Breaking News
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्राइवेट लैब को कोरोना जांच के लिए टेस्ट फीस लेने की अनुमति नहीं होनी चाहिए
  • मुंबई के बांद्रा के भाभा अस्पताल की 15 नर्सों को क्‍वारंटाइन किया गया
  • कोरोना के बीच डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये लोग योद्धा हैं

U19 World Cup: रोमांचक फाइनल में बांग्लादेश ने भारत को हराया, पहली बार जीता खिताब

ICC U19 Cricket World Cup: उतार चढ़ाव भरे मैच  में बांग्लादेश ने भारत पर तीन विकेट से जीत दर्ज की. 

U19 World Cup: रोमांचक फाइनल में बांग्लादेश ने भारत को हराया, पहली बार जीता खिताब

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम को आईसीसी अंडर 19 विश्व कप (ICC U19 World Cup 2020) के फाइनल मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा. भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश को 178 रन का टारगेट दिया, जिसे बांग्लादेश की टीम ने डकवर्थ लुईस नियम के तहत तीन विकेट से हरा दिया. 

41 ओवर में बारिश के कारण मैच रोक दिया था जिसके बाद उसे 46 ओवर में 170 रन का टारगेट मिला. तब तक टीम 163 रन बना चुकी थी. फिर खेल शुरु होने के बाद सात गेंद रहते ही टीम ने यह जरूरी सात रन बना लिए. और बांग्लादेश को तीन विकेट से विजयी घोषित कर दिया. 

इस मैच में भारत ने 33 अतिरिक्त रन दिए जो उसे बहुत महंगे पड़े. शुरुआती ओवर में विकेट न  मिलना भी भारत के लिए बहुत नुकसानदायक रहा. साथ ही भारतीय बल्लेबाजों की नाकामी भी भारतीय पर भारी पड़ी.

यह भी पढ़ें: U19 World Cup Final: फिर छाए यशस्वी, 50 लगाते ही छक्के से पूरे किए टीम के 100 रन

बांग्लादेश के लिए सबसे ज्यादा रन 47 रन परवेज हुसैन ने बनाए. उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया.  वहीं अकबर अली ने भी अंत में शानदार 43 रन की पारी खेली. वहींभारत की ओर से रवि बिश्नोई सबसे सफल गेंदबाज रहे. उऩ्होंने 10 ओवर में 30 रन देकर शुरु के चार विकेट लिए. एक समय बांग्लादेश का 85 रन पर 5 विकेट हो गया था. उसके बाद बांग्लादेश की वापसी हुई लेकिन 143 रन तक सात विकेट गिरने के बाद भारतीय टीम की वापसी तो हुई, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी और बारिश भी टीम इंडिया की मदद नहीं कर सकी. 

बांग्लादेश की टीम की शुरुआत अच्छी रही. परवेज इमोन और तंजिद हुसैन ने 9 ओवर से पहले ही अपनी टीम के लिए 50 रन बटोर लिए. वहीं भारतीय पेसर्स कुछ भटकते दिखे. 9वें ओवर में रवि बिश्नोई ने भारत को पहली सफलता तंजिद के विकेट से दिलाई. इसके बाद विश्नोई ने 13वें ओवर में 62 के स्कोर पर मेहमूदुल हसन जॉय को बोल्ड कर दिया, उन्हीं के साथ परवेज हुसैन इमोन भी चोट के कारण पवेलियन लौट गए.

रवि विश्नोई के चार विकेट
इसके बाद 62 रन पर दूसरा विकेट विश्नोई ने 13वें ओवर में गिरा दिया. यहीं पर परवेज हुसैन भी चोट के कारण पवेलियन लौट गए. फिर विश्नोई ने अपने अगले ही ओवर में तौहीद हिरदो को जीरो पर आउट कर तीसरा विकेट ले लिया. दो ओवर बाद ही सुशांत ने शमीम हुसैन को आउट कर 85 के स्कोर पर बांग्लादेश का पांचवा विकेट गिरा दिया. वहीं 100 रन पूरे होते ही बांग्लादेश का छठा विकेट अभिषेक दास के तौर पर गिर गया. उन्हें सुशांत मिश्रा ने त्यागी से कैच कराया. 

छठा विकेट गिरने के बाद परवेज हुसैन इमोन मैदान पर वापस बल्लेबाजी करने आए जो रिटायर होकर पवेलियन लौट गए थे. यहां से फिर एक साझेदारी बनती दिखी. लेकिन भारतीय टीम मैच में तब भी बनी रही. 32वें ओवर में 143 के स्कोर पर इमोन को यशस्वी जायसवाल ने आउट किया और भारत को मैच में ला दिया. 

इससे पहले सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल (88) की संघर्षपूर्ण पारी के बावजूद भारत 177 रनों का स्कोर ही बना सका. टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत काफी खराब रही और टीम ने नौ रन के अंदर ही दिव्यांश सक्सेना (2) का विकेट गंवा दिया. इसके बाद जायसवाल और तिलक वर्मा (38) ने दूसरे विकेट लिए 94 रन की साझेदारी करके भारत को संकट से बाहर निकालने की कोशिश की.

हालांकि तभी तिलक भी आउट हो गए. तिलक ने 65 गेंदों पर तीन चौके लगाए. इसके बाद भारतीय टीम नियमित अंतराल पर विकेट गंवाती चली गई. हालांकि जायसवाल ने एक छोर संभाले रखा. जायसवाल जब तक विकेट पर ऐसा लग रहा था कि भारतीय टीम 225 के आसपास तक पहुंच जाएगी.

लेकिन जायसवाल भी टीम के 156 के स्कोर पर चौथे विकेट के रूप में आउट हो गए. जायसवाल ने 121 गेंदों पर आठ चौके और एक छक्का लगाया. उनके आउट होने के बाद टीम कुछ खास नहीं कर सकी और 177 रन तक ही पहुंच सकी.

कप्तान प्रियम गर्ग ने सात, ध्रुव जुरेल ने 22, अथर्व अंकोलेकर ने तीन, रवि बिश्नोई ने दो, सुशांत मिश्रा ने तीन और आकाश सिंह ने नाबाद एक रन बनाया. बांग्लादेश की ओर से अविषेक दास ने तीन और शारिफुल इस्लाम तथा तंजीम हसन शाकिब ने दो-दो जबकि राकिबुल हसन ने एक विकेट अपने नाम किए.