS) 1969-70 में कोई सीरीज खेली थी. इसके 21 साल बाद दक्षिण अफ्रीका ने भारत के खिलाफ (Inida vs South Africa) वनडे सीरीज से शुरू किया था, जिसका पहला मैच कोलकाता में खेला गया था. 

क्यों लगा था बैन
इस देश में रंगभेद के चलते दुनिया भर का विरोध झेलना पड़ा था जिसकी वजह से 1669-70 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई सीरीज के बाद टीम को 21 साल तक इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था. 1970 में दक्षिण अफ्रीका सरकार ने नियम बना दिया था कि उनकी टीम केवल इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ ही क्रिकेट खेल सकेगी और तब की सरकार ने विरोधी टीम में भी श्वेत खिलाड़ियों का होना भी जरूरी कर दिया था. इस वजह से आईसीसी ने दक्षिण अफ्रीका पर प्रतिबंध लगा दिया था. जो 21 साल बाद नई सरकार आने के बाद रंगभेद की यह नीति खत्म होने पर ही खत्म हो सका था. 

यह भी पढ़ें: IND vs BAN: नागपुर में 3 टी20 मैच खेले हैं टीम इंडिया ने, ये इशारा कर रहा है रिकॉर्ड

भारत में हुआ पहला दौरा
दक्षिण अफ्रीका का आईसीसी से वापस जुड़ने के बाद पहला दौरा भारत में हुआ. इस दौरे में दोनों टीमों को तीन वनडे मैच की सीरीज खेलनी थी. पहला मैच कोलकाता में हुआ था जिसने 10 नवंबर का दिन ऐतिहासिक बना दिया था. इस मैच में भले ही मेहमान टीम जीत हासिल करने में नाकाम रही है, लेकिन उसने अपने प्रदर्शन से दुनिया को प्रभावित जरूर किया. यह बात जल्द ही टीम ने साबित भी कर दी. 

पहले मैच में टीम इंडिया की जीत
इस मैच में टीम इंडिया ने तीन विकेट से जीत हासिल की थी. लेकिन मैच उतना संघर्षपूर्ण नहीं था. इस सीरीज में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी क्लाइव राइस ने की थी जो उनके करियर की पहली और आखिरी वनडे सीरीज साबित हुई. वहीं टीम इंडिया की कप्तानी मोहम्मद अजहरुद्दीन ने की. 

खराब शुरुआत रही मेहमानों की
टीम इंडिया के कप्तान अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले राइस की टीम को बल्लेबाजी करने को कहा. मेहमान टीम की शुरुआत खराब रही जब एंड्रयू हडसन कपिलदेव की गेंद पर विकेट के पीछे किरन मोरे को कैच देकर पवेलियन वापस लौट गए. इसके बाद कुक को जगावल श्रीनाथ ने पवेलियन वापस भेज दिया. फिर पीटर कर्स्टन भी जल्दी ही आउट हो गए. केप्लर वेसेल्स ने फिफ्टी लगाकर टीम को स्कोर 100 के पार कराया. केप्लर के अलावा कूपियर ने 43 रन की पारी खेली और दक्षिण अफ्रीका ने 50 ओवर में 8 विकेट पर 177 रन बनाए. 

सचिन ने उबारा शुरुआती झटकों से
178 रन का पीछा करते हुए टीम इंडिया की शुरुआत भी बहुत खराब रही. एनल डोनाल्ड ने रवि शास्त्री (0), नवजोत सिंह सिद्धू (6), और संजय मांजरेकर (1) केवल 20 रन के कुल स्कोर पर पवेलियन लौटा दिया. इसके बाद सचिन और अजहर ने पारी को संभाला, लेकिन अजहर 16 रन जोड़कर आउट हो गए. इसके बाद सचिन ने टीम इंडिया का स्कोर 100 के पार कराया. 116 के स्कोर पर सचिन 62 रन बनाकर डोनाल्ड के शिकार हो गए. 

प्रवीण आमरे ने जीत तक पहुंचाया 
इसके बाद कपिल तो ज्यादा देर नहीं टिक सके लेकिन प्रवीण आमरे ने हाफ सेंचुरी लगाकर, आउट होने से पहले टीम को जीत की दहलीज पर ला दिया. वे स्कोर बराबार करने के बाद आउट हो गए. मनोज प्रभाकर ने आमरे का अंत तक साथ दिया और वे किरन मोरे के साथ नाबाद पवेलियन लौटे.

डोनाल्ड-सचिन को मिला मैन ऑफ द मैच
एनल डोनाल्ड ने मेहमान टीम के लिए 8.4 ओवर में 29 रन देकर पांच विकेट लिए उन्हें सचिन तेंदुलकर के सात मैन ऑफ द मैच का खिताब दिया गया.