VIDEO: अंपायर की गफलत का शिकार हुए धोनी और पलट गई पूरी बाजी

महेंद्र सिंह धोनी ने 51 रन की पारी खेली. उन्होंने 13 महीने और 22 मैच बाद अर्धशतक बनाया है. 

VIDEO: अंपायर की गफलत का शिकार हुए धोनी और पलट गई पूरी बाजी
महेंद्र सिंह धोनी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में 4 रन पर 3 विकेट गंवाने के झटकों से उबरकर मैच में वापसी कर रही थी. महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा 137 रन की साझेदारी कर चुके थे. खेल का पहला पड़ाव शांति से पार करने के बाद भारत अब ऑस्ट्रेलिया पर चढ़ाई करने की ओर बढ़ रहा था, लेकिन तभी एक गफलत हो गई और यही मैच का टर्निंग प्वाइंट साबित हुई. दिलचस्प बात यह रही कि गफलत अंपायर के फैसले के चलते हुई और इसका खामियाजा भारत को मैच हारकर चुकाना पड़ा. 

यह पूरा मामला महेंद्र सिंह धोनी के आउट होने से जुड़ा है. धोनी ने संकट के समय पूरे संयम से बेहतरीन पारी खेली. जब भारतीय पारी का 33वां ओवर शुरू हुआ तो वे 51 रन पर नाबाद थे. रोहित शर्मा ने बेहरेनडॉर्फ के इस ओवर की पहली गेंद पर एक रन लिया. दूसरी गेंद धोनी ने खेली. जेसन बेहरनडॉर्फ की यह ओवरपिच गेंद धोनी के पास पहुंची. धोनी ने इसे फ्लिक करने की कोशिश की, लेकिन वे चूक गए. धोनी का चूकना कोई ऐसी गलती नहीं थी, जो किसी टीम पर भारी पड़ती. लेकिन इस गेंद पर अंपायर भी चूक गए, जो भारत पर भारी पड़ गई.  

यह भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया 1000 मैच जीतने वाला पहला देश बना, भारत को 122वीं बार हराया, देखें पूरी लिस्ट

दअरसल, बेहरेनडॉर्फ की यह गेंद लेग स्टंप के बाहर पिच हुई थी. यानी, नियमानुसर इस गेंद पर कोई भी बल्लेबाज एलबीडब्ल्यू आउट नहीं हो सकता. लेकिन अंपायर शायद यह ठीक से नहीं देख पाए कि गेंद लेग स्टंप के बाहर पिच हुई है. इसी कारण उन्होंने उंगली ऊपर उठा दी. धोनी आउट हो चुके थे. कहते हैं करेला, वो भी नीम चढ़ा. धोनी पर यही कहावत लागू हो गई. उन्हें आउट तो गलत दिया ही गया. उनकी मुश्किल इसलिए भी बढ़ गई कि अंबाती रायडू डीआरएस गंवाकर पैवेलियन लौटे थे. यानी धोनी यह जानते हुए भी कि शायद वे आउट नहीं हैं, वे डीआरएस नहीं ले पाए. इस तरह उन्हें पैवेलियन लौटना पड़ा. उन्होंने 13 महीने और 22 मैच बाद अर्धशतक बनाया है. 

 

 

यह दावा तो नहीं किया जा सकता कि धोनी आउट नहीं होते तो टीम इंडिया जीत ही जाती, लेकिन यह तो तय है कि ऑस्‍ट्रेलिया के लिए जीत इतनी आसान नहीं होती. धोनी जब आउट हुए तब भारत को जीत के लिए 106 गेंदों में 148 रन की जरूरत थी. धोनी के आउट होने के बाद दिनेश कार्तिक और रवींद्र जडेजा भी जल्दी ही आउट हो गए. 

दिनेश कार्तिक और रविंद्र जडेजा केे आउट होने के बाद रोहित ने अपनी सेंचुरी पूरी की और ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाजों पर दबाव बनाए रखा. लेकिन उनका अकेला संघर्ष 46वें ओवर में खत्‍म हो गया जब स्‍टोइनिस की गेंद पर एक और बड़ा शॉट लगाने के प्रयास में वे आउट हो गए. इसके साथ ही टीम इंडिया की हार तय हो गई थी.