दो पूर्व कप्तानों ने भी की भारतीय U-19 टीम की निंदा, BCCI से की यह गुजारिश

U19 World Cup: फाइनल मैच के बाद बांग्लादेश और भारतीय खिलाड़ियों के बीच धक्का मुक्की हुई थी जिस पर आईसीसी ने कड़ी कार्रवाई  भी की थी. 

दो पूर्व कप्तानों ने भी की भारतीय U-19 टीम की निंदा, BCCI से की यह गुजारिश
दोनों टीमों के खिलाड़ियों ने फाइनल में भी काफी आक्रामकता दिखाई थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान कपिल देव और मोहम्मद अजहरुद्दीन को भी भारतीय अंडर 19  वर्ल्ड कप (ICC U19 World Cup) के फाइनल मुकाबले में भारतीय खिलाड़ियों के बर्ताव ने निराश किया है. इससे पहले पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी ने भी खिलाड़ियों के बर्ताव पर नाराजगी जाहिर की थी. अब कपिल और अजहर ने आगे बात कर बीसीसीआई से कार्रवाई की गुजारिश की है. 

दक्षिण अफ्रीका के  इस मुकाबले के खत्म होने के बाद बांग्लादेश और भारतीय खिलाड़ियों के बीच धक्का मुक्की की नौबत आ गई थी. इस मैच में बांग्लादेश ने भारतीय टीम को डकवर्थ लुईस नियम से तीन विकेट से हरा दिय़ा था. जिसके बाद दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच धक्कामुक्की और कहा सुनी की घटना हुई. 

यह भी पढ़ें: IND vs NZ: वनडे सीरीज में क्लीन स्वीप, फिर भी टीम इंडिया ने हासिल किया बहुत कुछ

कपिल के हवाले से एक अंग्रेजी अखबार ने कहा, "मैं चाहूंगा कि बोर्ड खिलाड़ियों के बीच कड़ी कार्रवाई करे और एक मिसाल पेश करे. क्रिकेट विरोधियों को गाली देने के लिए नहीं है. मुझे विश्वास है कि इन युवाओं के खिलाफ कड़े कदम उठाने के लिए बोर्ड के पास पर्याप्त कारण होंगे."

कपिल ने कहा, "मैं भी आक्रामकता का समर्थक हूं, इसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन यह नियंत्रित होना जरूरी है. अब हद पार नहीं कर से सकते. मैं कहूंगा कि युवाओं का मैदान पर इस तरह का बेहूदा प्रदर्शन स्वीकार्य नहीं है."

Kapil dev Azharuddin 22

वहीं टीम इंडिया के एक और पूर्व  कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने भी कपिल का समर्थन किया और कहा कि खिलाड़ियों को अनुशासित होना चाहिेए. मैं इन युवाओं पर कार्रवाई तो करूंगा, लेकिन यह भी जानना चाहूंगा कि सपोर्ट स्टाफ की उन्हें प्रशिक्षित करने की क्या भूमिका रही. इससे पहले की देर हो एक्शन लिया जाना चाहिए. इन खिलाड़ियों को अनुशासन में रहना ही होगा." 

यह भी पढ़ें: नेपाल ने अमेरिका को न्यूनतम स्कोर पर किया आउट, एक रिकॉर्ड बनाया तो दूसरे से चूके

भारत के पूर्व टेस्ट स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने भारतीय खिलाड़ियों के इस बर्ताव की आलोचना की थी. उन्होंने कहा था, "आप खराब बल्लेबाजी खराब, गेंदबाजी, खराब फील्डिंग करते हो, यह सब चलता है क्योंकि यह खेल का हिस्सा है. लेकिन मैदान के अंदर विपक्षी खिलाड़ियों के साथ धक्का मुक्का करना अशोभनीय है. इस उम्र की मासूमियत बिल्कुल नहीं दिख रही थी."

इस मामले में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने इस पर सख्त रुख अपनाते हुए बांग्लादेश के तौहीद हिरदोई, शमीम हुसैन, और रकिबुल हसन पर और भारतीय के आकाश सिंह और रवि विश्नोई को कड़ी सजा दी थी.
(इनपुट आईएएनएस)