close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: भुवी ने फिंच को लगातार तीसरी बार किया आउट, इस बार किया एलबीडब्ल्यू

भुवनेश्वर कुमार ने  मेलबर्न में भी एरोन फिंच को परेशान कर सीरीज में तीसरी बार उनका विकेट लिया

VIDEO: भुवी ने फिंच को लगातार तीसरी बार किया आउट, इस बार किया एलबीडब्ल्यू
भुवनेश्वर कुमार ने तीनों वनडे मैचों में भारत को पहली सफलता दिलाई. (फोटो: PTI)

मेलबर्न: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज के तीसरे और आखिरी वनडे मैच में भुवनेश्वर कुमार ने एक बार फिर टीम इंडिया को शानदार शुरुआत दिलाई. पहले पारी के तीसरे ओवर में एलेक्स कैरी को दूसरी स्लिप पर कप्तान विराट कोहली के हाथों लपकवाया और उसके बाद 9वें ओवर में उनसे खासे परेशान फिंच को भी एलबीडब्ल्यू कर दिया. इसी सीरीज के हर मैच में भुवनेश्वर कुमार ने फिंच को आउट किया. 

भुवनेश्वर ने तीनों ही मैच में टीम इंडिया को पहला विकेट भी दिलाया. पहले दो वनडे में तो भुवी ने एरोन फिंच को बोल्ड आउट किया. मजेदार संयोग यह है कि दोनों बार फिंच 6 रन के निजी स्कोर पर बोल्ड हुए और दोनों ही बार वे इंस्विंगर पर बीट होकर बोल्ड हुए. तीन वनडे मैचों की सीरीज का यह तीसरा और निर्णायक मैच है. पहला वनडे ऑस्ट्रेलिया ने 34 रनों से जीता था, वहीं दूसरे वनडे में टीम इंडिया ने वापसी की और मैच 6 विकेट से जीत कर सीरीज 1-1 से बराबर कर ली थी.

इस बार जल्दी तो नहीं लेकिन भुवी का शिकार बन ही गए फिंच
मेलबर्न में भी फिंच के सामने भुवनेश्वर कुमार का सामना करने की चुनौती थी. इस बार वे भुवी के शिकार जल्दी नहीं बने. लेकिन इस मैच में भी भुवी ने पांच ओवर के पहले ही भारत को पहली सफलता दिलाई. इस बार उन्होंने एलेक्स कैरी का विकेट लिया. कैरी 11 गेंदों पर 5 रन बनाकर आउट हुए.  इसके बाद फिंच ने उस्मान ख्वाजा के साथ पारी को आगे बढ़ाने की कोशिश की, लेकिन वे सहज नजर नहीं आए. खासतौर पर भुवनेश्वर कुमार के अलावा दूसरे गेंदबाजों की गेंदों पर भी वे कई बार बीट हुए. अंततः भुवी को सफलता पारी के 9वें और उनके पांचवे ओवर में मिली. फिंच इस बार एलबीडब्ल्यू हो गए. फिंच 24 गेंदों पर एक चौके के साथ केवल 14 रन बनाकर आउट हुए. 

इस सीरीज में एरोन फिंच शुरू से ही सहज नजर नहीं आ रहे थे. इससे पहले भी फिंच टेस्ट सीरीज और टी20 सीरीज में सफल नहीं हो सके थे. सिडनी में हुए पहले वनडे में फिंच ने टॉस जीत पहले बल्लेबाजी लेते हुए कहा था कि उनका जोर अंत तक विकेट बचाने पर रहेगा. कुछ ऐसा ही रवैया दूसरे और तीसरे वनडे में भी दिखाई दिया.